Asianet News Hindi

बचपन से डालें बच्चों में भारतीय मूल्यों के बीज, आखिर यही तो देश के निर्माता हैं

देश के बड़े बुजुर्ग होने के नाते हमें हमें अपनी युवा पीढ़ी में अपनेपन की भावना पैदा करने के लिए युवाओं तक अधिक से अधिक पहुंच बनाने की जरूरत है। इसके माध्यम से ही हम अपने देश के भावी नेताओं का निर्माण कर सकते हैं, जो हमारे देश की सेवा करने के लिए किसी भी हद तक जाने के लिए तैयार रहेंगे। 

we need to engage more with our youth so that they understand indian values and heritage kpt
Author
New Delhi, First Published Mar 14, 2020, 3:11 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

हमें अपने बच्चों में उनकी बढ़ती उम्र से ही भारतीय संस्कृति और राष्ट्रवाद के बीज डालने चाहिए। उन्हें इंडियन वैल्यूज के बारे में बातचीत के जरिए सिखाया जाना चाहिए। जब वो अपने घरों में बढ़ रहे होते हैं तभी अपने देश से प्यार करना सीखते हैं। तभी वे भारत की विविधता, विरासत और इतिहास को अच्छी तरह समझ सकते हैं। इस तरह वे अपने देश को बेहतर बनाने का प्रयास करते हैं। इसलिए मुझे लगता है कि मुझे वास्तव में अपने माता-पिता, शिक्षकों और अपनी जिंदगी में मिले हर उस शख्स का शुक्रिया अदा करना चाहिए जिसने मुझे भारतीय मूल्य दिए। यहां तक ​​कि विदेश यात्रा के दौरान भी मैंने हमेशा अपने देश को दिल के करीब पाया। मैं जानता था कि, मैं अपने देश अपने भारत में वापस आना लौट आना चाहता हूं। मैं अपने राष्ट्र की सेवा करना चाहता हूं।

देश के बड़े बुजुर्ग होने के नाते हमें हमें अपनी युवा पीढ़ी में अपनेपन की भावना पैदा करने के लिए युवाओं तक अधिक से अधिक पहुंच बनाने की जरूरत है। इसके माध्यम से ही हम अपने देश के भावी नेताओं का निर्माण कर सकते हैं, जो हमारे देश की सेवा करने के लिए किसी भी हद तक जाने के लिए तैयार रहेंगे। 

हमें युवाओं को एकता, हमारी विरासत और राष्ट्रवाद के सही मूल्य को समझाने की आवश्यकता है जो हमारे देश की समृद्धि के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण हैं। वे हमारे भविष्य के नेता हैं और उन्हें हमारी विरासत के मूल्य को जानने और उसे आत्मसात करने की आवश्यकता है। इतने सालों के संघर्ष के बाद अब जब हमारे पास एक मजबूत देश है, तो हम सभी को एक ही आशा, आकांक्षाओं और सपनों से बंधे होना चाहिए। हम सभी को समझने की जरूरत है कि हम पहले भारतीय हैं। इतिहास इस बात का प्रमाण है कि जब हम एक साथ एक देश के रूप में एकजुट होते हैं, तो हम किसी भी चुनौती और समृद्धि को पार कर सकते हैं!

हमारे देश के युवाओं में हमारे राष्ट्र को बदलने की शक्ति है; बेहतर या बदतर के लिए। यदि उन्हें अच्छे और सकारात्मक मूल्य सिखाए जाते हैं, तो वे अपने साथियों को एक मजबूत राष्ट्र के निर्माण में योगदान देंगे। हमें उन्हें भारतीय और वैदिक मूल्यों की सुंदरता दिखाने की जरूरत है जो उन्हें हमारे राष्ट्र के लिए सही ध्वजवाहक बनने में मदद करेंगे। हमारे देश के लिए राष्ट्रवाद, प्रेम और सम्मान की भावना राष्ट्र के लिए उनकी सेवा के लिए एकमात्र प्रेरणा होनी चाहिए। उन्हें भारतीय होने पर गर्व करना सीखना चाहिए और भारत की समृद्धि के लिए हमेशा प्रयास करना चाहिए।

लेकिन, आजकल के युवा इन मूल्यों से कोसों दूर हैं। देश का युवा अब हर चीज के लिए विद्रोही बन बैठा है। यह हम सभी के लिए सच है लेकिन हमें सिखाया गया था कि किन लड़ाईयों को लड़ने की जरूरत है और हमें हमारे बुजुर्गों ने एक दिशा दी है। आज के युवाओं को सिस्टम के विरोधी होने के लिए उकसाया जाता है क्योंकि यह उन्हें "कूल" लगता है। वे यह समझने में विफल हैं कि एकमात्र स्थापना जो एक एकजुट देश के लिए लड़ रही है वह भारत सरकार है। बाकी संगठन विभाजनकारी विचारों के आधार हैं जो युवाओं को गुमराह कर रहे हैं। छोटे बच्चे धीरे-धीरे इनके बहकावे में आकर इनसे प्रभावित हो रहे हैं।

देश के व्यस्क और जिम्मेदार नागरिक होने के नाते मुझे लगता है कि जहां हम आज हैं, वहां पहुंचने के लिए हमने अपनी लड़ाई लड़ी है। हमें आज के युवाओं के साथ जुड़ना चाहिए और हमें उन मूल्यों को सिखाना चाहिए जो हमारे बुजुर्गों ने हमें सिखाए थे। हम यूटोपिया की बात करने वाले हाथ-कुर्सी के प्रचारक नहीं हो सकते! इसलिए, उनके साथ जुड़ने के लिए, युवाओं तक पहुंचने के लिए हमें सोशल मीडिया का उपयोग करना चाहिए। Instagram, Facebook, Twitter और TikTok हमारे जाने का रास्ता होना चाहिए। हमें पता होना चाहिए कि ये हमारे युवाओं तक पहुंचने के एकमात्र साधन हैं। बदलते समय के साथ हमारे तरीके भी बदलने चाहिए। डिजिटलाइजेशन के आगमन के साथ, मूल्यों को डिजिटल रूप से भी पढ़ाया जाना चाहिए। मुझे यकीन है कि हमारे बच्चे समझेंगे कि क्या हमारे मूल्यों को उनके तरीके से सिखाया जाता है! आखिरकार, हमारे भारतीय और वैदिक मूल्य बदलते समय के अनुसार ढालने और ढालने के लिए प्रकृति में अत्यंत परिवर्तनकारी हैं!

यह तभी हो सकता है है जब हम अपने बच्चों से जिम्मेदार नागरिकों की तरह व्यवहार करने की उम्मीद कर सकते हैं। वे हमारे देश का भविष्य हैं और यह हमारे भविष्य को उज्ज्वल बनाने के लिए हैं। हमें अपने समाज और हमारे देश के मूल्यों की रक्षा और संरक्षण के लिए उन्हें सिखाने की जरूरत है। हमें उन्हें हमेशा शिकायत करने, आलोचना करने और सरकार को चुनने से रोकने की जरूरत है। बल्कि, हमें उन्हें इस राष्ट्र के विकास और विकास के लिए काम करना सिखाना चाहिए। हमें उन्हें अपने राष्ट्र से बिना शर्त प्यार करना सिखाना चाहिए और देखना चाहिए कि राष्ट्र ने उन्हें क्या दिया है और वे भविष्य में राष्ट्र को क्या दे सकते हैं? हमें उन्हें सभी प्रतिकूलताओं के संदर्भ में एकजुट होने के लिए सिखाने की जरूरत है और हमारे देश को सभी विकट परिस्थितियों से बाहर लाना है।

हमें अपने सभी कार्यों और कर्मों में हमारे भारतीय मूल्यों को आत्मसात करने के लिए उन्हें सिखाना होगा। आखिरकार, हमसे बेहतर कौन उन्हें सिखा सकता है कि यह तभी हो सकता है जब हम एकजुट रहें और अपने राष्ट्र के प्रति समर्पित रहें। इससे हम सभी मुश्किलों के खिलाफ जंग जीत सकते हैं और एक मजबूत और समृद्ध राष्ट्र के रूप में बढ़ सकते हैं!

कौन हैं अभिनव खरे

अभिनव खरे एशियानेट न्यूज नेटवर्क के सीइओ हैं और 'डीप डाइव विद एके' नाम के डेली शो के होस्ट भी हैं। उनके पास किताबों और गैजेट्स का बेहतरीन कलेक्शन है। उन्होंने दुनिया के करीब 100 से भी ज्यादा शहरों की यात्रा की है। वे एक टेक आंत्रप्रेन्योर हैं और पॉलिसी, टेक्नोलॉजी. इकोनॉमी और प्राचीन भारतीय दर्शन में गहरी रुचि रखते हैं। उन्होंने ज्यूरिख से इंजीनियरिंग में एमएस की डिग्री हासिल की है और लंदन बिजनेस स्कूल से फाइनेंस में एमबीए हैं।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios