Chhath Puja 2021: दिल्ली में सार्वजनिक रूप से छठ पूजा की अनुमति, ऐहतियात के साथ होगी सख्ती, जानिए गाइडलाइन

| Oct 28 2021, 11:27 AM IST

Chhath Puja 2021: दिल्ली में सार्वजनिक रूप से छठ पूजा की अनुमति, ऐहतियात के साथ होगी सख्ती, जानिए गाइडलाइन

सार

दिल्ली में कोरोनावायरस (coronavirus) का कहर अब कम है। ऐसे में दिल्ली सरकार ने लोकआस्था का महापर्व छठ पूजा (Chhath Puja 2021) को लेकर बड़ा फैसला किया है। डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया (Deputy CM Manish Sisodia) ने कहा कि दिल्‍ली में अब सार्वजनिक रूप से छठ पूजा मनाई जा सकेगी, लेकिन कोरोना के चलते जरूरी ऐहतियात बतरना होगा और सख्ती भी रहेगी। जानिए, दिल्ली सरकारी तैयारियों के बारे में...
 

नई दिल्ली। देश की राजधानी दिल्ली (Delhi) में कोरोनावायरस (coronavirus) की रफ्तार थमी तो इस साल घाटों पर सार्वजनिक रूप से छठ पूजा  (Chhath Puja 2021) मनाने की इजाजत दे दी गई है। दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया (Manish Sisodia) ने इस संबंध में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि DDMA की बैठक में यह फैसला लिया गया है कि दिल्ली में छठ पूजा की इजाजत दी जाएगी। यह सरकार द्वारा पहले से तय किए गए स्थानों पर सख्त प्रोटोकॉल के साथ मनाया जाएगा। पूजा के दौरान घाट पर कोरोना प्रोटोकॉल का पालन किया जाएगा और सीमित संख्या में लोगों को अनुमति दी जाएगी। 

बता दें कि दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (DDMA) ने 30 सितंबर को अपने आदेश में नदी के तट, जलाशय और मंदिरों में छठ के आयोजन पर रोक लगा दी थी। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) ने इस महीने की शुरुआत में उप राज्यपाल अनिल बैजल ( Lieutenant Governor Anil Baijal) को पत्र लिखकर दिल्ली में छठ पूजा के आयोजन की अनुमति देने का अनुरोध किया था। इधर, उत्तर पूर्वी दिल्ली से सांसद तिवारी ने छठ के आयोजन पर प्रतिबंध का कड़ा विरोध किया था। उन्होंने मंगलवार को छठव्रतियों का टीकाकरण अभियान चलाने की घोषणा की थी ताकि त्योहार को सुरक्षित रूप से मनाया जा सके। अभियान के तहत पूरे शहर में 10 हजार से ज्यादा लोगों को टीका लगाया जाना है।

Subscribe to get breaking news alerts

इस साल 8 नवंबर से छठ पूजा...
बिहार और पूर्वी उत्तर प्रदेश के लोग दिवाली के बाद छठ पर्व मनाते हैं, जिसमें छठव्रती घुटने तक पानी में उतरकर सूर्य देव को ‘अर्घ्य’ देते हैं। दिवाली के छह दिन बाद से छठ पूजा शुरू हो जाती है। ये चार दिन तक चलती है। इस बार छठ पूजा 8 नवंबर से शुरू होगी। छठ पूजा में अस्ताचलगामी सूर्य को 10 नवंबर और उगते सूरज को 11 नवंबर को अर्घ्‍य दिया जाएगा। इसे लेकर बिहार, दिल्ली समेत सभी बड़े महानगरों में छठ पूजा करने वालों में खासा उत्साह है। घाटों पर अभी से तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। पटना में खुद बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार व्यवस्थाओं की मॉनिटरिंग कर रहे हैं।

बिहार में सलाखों के पीछे भी मना छठ पर्व, जेल में खूब गूंजे छठ मईया का गीत, देखें वीडियो

यह शर्तें रहेंगी..

  • दिल्ली सरकार छठ पूजा कमेटियों के साथ मिलकर अलग-अलग घाट बनाती रही है। इस बार भी ऐसे घाटों की एक सूची तैयार की जाएगी। उन घाटों पर पूजा के लिए इंतजाम किए जाएंगे। 
  • कोविड प्रोटोकॉल के तहत ही छठ पूजा की अनुमति होगी।
  • छठ पूजा के लिए सीमित संख्या में लोगों को आने की इजाजत होगी।
  • लोगों को मास्क, सैनिटाइजर और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा।
  • इस साल भी दिल्ली में प्रदूषण को देखते हुए पटाखों पर भी बैन लगाया गया है।
  • यानी आतिशबाजी नहीं होगी। शांत माहौल में ही त्योहार मनाना होगा। 

श्रद्धालुओं के लिए विशेष टीकाकरण अभियान
दिवाली के बाद छठ महापर्व के दौरान कोरोना विस्फोट ना हो, इसके लिए भी तैयारियां की जा रही हैं। केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने मंगलवार को दिल्ली के छठ व्रतियों के लिए एक खास टीकाकरण अभियान की शुरुआत की थी। उन्होंने उत्तर पूर्वी दिल्ली के बुराड़ी इलाके के इब्राहीमपुर गांव में अभियान की शुरुआत की। केंद्रीय मंत्री के साथ भाजपा के सांसद मनोज तिवारी भी थे। बाद में पुरी ने कार्यक्रम की तस्वीरें शेयर कीं और भोजपुरी में एक ट्वीट में 'छठी मैया' से सभी के लिए आशीर्वाद मांगा।

छठ पूजाः कोरोना काल में अस्‍ताचलगामी सूर्य को दिया गया पहला अर्घ्‍य, देखिए 11 तस्वीरें

पुरी ने ट्वीट में लिखा-
‘जय छठी मैया! बुराड़ी के भाइयों और बहनों को बधाई। आज उत्तर-पूर्वी दिल्ली के सांसद मनोज तिवारी बुराड़ी विधानसभा क्षेत्र में मौजूद हैं। छठ पर्व की तैयारी के तहत आज हमने मनोजजी के साथ मिलकर छठ व्रतियों के लिए विशेष टीकाकरण अभियान की शुरुआत की है। छठी बैया हम सब पर अपनी कृपा करें!’ 

बता दें कि दिल्ली में कोरोनावायरस के अब तक कुल 14 लाख, 39 हजार, 671 केस सामने आए, इनमें से 323 एक्टिव मरीज हैं। जबकि 25 हजार, 91 की मौत हो गई। 

 
Read more Articles on