Asianet News Hindi

प.बंगाल: सरकार की केंद्र से अपील, राज्यपाल की सुरक्षा CRPF को सौपनें पर करें पुनर्विचार

छात्र संघों द्वारा यादवपुर विश्वविद्यालय परिसर में राज्यपाल का वाहन रोके जाने के बाद उनकी सुरक्षा को ‘जेड’ से ‘जेड प्लस’ श्रेणी करने का राज्य सरकार से अनुरोध किया गया था। दरअसल, केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो के साथ विश्वविद्यालय में धक्का-मुक्की की गई थी और राज्यपाल उन्हें बचाने के लिए गए थे, तभी उनका वाहन रोका गया था।
 

goverment asks to re-think on security reasons of governer
Author
kolkata, First Published Oct 23, 2019, 1:38 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

कोलकाता: पश्चिम बंगाल सरकार ने केंद्रीय गृह मंत्रालय से अपील की है कि वह राज्य के राज्यपाल जगदीप धनखड़ की सुरक्षा की जिम्मेदारी सीआरपीएफ को सौंपने के अपने फैसले पर पुनर्विचार करें। राज्य सरकार ने गृह मंत्रालय को एक पत्र लिखकर पूछा कि राज्यपाल की सुरक्षा सीआरपीएफ को सौंपे जाने का फैसला लेने से पहले उससे विचार-विमर्श क्यों नहीं किया गया। सरकार ने राज्यपाल की नियुक्ति के पहले दिन से उन्हें ‘जेड’ श्रेणी की सुरक्षा दी है।

 गृह मंत्रालय से मामले पर पुनर्विचार करने की अपील 

जानकारी के मुताबिक,  राज्य सरकार के सुरक्षा प्रबंध पुख्ता हैं और गृह मंत्रालय से इस मामले पर पुनर्विचार करने की अपील की गई है। धनखड़ ने 30 जुलाई को पश्चिम बंगाल के राज्यपाल के रूप में शपथ ग्रहण की थी। गृह मंत्रालय ने 15 अक्टूबर को आदेश जारी कर सीआरपीएफ को धनखड़ की सुरक्षा की जिम्मेदारी अपने हाथ में लेने का आदेश दिया था। हालांकि मंत्रालय की इस अधिसूचना को जारी किए एक सप्ताह से अधिक समय हो गया है, लेकिन सीआरपीएफ ने राजभवन में राज्यपाल की सुरक्षा का प्रभार अभी नहीं संभाला है।

नया सुरक्षा डिजाइन बनाने को लेकर राज्य पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों और अर्द्धसैन्य बल की बैठकें बेनतीजा रही हैं जिसके कारण सीआरपीएफ के लिए राज्यपाल की सुरक्षा का प्रभार लेना मुश्किल हो गया है।

(यह खबर समाचार एजेंसी भाषा की है, एशियानेट हिंदी टीम ने सिर्फ हेडलाइन में बदलाव किया है।)

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios