Asianet News HindiAsianet News Hindi

Uttarakhand Floods: अब तक 55 की मौत, आज तबाही देखेंगे अमित शाह, UP सरकार 10 करोड़ रुपए की मदद देगी

उत्तराखंड में भारी बारिश, बाढ़, बर्फबारी और लैंड स्लाइड (Uttarakhand Floods) से अब तक 55 लोगों की मौतें होना सामने आया है। बुधवार को चंपावत में चार, उत्तरकाशी में तीन और बागेश्वर में एक की मौत हो गई। नैनीताल जिले में पांच और मौतों की पुष्टि होने से जिले में मौतों की संख्या 30 पहुंच गई। इसी बीच गृहमंत्री अमित शाह (Union Home Minister Amit Shah) गुरुवार सुबह उत्तराखंड के आपदा प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण करेंगे। उनके साथ मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी (CM Pushkar Singh Dhami) भी रहेंगे। आपदा प्रबंधन विभाग ने नुकसान का ब्योरा तैयार कर लिया है जिसे गृहमंत्री के सामने रखा जाएगा। 

Uttarakhand Amit Shah and CM Pushkar Singh Dhami will conduct an aerial survey of flood area in state today and hold review meeting
Author
Dehradun, First Published Oct 21, 2021, 8:44 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

देहरादून। उत्तराखंड में भारी बारिश (Uttarakhand Floods) के चलते हालात काफी बिगड़ चुके हैं। 72 घंटे से मूसलाधार बारिश के कारण कई इलाकों में लैंड स्लाइड (Land slide) की खबरें हैं। अब तक 55 लोगों की मौत हो चुकी है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Union Home Minister Amit Shah) उत्तराखंड में हुई बारिश से तबाही का जायजा लेने के लिए बुधवार देर शाम देहरादून एयरपोर्ट पहुंचे। इस दौरान एयरपोर्ट पर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी (CM Pushkar Singh Dhami) भी मौजूद रहे। गुरुवार को शाह नुकसान पर समीक्षा बैठकें करेंगे और स्थिति का जायजा लेंगे। इसक बाद राज्य में भारी बारिश के बाद हवाई सर्वेक्षण करेंगे।

बाढ़-बारिश से 55 की जान गई
भारी बारिश से प्रभावित उत्तराखंड में बुधवार को 6 और शव बरामद किए गए। फिलहाल, राज्य में मरने वालों की संख्या बढ़कर 52 हो गई। बारिश के चलते हुए भूस्खलन से अनेक सड़कें अवरुद्ध हो गई हैं। कई गांवों में बिजली आपूर्ति भी ठप हो गई है। आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार नष्ट मकानों के मलबे से आज 6 और शव मिले। 5 लोग अब भी लापता हैं और बारिश से जुड़ी घटनाओं में 17 लोग घायल हुए हैं। एक आधिकारिक बयान के अनुसार ज्यादातर लोगों की मौत मकानों के गिरने के कारण हुईं। नैनीताल जिले में ही 28 लोगों की मौत हुई है।

उत्तराखंड: बारिश से हाहाकार, सड़क से लेकर शहर तक डूबे, अब तक 47 की मौत, 7 लापता, तस्वीरों में देखें हालात...

ट्रेकिंग करने वाली टीम के 11 सदस्य लापता
जानकारी के मुताबिक, उत्तराखंड में लापता लोगों के आधिकारिक आंकड़ों में एक ट्रेकिंग टीम के वे 11 सदस्य शामिल नहीं हैं जो उत्तरकाशी से रवाना हुए थे, लेकिन पड़ोसी हिमाचल प्रदेश के चितकुल में अपने गंतव्य पर नहीं पहुंच पाए। इस बीच, सूचना है कि भारत-चीन सीमा के पास एक आईटीबीपी गश्ती दल के साथ जा रहे तीन कुली बर्फ में दब गए और उन्हें मृत माना जा रहा है। एनडीआरएफ ने कहा कि उन्होंने उत्तराखंड के बाढ़ प्रभावित इलाकों से सैकड़ों लोगों को बचाया है। बल ने राज्य में 17 बचाव दल तैनात किए हैं।

उधम सिंह नगर और नैनीताल से 1300 लोगों को निकाला गया
एनडीआरएफ के बचावकर्मियों ने अब तक उधम सिंह नगर और नैनीताल से 1,300 से ज्यादा फंसे लोगों को निकाला है। वे बाढ़ प्रभावित इलाकों में राहत सामग्री भी वितरित कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि उधम सिंह नगर में 6, उत्तरकाशी और चमोली में 2-2 और देहरादून, चम्पावत, पिथौरागढ़ और हरिद्वार में एक-एक टीम को तैनात किया गया है।

उत्तराखंड में फटे बादल: तस्वीरों में तबाही का मंजर, 25 की मौत..बह गए मकान और सड़कों पर डूब गईं कारें

सीएम बोले- घर-घर जाकर दर्द बांट रहा हूं...
इससे पहले मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने बुधवार को कुमाऊं के बारिश प्रभावित इलाकों का दौरा किया और अधिकारियों को नुकसान का आकलन करने के निर्देश दिए। केंद्रीय रक्षा राज्य मंत्री और नैनीताल से सांसद अजय भट्ट और राज्य आपदा प्रबंधन मंत्री धन सिंह रावत के साथ धामी उधम सिंह नगर जिले में जलभराव वाले स्थानों का जायजा लेने के लिए एक ट्रैक्टर पर सवार हुए। उन्होंने कहा- खड़ी फसलों को बड़े पैमाने पर नुकसान पहुंचा है। घरों में पानी घुस गया है। मैं प्रभावित इलाकों में घर-घर जा रहा हूं ताकि लोगों का दर्द बांट सकूं।

प्रदेश को 7 हजार करोड़ का नुकसान
मुख्यमंत्री धामी ने बताया कि प्रदेश में इस आपदा से शुरुआती तौर पर 7 हजार करोड़ के नुकसान का आकलन है। विस्तृत आकलन के लिए सर्वे का कार्य चल रहा है। मृतक आश्रितों का मुआवजा बढ़ाकर 4 लाख रुपए किया गया है।

नैनीताल: भारी बारिश से भयावह हुई स्थिति, लोगों के लिए देवदूत बनकर पानी में उतरी सेना, देखें Video

बारिश-हिमपात में 110 पर्यटक फंसे 
बागेश्वर में पिंडर नदी पर बने लकड़ी के दो अस्थायी पुल बह गए हैं। पिंडर घाटी की यात्रा पर गए करीब 30 पर्यटक पिंडर के उस पार फंस गए हैं। जिन्हें बचाने के लिए देहरादून से भी एसडीआरएफ की एक टीम भेजी गई है। वहीं, धारचूला में भी पंचाचूली देखने गए 80 पर्यटक दुग्तू और दांतू में फंस गए हैं।

चीन सीमा पर लापता तीन पोर्टरों 
भारत-चीन सीमा पर आईटीबीपी की टीम के साथ लंबी दूरी की गश्त पर गए तीन पोर्टरों की मौत बर्फ में दबने से मौत हो गई है। आईटीबीपी मातली 12वीं वाहिनी के कमांडेंड अभिजीत समैयार ने तीनों पोर्टरों की मौत की पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि आईटीबीपी की ओर से भेजे गए रेस्क्यू दलों ने पोर्टरों के बर्फ में दबकर मौत होने की जानकारी दी है।

इधर, नुकसान की भरपाई के लिए 10 करोड़ रुपए देगी यूपी सरकार
यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उत्तराखंड की त्रासदी में त्वरित सहायता प्रदान करने के लिए ₹10 करोड़ की धनराशि उपलब्ध कराने की घोषणा की। मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से बुधवार को ट्वीट कर यह जानकारी दी गई। मुख्यमंत्री ने उत्तराखंड में अतिवृष्टि से जन-धन की हानि पर संवेदनाएं व्यक्त की हैं। उन्होंने उत्तराखंड के सीएम से बातचीत की और हरसंभव सहयोग प्रदान करने का आश्वासन दिया।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios