Asianet News HindiAsianet News Hindi

Amit Shah बोले- सड़कों पर नमाज करवाती है कांग्रेस, बताओ... तब उत्तराखंड के युवाओं पर गोली किसने चलाई थी

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने देहरादून (Dehrudun) में घसियारी कल्याण योजना (ghasiyari Kalyan yojna) की शुरुआत की और जनसभा में जमकर चुनावी तीर चलाए। शाह ने कांग्रेस (Congress) पर निशाना साधा और कहा- उत्तराखंड (Uttrakhand) के युवाओं पर गोली किसनी चलाई थी, इसे याद कीजिएगा। ये भी दावा किया कि आगामी विधानसभा चुनाव में फिर उत्तराखंड में बीजेपी पूर्ण बहुमत की सरकार बनाएगी। कांग्रेस वाले चुनाव आते ही नए कपड़े सिला लेते हैं। कांग्रेस कभी लोक कल्याण का काम नहीं कर सकती। पीएम मोदी के नेतृत्व में ही गरीबों का कल्याण होगा। मोदी (PM Narendra Modi) लगातार उत्तराखंड को संवारने का काम कर रहे हैं।

uttarakhand dehradun amit shah to address public meeting in dehraudn today and all program details News And Updates
Author
Dehradun, First Published Oct 30, 2021, 9:01 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

देहरादून। केंद्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने शनिवार को देहरादून  (Dehrudun) में 'घसियारी कल्याण योजना' (ghasiyari Kalyan yojna) का शुभारंभ किया। उन्होंने यहां बन्नू स्कूल परिसर आयोजित रैली में कांग्रेस पर जमकर हमला बोला। शाह ने कांग्रेस (Congress) पर तुष्टिकरण का आरोप लगाया। कहा- देवभूमि की रचना करने का काम श्रद्धेय पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी (Atal Bihari Vajpayee) ने किया था। राज्य की मांग करते हुए ना जाने कितने युवा शहीद हो गए थे। बीजेपी (BJP) भी उत्तराखंड (Uttrakhand) के युवाओं के साथ इस मांग को बुलंद कर रही थी तब उत्तराखंड के युवाओं पर गोली किसनी चलाई थी, इसे भी याद कीजिएगा। 

शाह ने कहा कि आगामी विधानसभा चुनाव में फिर उत्तराखंड में बीजेपी पूर्ण बहुमत की सरकार बनाएगी। कांग्रेस वाले चुनाव आते ही नए कपड़े सिला लेते हैं। कांग्रेस कभी लोक कल्याण का काम नहीं कर सकती। कांग्रेस पार्टी वादाखिलाफी करने वाली पार्टी है। पहले जब मैं कांग्रेस सरकार के वक्त उत्तराखंड आया था तो मेरा काफिला रुक गया था। फिर कुछ लोगों ने मुझसे मुलाकात की और मुझे बताया कि शुक्रवार को हाइवे ब्लॉक करने और वहां नमाज करने की अनुमति है। ऐसी तुष्टिकरण की राजनीति करने वाली कांग्रेस पार्टी देवभूमि का विकास नहीं कर सकती है।

देशभर के शिवालयों को जोड़ा जा रहा है
शाह ने कहा कि उत्तराखंड में विकास की बयार तभी आई, जब जनता ने पूर्ण बहुमत की बीजेपी की सरकार बनाई। कोरोना से बचाव के लिए टीके की पहली डोज का शत-प्रतिशत टीकाकरण पूरा करने वाले राज्यों में से एक उत्तराखंड है। शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 5 नवंबर को केदारनाथ धाम में भगवान आदि शंकराचार्य की बहुत बड़ी मूर्ति का शुभारंभ करने वाले हैं, उसके साथ देशभर के शिवालयों को जोड़ा जा रहा है। केदारनाथ का पुनर्निमाण आज पूरा होने वाला है। चारधाम यात्रा के लिए ऑल वेदर रोड का काम भी पूरा होने वाला है।

घसियारी कल्याण योजना का शुभारंभ किया
उन्होंने कहा कि आज उत्तराखंड में दूसरा बहुत बड़ा काम 'मुख्यमंत्री घस्यारी कल्याण योजना का शुभारंभ है। उत्तराखंड में करीब 1 हजार एकड़ की खेती और 2 हजार किसान मक्के की खेती करेंगे और वैज्ञानिक तरीके से पैष्टिक पशु आहार बनाने की योजना की शुरुआत हुई है। योजना के तहत 30 फीसदी सब्सिडी पर दो रुपए प्रति किलो के हिसाब से किसानों को पशु आहार दिया जाएगा। इस तरह के वैज्ञानिक तरीके के चारे से पशुओं का स्वास्थ्य अच्छा होने के साथ-साथ पशुओं की दूध देनी की क्षमता में भी बढ़ोतरी होगी।

कांग्रेस कभी लोककल्याण के कार्य नहीं कर सकती
शाह का कहना था कि सहकारिता आंदोलन को कांग्रेस के राज में कमजोर कर दिया गया था, लेकिन प्रधानमंत्री ने अलग सहकारिता मंत्रालय बनाकर सहकारिता से जुड़े देश के करोड़ों किसान, महिलाएं, मजदूर,  इन सबके कल्याण के लिए बहुत बड़ा काम किया है। कांग्रेस पार्टी भ्रष्टाचार, घपले, घोटाले का पर्याय बनी हुई है। कांग्रेस किसी भी राज्य में कल्याण का कार्य नहीं कर सकती। ना वो गरीबों का सोच सकती है और न अच्छे प्रशासन का सोच सकती है। गरीब कल्याण और अच्छा प्रशासन मोदीजी के नेतृत्व में केवल और केवल भाजपा सरकार दे सकती है।

UP Election 2022 : यूपी की सियासी नब्ज को बखूबी समझते हैं अमित शाह, दो दिवसीय दौरे पर बनाएंगे खास प्लान..

शाह के दौरे के ये भी मायने...
शाह की जनसभा के लिए देहरादून को चुना गया है। इसके जरिये पार्टी गढ़वाल मंडल की 41 विधानसभा सीटों तक सीधी पैठ बना सकती है। चुनाव से ठीक पहले मुख्यमंत्री घसियारी कल्याण योजना लॉन्च कर पार्टी आधी आबादी यानी महिला मतदाताओं को साधने का कार्ड भी चलने जा रही है। इस कार्यक्रम के बाद शाह भाजपा संगठन के साथ मैराथन बैठकें करेंगे और पदाधिकारियों-कार्यकर्ताओं को चुनाव में जीत का मंत्र देंगे। उनका दौरा शाम 7:30 बजे खत्म होगा। इससे पहले वह ​हरिद्वार जाएंगे और वहां संत समाज के साथ भी मुलाकात करेंगे। 

योगी की तारीफ, विपक्ष पर हमले..यूपी दौरे के पहले दिन विकास का विजन दे गए अमित शाह..जानिए उनकी खास बातें...

शाह का मिनट-टू मिनट कार्यक्रम...

  • देहरादून में जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर शनिवार सुबह 10:45 बजे आगमन।
  • जीटीसी हेलिपैड पर 11:05 बजे आगमन।
  • बन्नू स्कूल में 11:20 बजे पहुंचेंगे। यहां जनसभा को संबोधित किया।
  • सरकारी कार्यक्रम के बाद दोपहर 12:35 बजे आईआरडीटी सभागार पहुंचे। 
  • जनप्रतिनिधियों और पदाधिकारियों के साथ बैठक के बाद दोपहर 01:35 बजे भाजपा कार्यालय पहुंचे। 
  • भोजन के बाद दोपहर 02:00 बजे कोर ग्रुप की बैठक ली।
  • जीटीसी हेलिपैड पर दोपहर 03:10 बजे पहुंचे।
  • हरिद्वार में 04:00 बजे शांति कुंज स्थित देव संस्कृति विश्वविद्यालय पहुंचेंगे। 
  • यहां कार्यक्रम के बाद 05:45 बजे कनखल स्थित हरिहर आश्रम जाएंगे। 
  • हरिहर आश्रम कनखल में 5.45 से 6.45 बजे तक संतों से मुलाकात करेंग।
  • वापसी फ्लाइट लेने के लिए 07:25 से 07:35 के बीच जौली ग्रांट एयरपोर्ट पहुंचेंगे। 

यह है घसियारी कल्याण योजना
मुख्यमंत्री घसियारी कल्याण योजना के तहत पशुपालकों को पशुओं के लिए पैक्ड साइलेज (सुरक्षित हरा चारा) रियायती दर पर सहकारिता विभाग मुहैया कराएगा। प्रथम चरण में चार जिलों पौड़ी, रुद्रप्रयाग, अल्मोड़ा और चंपावत में यह योजना शुरू की जा रही है। इससे पर्वतीय क्षेत्र में महिलाओं के सिर से पशुओं के लिए चारा एकत्र करने का बोझ कम होगा।

UP: Amit Shah बोले- 5 साल घर बैठने वाले नए कुर्ते सिलाकर आ गए, अखिलेश से पूछे ये 5 सवाल...

आपत्तिजनक सुर्खियों में घसियारी योजना..
गौरतलब है कि जिस घसियारी योजना के शुभारंभ के लिए शाह उत्तराखंड पहुंच रहे हैं, उससे जुड़ा एक बयान प्रदेश के सहकारिता मंत्री धनसिंह रावत का सामने आया था। इसके बाद प्रदेश कांग्रेस ने उस पर हमला बोला और सरकार की इस योजना पर तंज़ कसा। वहीं, पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत भी उत्तराखंड की महिलाओं के लिए ‘घसियारी’ शब्द पर कड़ी आपत्ति दर्ज कर चुके हैं। कहा जा सकता है कि शाह के दौरे से पहले ही यह योजना आपत्तिजनित सुर्खियों में घिर चुकी है।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios