Asianet News HindiAsianet News Hindi

पंजाब में CM चन्नी ने जनता को दिया दिवाली तोहफा, 3 रुपए बिजली की सस्ती, कर्मचारियों का डीए भी बढ़ाया

पंजाब में अगले साल 2022 यानि तीन महीने बाद विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। इसी बीच मुख्यमंत्री चरणजीत चन्नी ने प्रदेश के जनता को दिवाली गिफ्ट दिया है। 

punjab assembly elections 2O22 CM  charanjit singh channi diwali gift  power to be rs 3 per unit cheaper
Author
Amritsar, First Published Nov 1, 2021, 7:39 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

चंडीगढ़. पंजाब में अगले साल 2022 यानि तीन महीने बाद विधानसभा चुनाव (punjab assembly elections 2O22) होने वाले हैं। इसी बीच मुख्यमंत्री चरणजीत चन्नी (CM  charanjit singh channi) ने प्रदेश के जनता को दिवाली गिफ्ट (diwali gift ) दिया है। सीएम ने ऐलान किया कि घरेलू बिजली की दरें अब 3 रुपए सस्ती होंगी। वहीं राज्य के कर्मचारियों के लिए भी तोहफा देते हुए उनका मंहगाई भत्ते में 11 प्रतिशत बढ़ोतरी की।

सीधे तौर पर एक यूनिट में किए 3 रुपए कम
दरअसल, सोमवार दोपहर को पंजाब सरकार की कैबिनेट मीटिंग थी। इसके बाद सीएम चन्नी ने यह दो अहम फैसले लिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि जो लोग 7 किलोवाट तक बिजली का इस्तेमाल कर रहे हैं उनके लिए राहत की खबर है। अब 100 से 300 यूनिट तक 7 रुपए से घटकर 4.01 रुपए और इसके ऊपर के लिए 5.76 रुपए प्रति यूनिट रेट किया गया है। सीएम ने कहा कि यह आदेश आज से ही लागू होगा।

अब नया बिल हिसाब से आएगा
सीएम चन्नी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए कहा कि पहले 100 यूनिट की खपत तक 1.19 रुपए प्रति यूनिट चार्ज किया जाएगा। वहीं 100 से 300 यूनिट तक होने वाली खपत पर 4 रुपए प्रति यूनिट की दर के हिसाब से बिल आएगा। साथ ही यह भी कहा कि सबका 300 यूनिट बिजली बिल माफ करना मुश्किल है। क्योंकी बिजली विभाग चलाने के लिए यह ढांचा तो जरूरी है। इसके बाद भी पंजाब सरकार 3,316 करोड़ की सब्सिडी देने वाली है। राज्य के करीब 53 लाख लोगों का 1500 करोड़ा बिल हमारी सरकार पहले ही माफ कर चुकी है।

चुनाव से ठीक पहले कांग्रेस का सियासी दांव
बता दें कि आगामी विधानसभा चुनाव में महज दो से तीन महीनों का ही वक्त बचा हुआ है। इससे पहले सीएम चन्नी ने यह कर्मचारियों के हित और राज्य की जनता का दिल जीतने के लिए यह फैसले किए हैं। विपक्ष ने इन ऐलान के बाद सरकार को घेरा है। विपक्ष का कहना है कि यह सब चुनावी वादे हैं। इतने समय से आखिर क्यों यह फैसले नहीं लिए गए। अब जब चुनाव आने वाले हैं तो जनता की याद आने लगी। हालांकि जो भी हो लेकिन कांग्रेस ने यह बड़ा सियासी दांव चला है।
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios