Asianet News HindiAsianet News Hindi

अनोखी प्रेम कहानी: जानें क्यों श्रीकृष्ण को पीना पड़ा था राधा का चरणामृत

देश के कई हिस्सों में आज यानी 26 अक्टूबर को गोवर्धन पूजा (Govardhan Puja 2022) मनाई जा रही है। श्रीकृष्ण और गोवर्धन की पूजा की जा रही है। इस मौके पर हम आपको श्रीकृष्ण और राधा के बीच की वो कहानी बताने जा रहे हैं जो बहुत ही कम लोगों को पता है। 

Govardhan Puja 2022 shri krishna drink water from radha feet radha know krshina true love story NTP
Author
First Published Oct 26, 2022, 9:35 AM IST

रिलेशनशिप डेस्क. श्रीकृष्ण और राधा के प्रेम कहानी की मिसाल दी जाती है। भले ही दोनों विवाह के बंधन में नहीं बंधे, लेकिन इनका प्रेम अमर है। रुक्मणी के कृष्ण, राधा के प्रेम में इस कदर समर्पित थे कि आज भी उनके नाम से पहले राधा रानी का नाम लिया जाता है। उनके मन में बस राधा थी। उनकी बांसुरी भी बस राधा के लिए ही बजी। कहा जाता है कि जब वो ब्रज छोड़ रहे थे तो अपनी बांसुरी राधा को देकर आ गए थे। जिसके बाद राधा प्रेम दिवानी बांसुरी बजाने लगी थीं। इनके प्रेम की हजारों कहानियां है। एक कहानी राधा के चरणामृत की है जिसे कान्हा ने पिया था। 

एक बार गंभीर रूप से कृष्ण पड़ गए थे बीमार

बताया जाता है कि एक बार श्रीकृष्ण बहुत बीमार पड़ गए। उन्हें वैद्य ने तरह-तरह की जड़ी-बूटियां दी। लेकिन वो ठीक नहीं हो पा रहे थे। पूरा ब्रज उनकी सेहत को लेकर चिंता में था। इसके बाद श्रीकृष्ण ने गोपियों से कहा कि वे अपना चरणामृत उन्हें पिलाएं तो उनकी सेहत ठीक हो जाएगी।  कन्हैया का मानना था कि अपने किसी खास भक्त के पैरों का जल पीने से उनकी बीमारी दूर हो जाएगी। लेकिन सवाल था कि उन्हें चरणामृत पिलाए कौन।

राधा ने कृष्ण को ठीक करने के लिए पिलाई चरणामृत

श्रीकृष्ण का ऐसा कहना और गोपियों का डर जाना। गोपियों का मानना था कि अगर उनका चरणामृत पीने से कान्हा ठीक नहीं हुए तो उन्हें पाप लगेगा। उन्हें नर्क जाना पड़ेगा। लेकिन वो बेचैन हो गई अपनी कृष्ण को ठीक करने के लिए वो कोई दूसरा तरकीब निकाल रही थी तभी वहां राधा आईं। उन्होंने गोपियों से पूछा कि क्या हुआ है। तब उन्होंने राधा से सारी बात बता दी। जिसके बाद वो अपना चरणामृत पिलाने को राजी हो गईं। उन्होंने कहा कि अगर मुझे नर्क भी जाना पड़ेगा तो जाऊंगी, लेकिन कृष्णा को इस तरह नहीं देख सकती हूं।इसके बाद राधा ने खुद अपने पैर को धोया और उसका पानी कृष्ण को दिया। जिसे कृष्णा ने पी लिया और वो जल्द ही ठीक हो गए। 

और पढ़ें:

Govardhan Puja:गोवर्धन पूजा पर श्रीकृष्ण को चढ़ाएं अन्नकूट का प्रसाद, जानें बनाने की आसान विधि

पार्टनर की बदल रही है नियत! इन 5 संकेतों से समझ सकते हैं कि वो प्यार का कर रहा है झूठा नाटक

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios