Asianet News HindiAsianet News Hindi

Research: ऑनलाइन क्लासेस में बच्चों को ना हो परेशानी, इसके लिए टीचर और पेरेंट्स के बीच रिलेशन होना जरूरी

हाल के एक अध्ययन में खुलासा हुआ है कि छात्रों को एकेडमिक सपोर्ट के साथ-साथ प्रैक्टिकल और इमोशनल समर्थन देने के लिए माता-पिता और शिक्षकों के बीच अच्छा कम्युनिकेशन होना जरूरी है।

New research shows that Relationship between parent and teacher is important for online schooling dva
Author
New Delhi, First Published Dec 5, 2021, 10:17 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

रिलेशनशिप डेस्क: कोरोना (corona virus) महामारी के बाद से कई सारी चीजों में बदलाव आया है। जिसमें से एक ऑनलाइन स्कूलिंग (home schooling) भी है। मार्च 2020 से लगे लॉकडाउन के बाद से लेकर अब तक ऑनलाइन क्लासेस चल रही है। बीच में स्कूलों में ऑफलाइन क्लास शुरू हुई थी, लेकिन कोरोना के नए वेरिएंट ओमीक्रॉन (omicron) के बढ़ते प्रकोप के चलते एक बार फिर से ऑनलाइन क्लासेस लगना शुरू हो गया है। ऑनलाइन स्कूलों को लगते हुए अब करीब पौने दो साल हो चुका है, लेकिन अभी भी से लेकर स्टूडेंट्स और उनके पेरेंट्स को कन्फ्यूजन रहता है। इसे लेकर हाल ही में एंग्लिया रस्किन विश्वविद्यालय (ARU)  ने एक रिसर्च की है। जिसमें इस बात का खुलासा हुआ है कि छात्रों को एकेडमिक सपोर्ट के साथ साथ प्रैक्टिकल और इमोशनल सपोर्ट देने के लिए पेरेंट्स और टीचर्स के बीच अच्छा रिलेशनशिप होना जरूरी है।

एंग्लिया रस्किन विश्वविद्यालय (एआरयू) के शिक्षाविदों ने शोधकर्ताओं की एक टीम का नेतृत्व किया, जिन्होंने जून और जुलाई 2000 के दौरान देश भर के 271 प्राथमिक विद्यालय के शिक्षकों का सर्वे किया और दूसरे दौर की तुलना करने के लिए इस साल अप्रैल में भी कुछ इंटरव्यू किए। जिसका निष्कर्ष हाल ही में 'एजुकेशनल रिव्यू' पत्रिका में प्रकाशित हुआ है। जिसमें शोधकर्ताओं ने पाया कि माता-पिता को बच्चों की पढ़ाई और टीचर्स से परस्पर सहयोग रखना चाहिए।

इस स्टडी में प्रतिभागियों ने आर्थिक या सामाजिक नुकसान में समझे जाने वाले स्कूल में विद्यार्थियों की संख्या के आधार विभिन्न स्तरों वाले स्कूलों में काम किया। जिसमें निम्न छात्र प्रीमियम स्कूलों में कम बच्चों को नुकसान हुआ, जबकि उच्च छात्र प्रीमियम स्कूलों में अधिक नुकसान था। शिक्षकों के बहुमत (84 प्रतिशत) ने महसूस किया कि कुछ छात्रों को उनके घरेलू परिस्थितियों के कारण स्कूल बंद होने से नुकसान हुआ है।

शोधकर्ताओं ने पाया कि सभी शिक्षकों ने माता-पिता को घर पर उपयोग करने के लिए संसाधन दिए, या तो उनके द्वारा बनाए गए या अन्य स्रोतों का उपयोग करके। हालांकि, कम छात्र प्रीमियम संख्या वाले स्कूलों के छात्र उच्च छात्र प्रीमियम संख्या वाले स्कूलों की तुलना में सभी संसाधनों तक पहुंचने में काफी बेहतर थे, मध्यम-आय वाले परिवारों को होमस्कूलिंग के साथ जुड़ने के लिए समय निकालने के लिए संघर्ष करना पड़ा, जिसमें कई पेरेंट्स घर से काम कर रहे थे। 

इस स्टडी ने महामारी के दौरान न केवल अकादमिक रूप से, बल्कि प्रैक्टिकल और इमोशनल रूप से शिक्षकों द्वारा बच्चों और उनके माता-पिता को दिए गए समर्थन पर प्रकाश डाला है। जब शिक्षक नियमित रूप से माता-पिता के संपर्क में रहते हैं, या तो ऑनलाइन कॉल या घर के दौरे के माध्यम से, तो परिणामस्वरूप उन्हें लगा कि उन्हें बच्चों के घरेलू जीवन की अधिक समझ मिली है।

एआरयू स्कूल ऑफ मैनेजमेंट की प्रमुख लेखक ने डॉ सारा स्पीयर ने कहा कि, "कोविड-19 महामारी कई लोगों के लिए एक कठिन और तनावपूर्ण समय था, और कुछ परिवारों के लिए यह सामाजिक-आर्थिक कठिनाइयों का कारण बना। हमारे रिजल्ट में दिखा कि मध्यम-आय वाले परिवारों में स्कूली शिक्षा में माता-पिता की भागीदारी मुख्य रूप से माता-पिता की कार्य जिम्मेदारियों से बाधित होती है, जिसमें एक या दोनों माता-पिता के काम करने की संभावना होती है, और लंबे समय तक और हाई प्रेशर वाली नौकरियों में बच्चों के घर में सीखने का समर्थन करने के लिए बहुत कम समय बचता है। वहीं, अमीर परिवारों के पास संसाधनों तक पहुंच थी, जैसे कि निजी ट्यूशन और निजी स्कूली शिक्षा जिसने इन दबावों को कम किया।"

उन्होंने कहा कि "हमारे शोध से यह स्पष्ट है कि शिक्षकों और माता-पिता के बीच घनिष्ठ संबंध होना जरूरी है और इसके परिणामस्वरूप शिक्षकों ने कोशिश की, कि कोई बच्चा पीछे नहीं छूटे। भविष्य में स्कूल बंद होने की स्थिति में, स्कूलों को यह सुनिश्चित करने के लिए कहा गया है कि, घर पर सीखने के लिए किसी भी आवश्यकता का निर्धारण करते समय माता-पिता से परामर्श करना चाहिए। स्कूलों को प्रौद्योगिकी तक पहुंच पर विशेष ध्यान देना चाहिए, और माता-पिता की स्कूली शिक्षा में भाग लेने की क्षमता पर विचार करना चाहिए।"

ये भी पढ़ें- New Research: स्टडी में हुआ खुलासा, नाइट शिफ्ट में काम करने वालों को हो सकती है ये प्रॉब्लम, इस तरह करें बचाव

Relationship Tips: बच्चे मां-बाप को सीखाते हैं 5 जरूरी बातें, आज ही अपने बच्चों से लें ये सीख

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios