Asianet News HindiAsianet News Hindi

DRDO ने स्वदेशी लड़ाकू ड्रोन 'अभ्यास' का किया सफल परीक्षण, दुश्मन की हरकत का ऐसे देगा जवाब

DRDO ने स्वदेशी लड़ाकू ड्रोन 'अभ्यास' का  सफल परीक्षण कर एक और उपलब्धि हासिल की है। 'अभ्यास' का इस्तेमाल अनेक मिसाइल प्रणालियों का मूल्यांकन करने के लिए हवाई लक्ष्य के तौर पर किया जा सकता है। देखें आने वाले समय में ये सेना केलिए कितना उपयोगी सिद्ध हो सकता है...

DRDO successfully test-fires indigenous combat drone  abhyas
Author
Bhopal, First Published Oct 22, 2021, 8:25 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

टेक डेस्क। चीन के साथ सीमा पर तनातनी जारी है। वहीं भारत के रक्षा संस्थान लगातार सैनिकों के लिए आधुनिक हथियार और प्रणाली बनाने में जुटे हुए हैं।  भारतीय रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) ने शुक्रवार 22 अक्टूबर को अपने हाई-स्पीड एक्सपेंडेबल एरियल टारगेट (HEAT) अभ्यास की अलग-अलग सिस्टम्स का सफलतापूर्वक परीक्षण किया है। डीआरडीओ के द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक ओडिशा के चांदीपुर में बंगाल की खाड़ी के तट पर स्थित एकीकृत परीक्षण रेंज में अभ्यास- हाई-स्पीड एक्सपेंडेबल एरियल टारगेट (HEAT) का सफल परीक्षण किया गया है।  

मिसाइल प्रणालियों का करेगा Evaluation 
आधिकारिक बयान में कहा गया है कि इस वाहन का उपयोग विभिन्न मिसाइल प्रणालियों के Evaluation हेतु हवाई लक्ष्य के रूप में किया जा सकता है। लक्षित विमान के प्रदर्शन की निगरानी टेलीमेट्री और रडार एवं इलेक्ट्रो ऑप्टिकल ट्रैकिंग सिस्टम (ईओटीएस) सहित विभिन्न ट्रैकिंग सेंसर के माध्यम से की गई। आधिकारिक बयान में कहा गया है कि इसका इस्तेमाल विभिन्न मिसाइल प्रणालियों की निगरानी के लिए हवाई लक्ष्य के रूप में किया जा सकता है। 

रक्षा मंत्री  राजनाथ सिंह ने दी बधाई 
रक्षा मंत्री  राजनाथ सिंह ने अभ्यास के सफल उड़ान परीक्षण के लिए डीआरडीओ को बधाई दी।  वर्तमान उड़ान परीक्षण विकासात्मक उड़ान परीक्षणों के अंतर्गत किया गया है।  भारतीय उद्योगों के लिए वाहन के उत्पादन के लिए रुचि की अभिव्यक्ति पहले ही जारी की जा चुकी है।  यह स्वदेशी लक्ष्य विमान एक बार विकसित होने के बाद भारतीय सशस्त्र बलों के लिए हाई-स्पीड एक्सपेंडेबल एरियल टारगेट (एचइएटी) की आवश्यकताओं को पूरा करेगा ।


वैमानिकी विकास प्रतिष्ठान (एडीई) बेंगलुरु ने किया डिजाइन
अभ्यास को डीआरडीओ के वैमानिकी विकास प्रतिष्ठान (एडीई) बेंगलुरु द्वारा डिजाइन तथा विकसित किया गया है।  एयर व्हीकल को ट्विन अंडर-स्लंग बूस्टर का उपयोग करके लॉन्च किया जाता है जो वाहन को प्रारंभिक त्वरण प्रदान करते हैं।  यह गैस टर्बाइन इंजन द्वारा संचालित है जो सबसोनिक गति से लंबी एन्ड्योरेंस उड़ान को बनाए रखता है। 

टारगेट एयरक्राफ्ट मार्गदर्शन और नियंत्रण के लिए उड़ान नियंत्रण कंप्यूटर (एफसीसी) के साथ नेविगेशन के लिए एमईएमएस आधारित जड़त्वीय नेविगेशन प्रणाली (आईएनएस) से लैस है।  वाहन को पूरी तरह से स्वायत्त उड़ान के लिए प्रोग्राम किया गया है।  लैपटॉप आधारित ग्राउंड कंट्रोल स्टेशन (जीसीएस) का उपयोग करके हवाई वाहन का चेक-आउट किया जाता है।

 
डीआरडीओ के अध्यक्ष ने बताया फ़ोर्स मल्टीप्लायर
रक्षा अनुसंधान एवं विकास विभाग के सचिव और डीआरडीओ के अध्यक्ष डॉ. जी सतीश रेड्डी ने भी 'अभ्यास' के सफल उड़ान परीक्षण से जुड़ी टीमों को बधाई दी और इसकी सटीकता और प्रभावशीलता को देखते हुए इसे फ़ोर्स मल्टीप्लायर करार दिया ।

ये भी पढ़ें- 
SBI ग्राहक फ्री में YONO ऐप से दाखिल करें इनकम टैक्स रिटर्न, CA से भरवाना चाहते है तो दें मात्र 199 रुपए
7th pay : कर्मचारियों के वेतन में भारी बढ़ोतरी, मोदी सरकार ने बढ़ाया DA, दिवाली से पहले मिलेगा एरियर्स !
7th pay commission : शिवराज सरकार ने सभी कर्मचारियों को दिया बड़ा दिवाली गिफ्ट, 8 फीसदी DA

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios