Asianet News HindiAsianet News Hindi

Virus Alert: गूगल ने बैन किये ये 15 मोबाइल ऐप, तुरंत करें करे अपने मोबाइल फ़ोन से डिलीट

Joker Malware वापस आ गया है और यह Google Play Store पर कम से कम 15 ऐप्स को प्रभावित किया है। इनमें से कुछ ऐप्स के 50,000 से अधिक बार इंस्टॉल किये गए हैं।

Google Ban 15 Android Apps infected Joker Malware Tech News ANP
Author
New Delhi, First Published Nov 23, 2021, 2:25 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

टेक डेस्क. जोकर मैलवेयर एक बार फिर वापस आ गया है। साइबरसिक्योरिटी फर्म कैस्पर्सकी की एक विश्लेषक तात्याना शिश्कोवा ने ट्विटर पर यूजर को Google Play Store पर जोकर मैलवेयर की वापसी के बारे में सचेत किया है। उनका कहना है कि मैलवेयर ने कम से कम 15 Android ऐप्स को संक्रमित कर दिया है। आपको याद दिला दें कि जोकर मैलवेयर ने पिछले साल बहुत सारे ऐप्स को संक्रमित किया और बड़े पैमाने पर यूजर को डराने में कामयाब रहा। स्थिति बहुत खराब हो जाने के बाद Google ने हस्तक्षेप किया और अपने यूजर की सुरक्षा के लिए संक्रमित ऐप्स को हटा दिया।

शिश्कोवा द्वारा लिस्टेड कुछ ऐप्स में 50,000 से अधिक डाउनलोड हैं, जबकि कुछ ऐप्स ऐसे हैं जिनमें केवल दो अंकों में इंस्टॉल हैं।

1.Easy PDF Scanner
2.Now QRCode Scan
3.Super-Click VPN
4.Volume Booster Louder 5.Sound Equalizer
6.Battery Charging Animation Bubble Effects
7.Smart TV Remote
8.Volume Boosting Hearing Aid
9.Flashlight Flash Alert on Call
10.Halloween Coloring
Classic Emoji Keyboard
11.Super Hero-Effect
12.Dazzling Keyboard
13.EmojiOne Keyboard
14.Battery Charging Animation Wallpaper
15.Blender Photo Editor-Easy Photo Background Editor

जोकर मैलवेयर क्या है?

जोकर मैलवेयर Google Play Store पर लिस्टेड ऐप्स को संक्रमित करता है, और यूजर द्वारा संक्रमित ऐप्स में से एक को डाउनलोड करने के बाद जब भी मैलवेयर पकड़ा जाता है, तो इसके डेवलपर Play Store के सुरक्षा दिशानिर्देशों को दरकिनार करने के लिए इसके कोड में मामूली बदलाव करते हैं।

कैसे काम करता है Joker Malware

मैलवेयर यूजर की जानकारी एसएमएस, कॉन्टैक्ट लिस्ट और डिवाइस की जानकारी चुराने के लिए जाना जाता है। वायरस बैकग्राउंड में डिवाइस के साथ चुपचाप विज्ञापनों पर क्लिक करता है और यूजर की परमिशन के बिना प्रीमियम सेवाओं की सदस्यता देता है। मैलवेयर पेमेंट को गुप्त रूप से स्वीकार करने के लिए एसएमएस से ओटीपी लेने में सक्षम है। इसके बाद, यह ओटीपी और बैंक एसएमएस को हटा देता है ताकि यूजर को आरोपों के बारे में पता न चले। यूजर को आरोपों के बारे में तभी पता चलेगा जब वह अपने बैंक स्टेटमेंट की जांच करेगा।

यह भी पढ़ें.

WhatsApp पर आ रहा धांसू फ़ीचर, अब मैसेज पर Reaction कर पाएंगे आप

सर्दी के मौसम में अपने घर लाइये ये 5 बजट Geyser, क़ीमत सिर्फ़ 5 हज़ार रुपए

लॉन्च हो गई अबतक की सबसे धांसू स्मार्टवॉच,आपकी आवाज से होगी कंट्रोल, सिंगल चार्ज में 10 दिन तक चलेगी बैटरी

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios