Plantation  

(Search results - 17)
  • undefined

    Aisa KyunJul 26, 2021, 2:55 PM IST

    श्रावण मास में पेड़-पौधे लगाने और दान करने से प्रसन्न होते हैं पितृ और देवता

    श्रावण (सावन) मास का महत्व कई धर्म ग्रंथों में बताया गया है। ये भगवान शिव का प्रिय महीना भी है। शिव पुराण में कहा गया है कि सावन मास में भगवान शिव की आराधना के साथ ही पूज्य पेड़-पौधे लगाने और उनका दान करने से देवताओं का साथ-साथ हमारे पितृ भी प्रसन्न होते हैं।

  • undefined

    UpayJul 9, 2021, 8:27 AM IST

    हलहारिणी अमावस्या आज: इस दिन पौधे लगाने से मिलता है पुण्य और खास उपाय करने से दूर हो सकती हैं परेशानियां

    आज (9 जुलाई, शुक्रवार) हलहारिणी अमावस्या है। इस अमावस्या पर स्नान, दान, श्राद्ध व व्रत का विशेष महत्व हमारे धर्म ग्रंथों में लिखा है। 

  • undefined

    UpayJun 7, 2021, 10:42 AM IST

    ज्येष्ठ अमावस्या पर रोहिणी नक्षत्र का शुभ योग, इस दिन पौधे लगाने से प्रसन्न होते हैं पितृ

    ज्येष्ठ महीने की अमावस्या तिथि पर शनि जयंती मनाई जाती है। इस बार ये पर्व 10 जून, गुरुवार को मनाया जाएगा। इस दिन पीपल में जल चढ़ाने और इसकी पूजा करने से शनि दोष में राहत मिलती है।

  • undefined

    UpayJun 6, 2021, 9:23 AM IST

    शनि जयंती: पेड़-पौधों के ये छोटे-छोटे उपाय करने से भी बच सकते हैं शनिदेव के प्रकोप से

    इस बार शनि जयंती 10 जून, शुक्रवार को है। इस दिन शनिदेव के उपाय करने से शुभ फल प्राप्त होते हैं और साढ़ेसाती व ढय्या के अशुभ प्रभाव में कमी आती है।

  • undefined

    JyotishMay 29, 2021, 12:41 PM IST

    3 जून तक रहेगा नौतपा, इस दौरान पौधे लगाने और पेड़ में पानी डालने से प्रसन्न होते हैं पितृ और देवता

    25 मई से शुरू हुआ नौतपा 3 जून तक रहेगा। इस दौरान ज्येष्ठ महीने के शुरुआती दिन रहेंगे। ग्रंथों में बताया गया है कि जब सूर्य रोहिणी नक्षत्र में होता है तो इसके शुरूआती 9 दिन बहुत ही खास होते हैं। इसे नौतपा कहते हैं।

  • <p>pm modi</p>
    Video Icon

    NationalMar 26, 2021, 1:58 PM IST

    ढाका एयरपोर्ट पर गार्ड ऑफ ऑनर से लेकर पौधारोपण तक... देखें पीएम मोदी का बांग्लादेश दौरा

    वीडियो डेस्क। करीब 15 महीने बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी फिर से किसी विदेश यात्रा पर निकले हैं। मोदी पड़ोसी देश बांग्लादेश की दो दिवसीय यात्रा पर हैं। इस दौरे पर देश-दुनिया की इसलिए भी नजरें गड़ी हुई हैं, क्योंकि बांग्लादेशी घुसपैठिये भारत के लिए एक बड़ी चिंता रहे हैं। इस समय पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव होने जा रहे हैं। 

  • <p><strong>अयोध्या (Uttar Pradesh) ।</strong> अयोध्या में 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के मौके पर मस्जिद निर्माण की शुरूआत होने जा रही है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस दिन ऑस्ट्रेलिया समेत देश-विदेश के पौधों का रोपण किया जाएगा। साथ ही मिट्टी की जांच भी हो जाएगी। इसके बाद यहां राष्ट्रीय ध्वज फहराया जाएगा। इसके लिए रविवार को हुए इंडो इस्लामिक फाउंडेशन कल्चरल की मीटिंग में सहमति भी बन गई है।&nbsp;</p>

    Uttar PradeshJan 18, 2021, 11:06 AM IST

    Republic Day पर प्लांटेशन के साथ शुरू होगा अयोध्या में मस्जिद निर्माण,ऑस्ट्रेलिया से मंगाए जा रहे पौधे

    अयोध्या (Uttar Pradesh) । अयोध्या में 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के मौके पर मस्जिद निर्माण की शुरूआत होने जा रही है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस दिन ऑस्ट्रेलिया समेत देश-विदेश के पौधों का रोपण किया जाएगा। साथ ही मिट्टी की जांच भी हो जाएगी। इसके बाद यहां राष्ट्रीय ध्वज फहराया जाएगा। इसके लिए रविवार को हुए इंडो इस्लामिक फाउंडेशन कल्चरल की मीटिंग में सहमति भी बन गई है। 

  • undefined

    UpaySep 27, 2020, 2:25 PM IST

    अधिक मास में पौधे लगाने से मिलता है अश्वमेध यज्ञ का फल, जानिए कौन-कौन से पौधे लगाने चाहिए

    उज्जैन. धर्म ग्रंथों में पेड़-पौधे लगाना पुण्य का काम माना गया है। ऐसा करने से कई तरह के दोषों से छुटकारा मिल जाता है। विष्णुधर्मोत्तर पुराण के मुताबिक पुरुषोत्तम महीने में पेड़-पौधे लगाने से अश्वमेध यज्ञ का फल मिलता है। वहीं मनु स्मृति में भी कहा गया है कि पेड़-पौधे लगाने से बड़ा यज्ञ करने जितना फल मिलता है। इसलिए पुरुषोत्तम महीने के दौरान पेड़-पौधे लगाना महत्वपूर्ण माना गया है।
    काशी के ज्योतिषाचार्य और धर्म ग्रंथों के जानकार पं. गणेश मिश्र का कहना है कि भगवान विष्णु के इस महीने में पीपल, वट, और गूलर के पेड़ लगाने चाहिए। इन पेड़-पौधों को भगवान विष्णु का ही रूप माना गया है। इनके अलावा तुलसी, दूब, अशोक, आंवला, एरंड, मदार, केला, नीम, कदंब और बेल का पेड़ लगाने से भगवान विष्णु और लक्ष्मी के साथ ही अन्य देवी-देवता भी प्रसन्न होते हैं।
     

  • undefined

    UpaySep 12, 2020, 3:32 PM IST

    श्राद्ध पक्ष में पौधे लगाने से भी प्रसन्न होते हैं पितृ, जानिए कौन-कौन से पौधे लगाए जा सकते हैं

    उज्जैन. श्राद्ध पक्ष में सभी लोग तर्पण, पिंडदान आदि के माध्यम से अपने पितरों को प्रसन्न करते हैं। धर्म ग्रंथों के अनुसार, श्राद्ध पक्ष में यदि पौधे लगाएं तो भी पितरों की कृपा हम पर बनी रहती है। कुछ पेड़-पौधे सकारात्मक उर्जा देते हैं। इसलिए ग्रंथों में बताए गए शुभ पेड़-पौधे पितृपक्ष में लगाए जाए तो पितरों का आशीर्वाद मिलता है। काशी के ज्योतिषाचार्य और धर्म शास्त्रों के जानकार पं. गणेश मिश्र के मुताबिक पीपल में देवताओं के साथ ही पितरों का भी वास होता है। इसलिए श्राद्ध पक्ष में पीपल का पेड़ खासतौर से लगाना चाहिए। इसके साथ बरगद, नीम, अशोक, बिल्वपत्र, तुलसी, आंवला और शमी का पेड़ लगाने से पर्यावरण को साफ रखने में तो मदद होगी ही, पितरों के साथ देवता भी प्रसन्न होंगे।

  • undefined

    CelebsJul 21, 2020, 10:43 AM IST

    एक्टिंग से दूर फार्म हाउस में धान की रोपाई करते दिखे सलमान खान, संग में ये भी आईं नजर

    मुंबई. बॉलीवुड एक्टर सलमान खान लॉकडाउन के पहले से ही पनवेल वाले फार्महाउस में गर्लफ्रेंड यूलिया वंतूर और अन्य दोस्तों के साथ पहुंचे हैं। वो तभी से वहीं नेचर के बीच टाइम स्पेंड कर रहे हैं। इस बीच वो फैंस के साथ कनेक्ट रहने के लिए सोशल मीडिया पर भी काफी एक्टिव रहते हैं। इन दिनों धान की रोपाई किसान जोरों से कर रहे हैं। ऐसे में सलमान भी फार्महाउस में धान की रोपाई कर रहे हैं। उनके साथ गर्लफ्रेंड यूलिया और उनके सभी दोस्त खेत में पसीना बहाते नजर आ रहे हैं। 
     

  • undefined

    UpayJul 20, 2020, 11:36 AM IST

    हरियाली अमावस्या आज: इस दिन राशि अनुसार लगाएं पौधे, दूर हो सकते हैं ग्रहों के दोष

    उज्जैन. इस बार 20 जुलाई को हरियाली और सोमवती अमावस्या का योग बन रहा है। इस पर्व का मूल उद्देश्य लोगों को प्रकृति के निकट लाना है। हरियाली अमावस्या का पर्व सावन में प्रकृति पर आई बहार की खुशी में मनाया जाता है। गांवों में इस दिन पेड़-पौधों की पूजा की जाती है व नए पौधे लगाए जाते हैं। हमारी संस्कृति में वृक्षों को देवता स्वरूप माना गया है। मनुस्मृति के अनुसार, वृक्ष योनी पूर्व जन्मों के कर्मों के फलस्वरूप मानी गई है। इसलिए सभी को इस दिन एक पौधा अवश्य लगाना चाहिए। अगर पौधा राशि अनुसार लगाया जाए तो परिवार में सुख-समृद्धि बनी रहती है, साथ ही जीवन में तरक्की भी मिलती है। जानिए राशि अनुसार कौन सा पौधा लगाना चाहिए-

  • undefined

    Madhya PradeshJul 6, 2020, 3:09 PM IST

    3700 गड्ढे देख तनाव में आया डिप्टी रेंजर, क्योंकि उसको 10 हजार पौधे लगाने थे...और कर लिया सुसाइड

    मध्य प्रदेश के देवास में काम की टेंशन में एक डिप्टी रेंजर ने जंगल में पेड़ पर फांसी लगा ली। उन्हें 10000 पौधारोपण की जिम्मेदारी देकर जंगल भेजा गया था। डिप्टी रेंजर जब वहां पहुंचा, तो सिर्फ 3700 गड्ढे देखकर टेंशन में आ गया। उसे अफसर ने मौखिक आदेश देकर ड्यूटी पर भेजा था। पुलिस का मृतक के पास से एक सुसाइड नोट मिला है। इसमें इस बात जिक्र किया गया है।

  • undefined

    UpayMay 29, 2020, 2:01 PM IST

    वास्तु टिप्स: पॉजिटिव एनर्जी बढ़ाते हैं गुलाब, मोगरा और चमेली जैसे पौधे, इन्हें किस दिशा में लगाएं?

    उज्जैन. वास्तु में घर की सभी चीजों के लिए शुभ-अशुभ दिशाएं बताई गई हैं। घर में और आंगन लगे फूलों से सकारात्मकता बढ़ती है और साथ ही ये वास्तु के अनुसार भी बहुत शुभ माना गया है। पेड़-पौधों के लिए कौन सी दिशा शुभ होती है, इस संबंध में भी खास बातें बताई गई हैं। जानिए पेड़-पौधों से जुड़ी कुछ खास वास्तु टिप्स...

  • जंगली जानवरों पर खतरा लगातार मंडरा रहा है। दक्षिण-पूर्व एशियाई देशों और द्वीपों में ऐसे कई जंगली जानवरों की प्रजाति खत्म हो सकती है, जिन्हें दुर्लभ माना गया है। शिकारियों के गिरोह लगातार इन जानवरों को मार रहे हैं। वे इन जानवरों के अंगों का व्यापार कर अकूत कमाई करते हैं। इसके अलावा पाम ऑयल के लिए भी डेवलपर्स जंगलों को काट रहे हैं। इससे भी इन वन्य प्राणियों के अस्तित्व पर खतरा मंडरा रहा है। ओरांगउटान एक ऐसा ही दुर्लभ प्राणी है, जिसकी संख्या लगातार कम होती जा रही है। लेकिन काफी सख्ती बरते जाने के बावजूद शिकारी इन्हें मारने से बाज नहीं आ रहे हैं। एक दशक से ज्यादा हो गया, जब दक्षिण-पूर्वी एशिया के बोर्नियो आइलैंड में शिकारियों के एक गिरोह ने एक मादा ओरांगउटान को मार डाला था। उसकी बच्ची उस समय सिर्फ 3 साल की थी। मां के मर जाने से छोटी-सी ओरांगउटान दहशत में आ गई। जब इंटरनेशनल एनिमल रेस्क्यू ओरांगउटान सेंटर के लोगों को जब इसके बारे में पता चला तो वे इस बेबी ओरांगउटान को अपने साथ ले गए और उसकी देखभाल की। उन्होंने उसका नाम पेनी रखा। आज पेनी 12 साल की हो गई है और खुद एक बच्चे की मां है। वह बहुत ही प्यार से अपने बच्चे की देख-रेख करती है। पेनी की अपने बच्चे के साथ कुछ तस्वीरें सामने आई हैं। उसके बच्चे का नाम तारक रखा गया है। इन्हें पश्चिमी बोर्नियो के केटापैंग में स्थित चैरिटी इंटरनेशनल ओरांगउटान सेंटर में रखा गया था। इन तस्वीरों को देख कर कोई भी भावुक हो जाएगा। मां की ममता कैसी होती है, इसकी झलक इन तस्वीरों से मिलती है।

    HatkeMar 25, 2020, 3:24 PM IST

    शिकारियों ने मां को मार कर दिया था अनाथ, आज खुद बच्चे को जन्म दे ममता लुटा रही ये मम्मी

    जंगली जानवरों पर खतरा लगातार मंडरा रहा है। दक्षिण-पूर्व एशियाई देशों और द्वीपों में ऐसे कई जंगली जानवरों की प्रजाति खत्म हो सकती है, जिन्हें दुर्लभ माना गया है। शिकारियों के गिरोह लगातार इन जानवरों को मार रहे हैं। वे इन जानवरों के अंगों का व्यापार कर अकूत कमाई करते हैं। इसके अलावा पाम ऑयल के लिए भी डेवलपर्स जंगलों को काट रहे हैं। इससे भी इन वन्य प्राणियों के अस्तित्व पर खतरा मंडरा रहा है। ओरांगउटान एक ऐसा ही दुर्लभ प्राणी है, जिसकी संख्या लगातार कम होती जा रही है। लेकिन काफी सख्ती बरते जाने के बावजूद शिकारी इन्हें मारने से बाज नहीं आ रहे हैं। एक दशक से ज्यादा हो गया, जब दक्षिण-पूर्वी एशिया के बोर्नियो आइलैंड में शिकारियों के एक गिरोह ने एक मादा ओरांगउटान को मार डाला था। उसकी बच्ची उस समय सिर्फ 3 साल की थी। मां के मर जाने से छोटी-सी ओरांगउटान दहशत में आ गई। जब इंटरनेशनल एनिमल रेस्क्यू ओरांगउटान सेंटर के लोगों को जब इसके बारे में पता चला तो वे इस बेबी ओरांगउटान को अपने साथ ले गए और उसकी देखभाल की। उन्होंने उसका नाम पेनी रखा। आज पेनी 12 साल की हो गई है और खुद एक बच्चे की मां है। वह बहुत ही प्यार से अपने बच्चे की देख-रेख करती है। पेनी की अपने बच्चे के साथ कुछ तस्वीरें सामने आई हैं। उसके बच्चे का नाम तारक रखा गया है। इन्हें पश्चिमी बोर्नियो के केटापैंग में स्थित चैरिटी इंटरनेशनल ओरांगउटान सेंटर में रखा गया था। इन तस्वीरों को देख कर कोई भी भावुक हो जाएगा। मां की ममता कैसी होती है, इसकी झलक इन तस्वीरों से मिलती है।

  • undefined
    Video Icon

    Madhya PradeshDec 5, 2019, 1:19 PM IST

    आरोपी को जमानत तो मिल गई लेकिन एक अनोखी शर्त पूरा करने के बाद...

    पर्यावरण के संरक्षण के साथ अपराधियों को अपराध बोध से अवगत कराने के उद्देश्य से हाईकोर्ट ने जिलों में नई परंपरा शुरू की है।