Uttarakhand News  

(Search results - 44)
  • undefined

    Other StatesJul 23, 2021, 12:03 PM IST

    पंजाब के बाद अब उत्तराखंड में कांग्रेस की कलह, पूर्व मंत्री ने मेनिफेस्टो कमेटी का अध्यक्ष बनने से किया इंकार

    उत्तराखंड में अगले साल चुनाव को देखते हुए यहां पर सियासी गतिविधियां तेज हो गई हैं। गुरुवार को कांग्रेस पार्टी ने यहां पर अपने विभिन्न पदाधिकारियों की घोषणा की थी। 

  • undefined

    Other StatesJul 5, 2021, 8:07 PM IST

    CM बनते ही एक्शन में पुष्कर धामी, पहली कैबिनेट में लिए कई अहम फैसले..युवाओं को दिया सबसे बड़ा तोहफा

    सीएम धामी ने  मुख्यमंत्री पद संभाने के कुछ देर बाद रविवार देर रात मंत्रिमंडल की पहली बैठक बुलाई। इस कैबिनेट में 6 संकल्प  और 7 प्रस्ताव आए, जिसमें सीएम धामी ने मुहर लगाते हुए सभी को तत्काल शुरू करने के आदेश दिए।
     

  • undefined
    Video Icon

    NationalJul 4, 2021, 7:20 PM IST

    उत्तराखंड के नए CM पुष्कर सिंह धामी ने ली शपथ, राज्य के सबसे युवा मुख्यमंत्री बने

    वीडियो डेस्क।  पुष्कर सिंह धामी ने रविवार को उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने उन्हें शपथ दिलाई। शनिवार को हुई भाजपा विधायक दल की बैठक में धामी के नाम पर सहमति बनी थी।मुख्यमंत्री के बाद सतपाल महाराज, हरक सिंह रावत, डॉ. धन सिंह रावत, बंशीधर भगत, यशपाल आर्य, सुबोध उनियाल, अरविंद पांडेय, बिशन सिंह, गणेश जोशी, रेखा आर्य और यतीश्वरानंद को मंत्री पद की शपथ दिलाई गई। ये सभी विधायक पहले भी मंत्रिमंडल में शामिल थे।पिथौरागढ़ में जन्मे 45 साल के पुष्कर सिंह धामी राज्य के सबसे कम उम्र के CM हैं। दो बार के विधायक धामी कभी उत्तराखंड सरकार में मंत्री नहीं रहे, लेकिन अब सीधे मुख्यमंत्री की कुर्सी संभालेंगे। शनिवार को मीडिया से बातचीत में उन्होंने कहा कि एक सामान्य कार्यकर्ता को राज्य की सेवा का मौका देने के लिए वे पार्टी हाईकमान के शुक्रगुजार हैं। बहुमत के बावजूद लगातार नेतृत्व की अस्थिरता से जूझ रही भाजपा ने मुख्यमंत्री बदलने का फैसला लिया था।
     

  • undefined

    Other StatesJul 3, 2021, 8:20 PM IST

    ये है उत्तराखंड के नए CM पुष्कर का परिवार, मां बोलीं-खुशी के साथ दुखी भी हूं..जानिए पत्नी ने क्या कहा

    देहरादून. उत्तराखंड में पिछले कुछ दिन से चल रहे सियासी संकट के बाद आखिर कार प्रदेश का नया मुख्यमंत्री मिल ही गया है। दिल्ली में बैठे बीजेपी के आलाकामान ने युवआों की पसंद माने जाने वाले युवा नेता पुष्कर सिंह धामी को राज्य का मुख्यमंत्री बनाया। वहीं देहरादून में बीजेपी विधायक दल की बैठक में उनके नाम पर मुहर लगाई गई। कल यानि रविवार को शाम करीब 4 बजे वह सीएम पद की शपथ लेंगे। जैसे धामी का नाम सीएम के लिए ऐलान हुआ तो उनकी विधानसभा क्षेत्र खटीमा में जश्न का माहौल शुरू हो गया। उनके घर बधाई देने वालों का तांता लगना शुरू हो गया। कोई फूल लेकर पहुंचा तो कोई मिठाइयों का डिब्बा लेकर पहुंचा हुआ है। बीजेपी कार्यकर्ता बेहद खुश हैं और ढोल-नगाड़ों पर जमकर डांस कर रहे हैं। आइए जानते हैं सीएम धामी के पत्नी और मां ने क्या कहा...
     

  • undefined

    Other StatesJul 3, 2021, 11:35 AM IST

    उत्तराखंड की गजब कहानी: 20 साल में बदले 12 मुख्यमंत्री, एक को छोड़ कोई CM नहीं कर पाया 5 साल पूरा


    देहरादून. उत्तराखंड को नया मुख्यमंत्री मिल गया है। पुष्कर सिंह धामी राज्य के नए मुख्यमंत्री बनाए गए हैं। बीजेपी विधायक दल की बैठक में उनके नाम पर मुहर लगाई। खबरें सामने आ रही हैं कि पुष्कर सिंह धामी आज ही सीएम पद की शपथ ले सकते हैं। बता दें कि पिछले कुछ दिनों से चल रहे सियासी संकट के बीच मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने शुक्रवार देर रात प्रदेश के राज्यपाल बेनी रानी मोर्या से मुलाकत कर उन्हें अपना इस्तीफा सौंप दिया था। तभी से राजनीतिक गलियारों में कई सीनियर नेताओं के नामों के बारे में कयास लगना शुरू हो गए थे। आखिर में केंद्रीय नेताओं के मंथन के बाद धामी के नाम का ऐलान हुआ। उत्तराखंड के राजनीतिक इतिहास को देखें तो ऐसा लगता है कि यहां मुख्यमंत्री का सरकारी बंगला क्या अभिशप्त है या फिर इस कुर्सी की किस्मत में ही बगावत झेलना लिखा है। राज्य को बने 21 साल हो गए  हैं, लेकिन यहां जिसको भी सीएम की कुर्सी दी गई उसे पांच साल से पहले ही अपना इस्तीफा देना पड़ गया। सिर्फ एक ही ऐसे मुख्यमंत्री रहे हैं जो अपना कार्यकाल जैसे-तैसे पूरा कर पाए हैं। अब तक 12 बार अलग-अलग मुख्यमंत्री शपथ ले चुके हैं जिसमें सबसे ज्यादा हरीश रावत ने तीन बार शपथ ली है। आइए जानते हैं आखिर क्यों 5 साल पूरे नहीं कर पाता है कोई भी मुख्यमंत्री?

  • undefined

    Other StatesJun 13, 2021, 1:19 PM IST

    उत्तराखंड कांग्रेस की सीन‍ियर नेता इंदिरा हृदयेश का निधन, दिल्ली में ली आखिरी सांस

    डॉ. इंदिरा हृदयेश दिल्ली में होने वाली कांग्रेस की बैठक में भाग लेने के लिए शनिवार को पहुंची थीं। जिसमें राज्य के कई बड़े नेताओं ने भाग लिया था। इस दौरान वह उत्तराखंड सदन के कमरा नंबर 303 में ठहरी थीं, लेकिन कमरे में ही अचानक उनकी हृदय गति रुकने से उनका निधन हो गया।

  • <p>binsar mahadev temple</p>
    Video Icon

    Other StatesJun 11, 2021, 8:54 AM IST

    बिनसर महादेव मंदिर में बादल फटने से तबाही, आफत की बारिश में सब बह गया

    वीडियो डेस्क।  उत्तराखंड के अल्मोड़ा  जिले के बिनसर में बादल फटने से तबाही की तस्वीरें सामने आई हैं। पानी का ऐसा सैलाब कि आप भी डर जाएंगे। बिनसर महादेव मंदिर के गर्भग्रह तक पानी पहुंच गया। आस पास की दुकानों में पानी घुस गया। पानी का सैलाब अपने साथ साथ आसपास की चीजें भी बहा ले गया। 

  • undefined

    Other StatesApr 18, 2021, 6:02 PM IST

    देवभूमि में दर्दनाक हादसा: बाप-बेटे सहित 5 लोगों की मौत, चीखते रहे..लेकिन कोई सुनने वाला भी नहीं था

    बताया जाता है कि पांचों लोग आपस में रिश्तेदार थे। सभी चमोली कस्बे पास भीमतल्ला गांव की एक शादी में शामिल होकर स्विफ्ट कार से वापस जोशीमठ लौट रहे थे। लेकिन पहुंचने से पहले ही उनका हादसा हो गया। परिजन पूरी रात उनको फोन लगाते रहे, मगर किसी का कोई जवाब नहीं मिला। 

  • undefined

    Uttar PradeshMar 27, 2021, 1:51 PM IST

    अद्भुत! मिलिए दुनिया के सबसे छोटे संत से, जिनकी हाइट 18 इंच और वजन 18 किलो..लोग कहते बावन भगवान


    हरिद्वार (उत्तरखंड). कहते हैं कि महाकुम्भ ऐसे-ऐसे संत-साधु और बाबा देखने को मिलते हैं जो सालों एक ही गुफा में तपस्या में लीन होते हैं। कुंभ ही ऐसा वो समय होता है जब इनके दर्शन लोगों को आसानी से हो जाती हैं। जिन्हें शायद ही कोई अपनी पूरी जिंदगी में नहीं देख पाता हो। ऐसी ही कुछ तस्वीरें इस समय देवभूमि हरिद्वार में देखने को मिल रही हैं। जहां महाकुंभ मेले के दौरान बड़ी संख्या में साधु-संत आस्था के इस संगम में डेरा जमाए हुए हैं। जिनको बस देखते ही बनता है। धर्मनगरी हरिद्वार में ऐसे एक नागा संन्‍यासी आकर्षण का केंद्र बने हुए हैं जिनकी लंबाई 18 इंच है और वजन सिर्फ 18 किलो है। आइए जानते हैं इके बारे में और देखिए तस्वीरें..

  • <p><strong>देहरादून (Uttarakhand) । </strong>उत्तराखंड के सीएम तीरथ सिंह रावत ने विवादित बयान दिया है। जिसके चलते वो इंटरनेट मीडिया पर खूब ट्रोल हो रहे हैं। अब उन्होंने महिलाओं के फटी जींस पहने और लड़कियों के हाफ कट कपड़े पहनने पर सवाल खड़ा किया है। साथ ही इससे जुड़े दो कहानियां भी सुनाई। जिसकी देशभर में तीखी प्रतिक्रिया हो रही है। इतना ही नहीं विपक्ष को भी बैठे-बिठाए सरकार पर हमला करने का मौका दे दिया है। जिसके बारे में हम आपको बता रहे हैं। &nbsp;</p>

    StateMar 18, 2021, 3:52 PM IST

    CM तीरथ सिंह रावत के ये 3 विवादित बयान,फटी जींस के बाद अब सुनाई हाफ कट कपड़े की कुछ ऐसी कहानी

    देहरादून (Uttarakhand) । उत्तराखंड के सीएम तीरथ सिंह रावत ने विवादित बयान दिया है। जिसके चलते वो इंटरनेट मीडिया पर खूब ट्रोल हो रहे हैं। अब उन्होंने महिलाओं के फटी जींस पहने और लड़कियों के हाफ कट कपड़े पहनने पर सवाल खड़ा किया है। साथ ही इससे जुड़े दो कहानियां भी सुनाई। जिसकी देशभर में तीखी प्रतिक्रिया हो रही है। इतना ही नहीं विपक्ष को भी बैठे-बिठाए सरकार पर हमला करने का मौका दे दिया है। जिसके बारे में हम आपको बता रहे हैं।  

  • undefined

    StateFeb 21, 2021, 4:28 PM IST

    ऋषि गंगा झील में है करीब 4.80 करोड़ लीटर पानी,केदारनाथ में तबाही मचाने वाली चौराबाड़ी से भी है बड़ी

    चमोली (Uttarakhand) । ऋषि गंगा झील में करीब 4.80 करोड़ लीटर पानी होने का अनुमान है। इस झील में होने वाली सारी हलचल पर नजर रखने के लिए विशेषज्ञों की टीम लगाई गई है। इसके अलावा ऋषिगंगा नदी में सेंसर भी लगाया गया है, जिससे नदी का जलस्तर बढ़ते ही अलार्म बज जाएगा। SDRF ने कम्युनिकेशन के लिए यहां एक डिवाइस भी लगाई है।

  • <p><strong>चमोली (Uttarakhand)। </strong>ग्लेशियर टूटने से आए सैलाब को 13 दिन हो गए हैं। इस दौरान 61 लोगों के शव और 28 मानव अंगों को मलबे से निकाला जा चुका है। 143 लोग अभी भी लापता हैं। ये लोग सैलाब में बहकर कहां गए होंगे, किसी को नहीं पता। ये न जिंदा ढूंढे जा सके हैं और न किसी की लाश मिली है। इनके परिजनों की उम्मीद भी अब टूटने लगी है। बता दें कि आपदा इतनी भयावह थी कि अब तक चमोली के कई हिस्सों में मलबा दिख रहा है, जो,चट्‌टान की तरह हो गया है।</p>

    StateFeb 19, 2021, 12:49 PM IST

    चमोली हादसा- 13 दिन में मिले 61 शव और 28 मानव अंग,मलबा दिख रहा चट्‌टान

    चमोली (Uttarakhand)। ग्लेशियर टूटने से आए सैलाब को 13 दिन हो गए हैं। इस दौरान 61 लोगों के शव और 28 मानव अंगों को मलबे से निकाला जा चुका है। 143 लोग अभी भी लापता हैं। ये लोग सैलाब में बहकर कहां गए होंगे, किसी को नहीं पता। ये न जिंदा ढूंढे जा सके हैं और न किसी की लाश मिली है। इनके परिजनों की उम्मीद भी अब टूटने लगी है। बता दें कि आपदा इतनी भयावह थी कि अब तक चमोली के कई हिस्सों में मलबा दिख रहा है, जो,चट्‌टान की तरह हो गया है।

  • undefined
    Video Icon

    NationalFeb 10, 2021, 1:02 PM IST

    WARNING: उत्तराखंड के चमोली त्रासदी का यह वीडियो आपको विचलित कर सकता है


    वीडिय डेस्क।   उत्तराखंड के चमोली जिले में 7 फरवरी दिन रविवार को कुदरत ने कहर बरपाते हुए भारी तबाही मचाई। नीती घाटी में रैणी गांव के शीर्ष भाग में ऋषिगंगा के मुहाने पर सुबह करीब 9:15 बजे ग्लेशियर का एक हिस्सा टूटकर ऋषिगंगा में गिर गया, जिससे नदी में भीषण बाढ़ आ गई। इस जल प्रलय से नदी पर निर्मित 13 मेगावाट की ऋषिगंगा जल विद्युत परियोजना पूरी तरह तबाह हो गई।एनटीपीसी की तपोवन स्थित 500 मेगावाट की निर्माणाधीन तपोवन-विष्णुगाड जल विद्युत परियोजना को भारी नुकसान पहुंचा। दोनों परियोजनाओं में काम कर रहे 155 से ज्यादा मजदूरों और स्थानीय लोगों के हताहत होने की खबर है। अभी आठ लोगों के शव मिले हैं। इस  भयानाक  त्रासदी  से जुड़ा एक वीडियो सामने आया है जिसमें 8 से 10 कर्मचारी पानी और कीचड़ के कारण बहते नजर आ रहे हैं। वीडियो  ये वीडियो आपको विचलित कर सकता है इसलिए कमजोर दिल वाले इसे नहीं देखें। 

     

  • undefined

    Other StatesFeb 10, 2021, 11:23 AM IST

    उत्तराखंड तबाही: सुरंग से जिंदा लौटे मजदूर की आपबीती जान फट जाएगा कलेजा, नाखून नीले और शरीर पड़ गया सुन्न

    देहरादून. उत्तराखंड के चमोली जिले में रविवार को आए सैलाब ने कई परिवारों को तबाह कर दिया। किसी के पिता की तो किसी के बेटे की इस प्रलय में मौत हो गई। ग्लेशियल फटने के चार दिन होने के बाद भी  रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है। भारतीय सेना, ITBP,NDRF और के SDRF के 600 से ज्यादा जवान तबाही के बाद दलदल में फंसे लोगों को तलाशने की कोशिश में जुटे हुए हैं। मीडिया सूत्रों के मुताबिक अभी तक  32 निकाले जा चुके हैं, वहीं कुछ लोग ऐसे भी हैं जो इस सैलाब में 8 घंटे तक टनल में एक रॉड और लोहे के सरिया को पकड़े लटके रहे। उन्होंने इस भयानक हादसे के बाद भी अपने हौसले को बनाए रखा। उन्होंने कैसे अपनी सांसों को इस मौत की सुरंग में बचाए रखा वह तारिफे काबिल है। जिनके बारे में जानकर हर किसी के रोंटगे खड़े हो जाएंगे। आइए जानते हैं ऐसे युवकों के बारे में जो मौत के मुंह से बचकर आए...

  • undefined
    Video Icon

    NationalFeb 8, 2021, 12:43 PM IST

    तबाही मचाने के 24 घंटे बाद यूं शांत हो गई गंगा, लोगों की चीख नहीं,बस शांत लहरों को आ रही आवाज

    वीडियो डेस्क। तपोवन में रविवार सुबह 10 बजे ग्लेशियर टूटकर ऋषिगंगा नदी में गिरने के बाद ये हादसा हुआ। इससे बेतहाशा बाढ़ के हालात पैदा हो गए और धौलीगंगा पर बन रहा बांध बह गया। ऋषिगंगा हाइड्रो पावर प्रोजेक्ट और सरकारी कंपनी NTPC के प्रोजेक्ट तबाह हो गए। ऋषिगंगा प्रोजेक्ट में 32 वर्कर्स लापता हैं। यहां से 5 किलोमीटर दूर NTPC के प्रोजेक्ट पर हादसे के वक्त 176 मजदूर ड्यूटी पर थे। इनमें से 121 लापता हैं। इसके अलावा कुछ ग्रामीण और मवेशी भी लापता हैं।  ऋषिकेश से 18 किलोमीटर दूर गंगा नदी शांत नजर आई। शिवपुरी के पास गंगा नदी का सामान्य जल स्तर दिखा। वीडियो में देखिए  शांत लहरों से सामान्य जल स्तर में बह रही गंग नदी।