Asianet News HindiAsianet News Hindi

411 दिन बाद जाकर ठीक हुआ कोरोना का ये मरीज, सबकुछ था बेअसर फिर हुआ चमत्कार

इतने लंबे समय तक कोरोना संक्रमण का मामला शायद ही आपने सुना हो। इस मामले में शोधकर्ताओं ने जिस तरह इस व्यक्ति की जान बचाई, वो कहानी जानने योग्य है।

 

covid postive from 411 days cured by doctors with ths technology shocking story PFA
Author
First Published Nov 4, 2022, 11:23 AM IST

ब्रिटेन के डॉक्टर्स ने शुक्रवार को ऐसी घोषणा कि जिसने चिकित्सा जगत को हैरत में डाल दिया है। दरअसल, डॉक्टर्स ने यहां एक ऐसे कोविड मरीज को ठीक किया है, जो पिछले 411 दिन यानी एक साल से भी ज्यादा वक्त से कोरोना से संक्रमित था। ये एक अलग तरह का कोरोना था जो लॉन्ग कोविड से भी ज्यादा वक्त तक रहता है। डॉक्टर्स ने बताया कि कैसे जब सबकुछ बेअसर हो गया था तब कुछ पुरानी चीजें ही काम आईं।

ये लॉन्ग कोविड से भी ज्यादा खतरनाक था

शोधकर्ताओं ने एएफपी को बताया कि इस मरीज के जेनेटिक कोड का विश्लेषण कर उसके लिए सटीक ट्रीटमेंट निकाला गया, जिससे उसे काफी फायदा हुआ। वह ऐसे कोविड से संक्रमित था जो लंबे समय तक चलने वाले कोविड या लौटकर वापस आने वाले कोविड से कई गुना ज्यादा एक्टिव था। दुनिया में बेहद कमजोर इम्यूनिटी वाले कुछ लोग इसका शिकार बने जिनमें महीनों तक संक्रमण देखा गया। एनएचएस फाउंडेशन ट्रस्ट में संक्रामक बीमारियों के विशेषज्ञ डॉक्टर ल्यूक ने कहा कि ऐसे मरीजों के शरीर में संक्रमण हमेशा घूमता रहता है और संक्रमित होने के कई महीनों या सालों तक भी इनकी टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव ही आती है। ऐसे आधे मरीजों को इस कोविड की वजह से काफी ज्यादा खतरा होता है क्योंकि पहले ही उनक फेफड़ों को काफी नुकसान पहुंचा होता है।

covid postive from 411 days cured by doctors with ths technology shocking story PFA

साल भर से पीछा नहीं छोड़ रहा था कोरोना

अब इस मामले को लेकर Clinical infectious disease के जर्नल में एनएचएस फाउंडेशन ट्रस्ट की रिपोर्ट छापी गई है। इस रिपोर्ट में बताया गया है कि ऐसे दीर्घकालीन कोविड संक्रमण से कैसे निपटा गया। इसमें ब्रिटेन के 59 वर्ष के मरीज का जिक्र किया गया, जिसे लगातार 13 महीने से कोविड था और आखिरकार उसे बीमारी से बचा लिया गया। किडनी ट्रांसप्लांट होने की वजह से मरीज की रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर पड़ गई थी, जिसके बाद उसे दिसंबर 2020 में कोविड ने अपनी चपेट में ले लिया, जो इस जनवरी 2022 तक उसे रहा। यह जानने के लिए कि उसे कोविड बार-बार हुआ है या एक ही संक्रमण लगातार बना हुआ है, डॉक्टर्स ने नेनोपोर सीक्वेंसिंग टेक्नोलॉजी (nanopore sequencing technology) की मदद से उसका जेनेटिक विश्लेषण किया। यह टेक्नोलॉजी 24 घंटे में नतीजे दे देती है। सामने जो नतीजे आए वो हैरान करने वाले थे।

फिर इस तरह किया गया इलाज

रिपोर्ट्स में पता चला कि संक्रमित व्यक्ति के शरीर में बी-1 वेरिएंट था जो 2020 की शुरुआत में हावी था, लेकिन इसकी जगह दूसरे वेरिएंट दुनिया में फैल चुके थे। इसी वजह से दुनियाभर में नए वेरिएंट के हिसाब से ट्रीटमेंट दिया जा रहा था। हालांकि, इस विश्लेषण के आधार पर डॉक्टर्स ने उसे पुरानी दवाईयां देना शुरू किया क्योंकि नई दवाईयां केवल नए वेरिएंट्स पर प्रभावी थीं। ऐसे में पुराने ट्रीटमेंट की बदौलत इस शख्स की जान बचाई जा सकी।

यह भी पढ़ें : नवजात बच्चे को सड़क किनारे सोने के लिए छोड़ देती है ये मां, बताई अजीब वजह

ऐसी ही रोचक खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें...

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios