Asianet News Hindi

कोरोना की दूसरी लहर ने मचा रखा है कोहराम, अब तीसरी का भी आ गया अलर्ट, साइंटिस्ट ने बताया- कैसे बचें

प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार के विजय राघवन ने चेतावनी दी है, कि कोरोना की तीसरी लहर भी देश में आएगी, इसको रोका नहीं जा सकता है। हालांकि ये कब आएगी इसे लेकर उन्होंने कोई जानकारी नहीं है। 

Principal Scientific Adviser warns- Third wave of covid-19 is inevitable dva
Author
Delhi, First Published May 6, 2021, 10:08 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

ट्रेंडिंग डेस्क : भारत में कोरोना की दूसरी लहर ने तबाही मचा रखी है। लेकिन अभी ये शुरुआत है, इसके बाद तीसरे लहर आना अभी बाकी है। प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार के विजय राघवन (Principal Scientific Adviser K Vijay Raghavan ) ने चेतावनी दी है, कि कोरोना की तीसरी लहर भी देश में आएगी, इसको रोका नहीं जा सकता है। हालांकि ये कब आएगी इसे लेकर उन्होंने कोई जानकारी नहीं  है। लेकिन इसके लिए उन्होंने हमें तैयार रहने के लिए कहा है। 

बुधवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय (Union Health Ministry) के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल (Joint secretary Lav Agarwal) ने महत्वपूर्ण प्रेस कॉन्फ्रेंस की थी। जिसमें  के विजय राघवन ने कहा कि कोविड वैक्सीन नए म्यूटेशन के खिलाफ प्रभावकारी हैं और वायरस के आगे म्यूटेशन की तरह डबल म्यूटेंट, सर्विलांस और वैक्सीन अपडेट की जरूरत है। दुनियाभर के वैज्ञानिक इन अलग-अलग किस्‍म के वैरिएंट का मुकाबला करने की तैयारी कर रहे हैं।

अक्टूबर 2020 में आई थी दूसरी लहर
अक्टूबर 2020 में कोरोना के नए वेरिएंट जैसे यूके वेरिएंट सामने आए थे। उन्होंने कहा, "2021 की शुरुआत में, पूरी दुनिया में बहुत बड़ी संख्या में लोग संक्रमित हो गए थे। उन्होंने बताया कि पिछले साल सितंबर में पहली लहर के बाद मामले काफी हद तक गिरने लगे थे, दो कारकों के कारण पहली लहर में गिरावट आई थी।

तीसरे लहर के लिए तैयार रहें
तेजी से बढ़ रहे वायरस को देखते हुए इसकी तीसरी लहर को रोका नहीं जा सकता है। लेकिन यह स्पष्ट नहीं है कि यह चरण तीन किस समय-पैमाने पर होगा। हमें नई लहरों के लिए तैयार रहना चाहिए।

प्रदेशों की स्थिति पर की चर्चा
प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान स्वास्थ्य मंत्रालय में संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने देश की मौजूदा स्थिति पर भी चर्चा की। उन्होंने बताया कि महाराष्ट्र, कर्नाटक, केरल और उत्तर प्रदेश सहित 12 राज्यों में 1 लाख से अधिक एक्टिव COVID मामले हैं, जबकि कर्नाटक, केरल, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल, राजस्थान, और बिहार उन राज्यों में से हैं जहां रोज संक्रमण के मरीजों में बढ़ोत्तरी हो रही है। उन्होंने कहा कि कुछ क्षेत्रों में चिंताजनक स्थिति बनी हुई है। कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरू में पिछले एक सप्ताह में संक्रमण में 1.49 नए केस मिले हैं। इसी तरह चेन्नई में 38 हजार नए केस मिले है। महाराष्ट्र, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, दिल्ली और हरियाणा में कई लोगों की जान गईं। मौत के मामलों में देश में करीब 2.4 फीसदी बढ़ोतरी देखी गई है।

कोरोना वैक्सीन पर दी जानकारी
देश में कोविड वैक्सीन की व्यवस्था पर जानकारी देते हुए संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा कि भारत सरकार ने 16 करोड़ से ज्यादा वैक्सीन के डोज देशभर में फ्री में लगाए हैं। 45 साल से अधिक उम्र के 12.31 करोड़ लोगों को टीका लगाया गया है, स्वास्थ्य कर्मियों के बीच यह संख्या 1.58 करोड़ है। उन्होंने कहा कि लगभग 2.09 करोड़ फ्रंटलाइन वर्करों का भी वैक्सीनेशन किया गया है, जबकि 18 साल से 44 साल के बीच के 6.71 लाख लोगों को वैक्सीन की डोज दी गई है।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios