Asianet News HindiAsianet News Hindi

महराजगंज के 8 लोगों ने महाराष्ट्र में तोड़ा दम, सीएम योगी ने ट्वीट कर व्यक्त की शोक संवेदना

यूपी के महाराजगंज के 8 लोगों की मौत महारा,अट्र में हुई है। जिस पर  सीएम योगी ने संवेदना व्यक्त की है। महाराष्ट्र सरकार संपंर्क कर पीड़ितों को राहत पहुंचाने के लिए प्रयासरत है।

8 People died in maharashtra of maharjganj while falling down the building Yogi adityanath tweets and announced relief
Author
Maharajganj, First Published Jun 30, 2022, 2:52 PM IST

महारजगंज: यूपी के महाराजगंज के 8 लोगों की मौत महारा,अट्र में हुई है। जिस पर  सीएम योगी ने संवेदना व्यक्त की है। महाराष्ट्र सरकार संपंर्क कर पीड़ितों को राहत पहुंचाने के लिए प्रयासरत है।

सीएम योगी ने व्यक्त की संवेदना
सीएम योगी आदित्यनाथ ने अपने ट्वीटर हेंडल से ट्वीट किया है कि, 'मुबई के कुर्ला क्षेत्र में मकान गिरने की दुर्घटना में हुई जनहानि अत्यंत हृदय विदारक है। दु:ख की इस घड़ी में मेरी संवेदनाएं शोक संतप्त परिजनों के साथ हैं। @UPGovt की तरफ से उ.प्र. के मृतकों के परिजनों को ₹02-02 लाख तथा घायलों को ₹50-50 हजार की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी।'
अपने दूसरे ट्वीट में सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि,"उत्तर प्रदेश सरकार घायलों के समुचित उपचार हेतु महाराष्ट्र सरकार के साथ लगातार संपर्क में है। मृतकों के अंतिम संस्कार हेतु यदि उनके परिजन शव को उत्तर प्रदेश में अपने घर लाना चाहते हैं तो उसकी समुचित व्यवस्था @UPGovt द्वारा की जाएगी।"

 एंटी करप्शन टीम ने लेखपाल को किया गिरफ्तार
वहीं दूसरी तरफ आज गोरखपुर की एंटी करप्शन टीम ने लेखपाल को पैसे लेते रंगे हाथों पकड़ा। दरअसल महाराजगंज के लेखपाल सुभाष पटेल बुधवार को कृषि बीमा के संबंध में रिपोर्ट लगाने के लिए धनेवा स्थित मिठाई की दुकान पर किसान से 5 हजार की रिश्वत ले रहे थे। तभी गोरखपुर एंटी करप्शन टीम ने उन्हें रंगे हाथों पकड़ा और गिरफ्तार कर लिया।

मृतक के पिता से 10 हजार की रिश्वत मांग रहा था लेखपाल
दरअसल महाराजगंज के निचलौल तहसील के बड़हरा महंत के रहने वाले किसान राजेंद्र भारती के पुत्र पिंटू उर्फ प्रकाश की 8 फरवरी 2022 को किसी दुर्घटना में मृत्यु हो गई थी। कृषि बीमा का लाभ पाने के लिए राजेंद्र ने जिलाअधिकारी कार्यालय में आवेदन किया। इसके लिए लेखपाल की रिपोर्ट लगानी पड़ती है। राजेंद्र जब उपजिलाधिकारी से मिले तो उन्होंने लेखपाल को रिपोर्ट लगाने के लिए निर्देशित किया था। इसके बावजूद लेखपाल 10 हजार की रिश्वत पीड़ित राजेंद्र से मांग रहा था।
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios