Asianet News Hindi

पति-बेटे को बचाने के लिए चुनाव मैदान में उतरी थी ये कैंडिडेट, इतने वोटों से दर्ज की जीत

यूपी की 11 विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव के नतीजे आ चुके हैं। 8 सीटों पर बीजेपी ने जीत दर्ज की। इसमें एक सीट अपना दल की भी शामिल है, जोकि बीजेपी का सहयोगी दल है। वहीं, सपा के खाते में 3 सीट आई। इन 11 में सभी की नजरें रामपुर सीट पर टिकी हुई थी, जहां सपा अपना किला बचाने में कामयाब रही। 

azam khan wife won on rampur assembly bypoll election
Author
Rampur, First Published Oct 24, 2019, 7:31 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

रामपुर (Uttar Pradesh). यूपी की 11 विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव के नतीजे आ चुके हैं। 8 सीटों पर बीजेपी ने जीत दर्ज की। इसमें एक सीट अपना दल की भी शामिल है, जोकि बीजेपी का सहयोगी दल है। वहीं, सपा के खाते में 3 सीट आई। इन 11 में सभी की नजरें रामपुर सीट पर टिकी हुई थी, जहां सपा अपना किला बचाने में कामयाब रही। आजम की पत्नी तंजीन फातिमा ने जीत दर्ज की। बता दें, ये सीट सपा नेता आजम के सांसद बनने के बाद खाली हुई थी। आजम यहां से 9 बार विधायक रह चुके हैं। 1993 के बाद से सपा इस सीट पर कभी नहीं हारी।

तंजीन फातिमा को कुल 79,043 वोट मिले। बीजेपी के भारत भूषण 71,327 वोटों के साथ दूसरे नंबर पर रहे। तीसरे नंबर पर कांग्रेस के अरसद अली खान 4182 वोट के साथ रहे। जबकि बसपा के जुबैर मसूद खान 3441 वोट के साथ चौथे स्थान पर रहे। 

इस वजह से आजम के लिए जरूरी थी रामपुर सीट 
सपा सांसद आजम खान के खिलाफ करीब 90 केस दर्ज हो चुके हैं। इनपर बकरी-भैंस चोरी, अवैध जमीन कब्जा, बिजली-पानी चोरी जैसे कई आरोप लगे हैं। कुछ मामलों में कोर्ट ने इनके खिलाफ वारंट भी जारी किए। कई दिनों बाद वो पत्नी तंजीन फातिमा के नामाकंन के समय जनता के सामने आए थे। वहीं, फातिमा ने कहा था, मेरा राज्यसभा का कार्यकाल खत्म होने में अभी डेढ़ साल का समय बचा है। शौहर और बेटे पर झूठे केस दर्ज हुए हैं। राज्यसभा में राष्ट्रीय मुद्दे उठते हैं। वहां स्थानीय मुद्दे के लिए समय कम मिलता है। विधायकी का चुनाव जीतकर मैं सरकार के जुल्म का जवाब दूंगी। यूपी सरकार ने पिछले कुछ महीनों में रामपुर में बेगुनाहों और सपा कार्यकर्ताओं पर जो जुल्म ढाया है। इसी के चलते मैंने यह चुनाव लड़ने का फैसला किया।

जब पत्नी के लिए वोट मांगते रो पड़े थे आजम 
पत्नी के लिए आजम ने रामपुर में कई जनसभाएं की थी। जिसमें उन्होंने अपने उपर लगे आरोपों का जिक्र कर खूब सहानुभूति बटोरी थी। यही नहीं, कई जगह रोते हुए उन्होंने जनता से सवाल पूछा था कि क्या मैं डाकू हूं, क्या मेरी बीवी और बच्चे डाकू हैं?

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios