Asianet News HindiAsianet News Hindi

बदायूं में दलित किशोरी ने दुष्कर्म के दौरान आरोपी को लिया था पहचान, युवक ने इस तरह से उतार दिया मौत के घाट

यूपी के बदायूं जिले में शनिवार को मिली दलित किशोरी के शव का पुलिस ने खुलासा कर दिया है। ग्रामीणों के बयान के बाद पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। पूछताछ में उसने बताया कि किशोरी से दुष्कर्म किया लेकिन उसने पहचान लिया था। इस वजह से उसकी हत्या कर दी। 

Badaun Dalit teenager had identified accused during the rape youth put to death in this way
Author
First Published Sep 18, 2022, 12:38 PM IST

बदायूं: उत्तर प्रदेश के जिले लखीमपुर खीरी के बाद अब बदायूं जिले में दलित किशोरी से दुष्कर्म के बाद हत्या का मामला सामने आया है। शहर के फैजगंज बेहटा इलाके के एक गांव कि किशोरी शुक्रवार रात से ही लापता थी लेकिन शनिवार देर शाम आसफपुर रेलवे स्टेशन के पीछे मैदान में किशोरी का शव पड़ा मिला। इसकी सूचना स्थानीय लोगों ने पुलिस को दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने किशोरी के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। उसके बाद घटनास्थल पर परिवार के लोग पहुंचे थे। पुलिस ने ठेले वाले के बयान की मदद से मिठाई की दुकान के संचालक को गिरफ्तार किया है।

दरअसल पुलिस ने रेलवे स्टेशन के पास बनी मिठाई की दुकान वाले जितेंद्र को अरेस्ट किया है। वो 16 वर्षीय किशोरी को मिठाई खिलाने के बाद घर छोड़ने के बहाने लड़की को साथ ले गया था। इसी दौरान एक ठेले वाले ने उसे बच्ची को साथ ले जाते हुए देख लिया था। पुलिस को इसी की मदद से आरोपी तक पहुंच सकी है। वहीं मृतका की मां के अनुसार किशोरी मानसिक रूप से कमजोर थी। वह अक्सर गांव में घूमने के लिए चली जाती थी। शुक्रवार के दिन भी कुछ ऐसा ही हुआ लेकिन बेटी वापस नहीं लौटी। इसके बाद महिला ने ग्रामीणों से पूछा तो कोई भी बेटी तक नहीं पहुंच सका। इसके बाद आसफपुर चौकी पर बेटी के गायब होने के बारे में बताया। मगर बेटी का फिर भी कुछ पता नहीं चला।

पोस्टमार्टम रिपोर्ट में सांस की नली में मिली मिट्टी
महिला आगे कहती है कि शनिवार को फोन आता है कि और कहता है कि मेरी बेटी का एक्सीडेंट हुआ है। इसके बाद भागते हुए चौकी फिर थाने पहुंचे लेकिन बेटी का सिर्फ चेहरा देखने को मिला। इसी मामले को लेकर रविवार सुबह किशोरी की पोस्टमार्टम रिपोर्ट सामने आ गई है। जिसमें लड़की की सांस की नली में मिट्टी मिली है और गले समेत शरीर पर चोट के निशान हैं। इस वजह से अनुमान लगाया जा रहा है कि मरने से पहले किशोरी ने संघर्ष किया मगर वह खुद को बचा नहीं सकी। पुलिस ने दुष्कर्म के बाद हत्या की एफआईआर दर्ज की है।

आरोपी दुकान संचालक ने पुलिस को बताई पूरी कहानी
इस घटना को लेकर शनिवार की देर रात एसएसपी डॉ. ओपी सिंह और एसपी देहात सिद्धार्थ वर्मा ने मुआयना किया। इसके साथ ही गांव वालों के बयान भी दर्ज किए तो जितेंद्र का जिक्र आया। इसी दौरान जिक्र आया कि जितेंद्र बच्ची को अक्सर अपनी दुकान से मिठाई खाने के देता था। साथ ही एक ठेले वाले ने अधिकारियों को बताया कि उसने वारदात वाली रात जितेंद्र को बच्ची के साथ रेलवे स्टेशन की तरफ जाते देखा था। उसके बाद पुलिस ने जितेंद्र को अरेस्ट किया। इसके बाद वारदात के उलझे हुए तार सुलझते चले गए। पुलिस द्वारा पूछताछ में उसने बताया कि शुक्रवार रात करीब 9 बजे बच्ची उसकी दुकान के सामने से जा रही थी। वो शराब के नशे में था और बच्ची को घर छोड़ने के बहाने वाले स्टेशन के पीछे खाली प्लॉट में ले गया। वहां उसके साथ दुष्कर्म की वारदात को अंजाम दिया।

मृतका की मां बोलीं- चौकी वालों ने मरवा दी बेटी
आरोपी ने पुलिस से आगे कहा कि वह पीड़िता को नहीं मारता लेकिन वह उसको पहचान गई थी और उसने कहा था कि वह शिकायत कर देगी। इसके बाद बच्ची के मुंह में मिट्टी भरकर उसे दबा दिया। कुछ समय बाद ही उसकी मौत हो गई और उसके चेहरे पर भी गीली मिट्टी लगा दी थी। किशोरी की हत्या करने के बाद आरोपी घर पहुंचा और वहां अपने कपड़े धो लिए। इतना ही नहीं इसके बाद वह तौलिया बांधकर आसपास के इलाकों में नशे में धुत्त घूमता रहा। दूसरी ओर किशोरी की मौत पर पोस्टमार्टम हाउस पर परिवार के लोग बिगड़ गए। 

किशोरी के शरीर और गले में मिले चोट के निशान 
स्वजन का आरोप है कि पुलिस की लापरवाही से उनकी बच्ची की मौत हुई है और आसफपुर चौकी पुलिस पर सीधे आरोप लगाया हैं। घरवालों का कहना है कि पुलिस जल्दबाजी में लाश लेकर बदायूं क्यों भागी। पोस्टमार्टम हाउस पर किशोरी की मां रोते हुए कह रही है कि चौकी पर तैनात स्टाफ की लापरवाही न रही होती तो बेटी जिंदा होती। चौकी वालों ने मेरी बेटी मरवा दी। पुलिस ने तीन डॉक्टर्स के पैनल से पोस्टमॉर्टम कराया है। इसकी रिपोर्ट में सामने आया कि गले की सांस की नली में मिट्टी मिली, गले और शरीर में चोट के निशान मिले हैं। किशोरी का शव शनिवार की देर रात ही दफना दिया गया था।

सौतेले चाचाओं ने 7 साल की उम्र से किया था दुष्कर्म, 27 साल बाद फौजी पति के साथ से महिला ने लगाई न्याय की गुहार

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios