अमरोहा। पुलिस की ड्यूटी से एक कांस्टेबल इतना दुखी हुआ कि उसने अपनी जान दे दी। मृतक पंकज बालियान मुजफ्फरनगर जिले का मूल निवासी था। वह पश्चिम यूपी के अमरोहा जिले के थाना मंडी धनौरा में तैनात था। सिपाही की जेब से पुलिस महानिदेशक के नाम सुसाइड नोट मिला है। उसमें पुलिस की ड्यूटी को अपनी मौत का जिम्मेदार बताया है। सुसाइड नोट पुलिस महानिदेशक के नाम लिखा गया। सिपाही के पिता ने थाना प्रभारी पर उनके बेटे को प्रताड़ित करने का आरोप लगाया है।

थाना प्रभारी मुकेश कुमार के मुताबिक पंकज की ड्यूटी रामलीला मैदान में लगी नुमाइश में थी। वह दो दिन पहले ही छुट्टी से लौटा था। पंकज थाने के समीप एक किराए के कमरे में रहता था। सोमवार देर रात उसने ड्यूटी की। लेकिन मंगलवार सुबह जब उसका साथी कमरे पर पहुंचा, तो फंदे से लटक रहा था।

सुसाइड नोट में पंकज ने लिखा, 'मेरी मौत का जिम्मेदार केवल ड्यूटी सिस्टम खराब होना है। इसिलिए मेरी मौत का जिम्मेदार किसी अधिकारी, कर्मचारी, थाना स्टाफ, दोस्त, परिवार, लड़की, को ना ठहराया जाए।'

उधर, मृतक के पिता नरेश बालियान ने थाना प्रभारी मुकेश कुमार को इसका जिम्मेदार ठहराया है। उनके मुताबिक पंकज ने बताया था कि थाना प्रभारी उसे प्रताड़ित करते हैं। हालांकि थाना प्रभारी ने आरोपों को गलत बताया है।

एसपी विपिन टाडा कहा कि, 'सूसाइड नोट में किसी सीनियर ऑफिसर का जिक्र नहीं है, बल्कि पुलिस विभाग में ड्यूटी सिस्टम पर सवाल उठाया गया था।