Asianet News Hindi

राजस्थान सरकार ने कोटा से छात्रों को बॉर्डर तक छोड़ने का लिया किराया, मायावती बोली- ये है कांग्रेस की कंगाली

बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने कांग्रेस की राजस्थान सरकार पर लॉकडाउन में फंसे छात्रों को कोटा से यूपी बॉर्डर तक छोड़ने की एवज में यूपी सरकार से बसों का किराया मांगने पर नाराजगी व्यक्त की है

mayawati angry to Rajasthan government charged rent to drop students from Kota to the up border kpl
Author
Lucknow, First Published May 22, 2020, 1:53 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

लखनऊ(Uttar Pradesh). उत्तर प्रदेश में एक सप्ताह से जोरों पर चल रही बसों बसों पर सियासत शुक्रवार को एक बार फिर गरमा गई। बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने कांग्रेस की राजस्थान सरकार पर लॉकडाउन में फंसे छात्रों को कोटा से यूपी बॉर्डर तक छोड़ने की एवज में यूपी सरकार से बसों का किराया मांगने पर नाराजगी व्यक्त की है। उन्होंने कहा कि राजस्थान की कांग्रेसी सरकार का यह कृत्य उनकी कंगाली और अमानवीयता को प्रदर्शित करता है। दो पड़ोसी राज्यों के बीच ऐसी घिनौनी राजनीति अति दुखद है।

बता दें कि राजस्थान की कांग्रेस सरकार ने लॉकडाउन में फंसे यूपी के छात्रों को कोटा से यूपी बॉर्डर तक छोड़ने की एवज यूपी सरकार से 36 लाख रुपये बसों का किराया और 19.50 लाख रुपये डीजल का वसूला है। उत्तर प्रदेश राज्य परिवहन निगम ने बिलों का भुगतान कर दिया है। राजस्थान के कोटा में फंसे बच्चों के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने राजस्थान सरकार से अनुरोध किया था कि अपनी कुछ बसों से वहां पर शेष बचे हुए बच्चों को यूपी की सीमा मथुरा या आगरा तक पहुंचा दें। वहां से इन्हें यूपी रोडवेज की बसों से घर भेज दिया जाएगा। इस पर राजस्थान सरकार ने 94 बसों का इंतजाम किया था। वहीं, उत्तर प्रदेश राज्य परविहन निगम की झांसी से गई बसों में डीजल कम पड़ा तो 320 बसों में डीजल भी राजस्थान के डीजल पंपों से लिया गया था। 

कांग्रेस का ये कृत्य उसकी कंगाली को करता है प्रदर्शित 

बसपा सुप्रीमो व यूपी की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने शुक्रवार को ट्वीट कर राजस्थान के कोटा से प्रतियोगी छात्र-छात्राओं को यूपी छोड़ने के लिए किराया वसूलने पर नाराजगी जताई है। उन्होंने कहा कि 'राजस्थान की कांग्रेस सरकार द्वारा कोटा से करीब 12000 छात्र-छात्राओं को वापस उनके घर भेजने पर हुए खर्च के रूप में यूपी सरकार से 36.36 लाख रुपये और देने की जो मांग की है, वह उसकी कंगाली और अमानवीयता को प्रदर्शित करता है। दो पड़ोसी राज्यों के बीच ऐसी घिनौनी राजनीति अति दुखद है।'

प्रवासी मजदूरों के लिए बस उपलब्ध कराना कांग्रेस का राजनीतिक खेल 

दूसरे ट्वीट में मायावती ने लिखा "लेकिन कांग्रेसी राजस्थान सरकार एक तरफ कोटा से यूपी के छात्रों को अपनी कुछ बसों से वापस भेजने के लिए मनमाना किराया वसूल रही है तो दूसरी तरफ अब प्रवासी मजदूरों को यूपी में उनके घर भेजने के लिए बसों की बात करके जो राजनीतिक खेल खेल कर रही है यह कितना उचित व कितना मानवीय?"

एम्फान की तबाही पर व्यक्त किया दुःख 

बीएसपी चीफ व यूपी की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने पश्चिम बंगाल और उड़ीसा में आए एम्फन तूफान से तबाही पर दुख व्यक्त किया है। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि 'एम्फन तूफान के तांडव से खासकर पश्चिम बंगाल में जो व्यापक तबाही और बर्बादी हुई है वह अति दुखद है। जनजीवन बुरी तरह से प्रभावित है। ऐसे में खासकर केंद्र सरकार को आगे बढ़कर हर प्रकार से राज्य को वहां के हालात सामान्य बनाने में मदद करनी चाहिए।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios