Asianet News HindiAsianet News Hindi

ससुराल पहुंचे दामाद के हाथ-पैर में जड़ी बेड़ियां, 15 दिनों बाद ऐसे बचाई जान

तीन वर्ष पूर्व 1 करोड़ 70 लाख रुपये में अपनी भूमि बेची थी। उससे मिले रुपये से उसने अपनी पत्नी के नाम से डस्टर कार, पिकअप, अपाची बाइक, जेनरेटर व तीन सेट डीजे खरीदा। उनमें से 13 लाख रुपये उसने अपने नाम से बैंक में फिक्स डिपाजिट किया था। शेष बचे रुपये अपने पास रखा हुआ था।

son in law tied to seed and held hostage for 15 days
Author
Azamgarh, First Published Dec 20, 2019, 9:58 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

आजमगढ़ (उत्तर प्रदेश) । दामाद को घर बुलाकर ससुराल पक्ष के लोगों ने सीकड़ से बांध दिया। 15 दिनों तक घर में बंधक बनाकर रखा। किसी तरह बंधन से मुक्त होने पर वह भागकर मोहम्मदपुर बाजार पहुंचा। पीड़ित ने अपनी पत्नी, सास, साले व अन्य तीन लोगों के खिलाफ गंभीरपुर थाने में तहरीर दी है।

जमीन बेंचकर खरीदी थी कार, बाइक, जेनरेटर और डीजे
शहर कोतवाली क्षेत्र के सलेमपुर गांव निवासी अमरनाथ चौहान की शादी खराटी गांव निवासी कन्हैया लाल चौहान की पुत्री रंजना से हुई है। अमरनाथ ने तीन वर्ष पूर्व 1 करोड़ 70 लाख रुपये में अपनी भूमि बेची थी। उससे मिले रुपये से उसने अपनी पत्नी के नाम से डस्टर कार, पिकअप, अपाची बाइक, जेनरेटर व तीन सेट डीजे खरीदा। उनमें से 13 लाख रुपये उसने अपने नाम से बैंक में फिक्स डिपाजिट किया था। शेष बचे रुपये अपने पास रखा हुआ था। 

शराबी पति के कारण आधे दामों में बेंचकर मायके चली गई पत्नी
शराब का आदी होने के चलते अमरनाथ ने अपने पास रखे रुपये धीरे-धीरे कर खर्च कर डाला। मायके में अपने दो बेटों के साथ रह रही उसकी पत्नी ने भी कार समेत अन्य सामानों को भी आधे दाम पर कुछ दिनों बाद बेच दिया। पत्नी व ससुराल के लोगों को आशंका थी कि कहीं अमरनाथ बैंक में जमा रुपये भी निकाल कर खर्च न कर दे। इस आशंका के चलते उसकी ससुराल के लोगों ने फोन कर चार दिसंबर को अमरनाथ को बुलाया। अमरनाथ का आरोप है कि वह जब ससुराल पहुंचा तो ससुराल के लोग उसे मारने पीटने के बाद लोहे के सीकड़ से बांध दिया और हाथ-पैर में बेड़यिां डाल दी।

लोहार बुलाकर कटवाई बेड़ियां
सीकड़ से बांधने के बाद उसे घर के अंदर एक कमरे में ले जाकर बंद कर दिया। 15 दिन से बंधक बनाकर रखा गया था। गुरुवार को सुबह किसी तरह से मौका पाकर वह भागकर मोहम्मदपुर बाजार स्थित एक ढाबा पर पहुंचा। लोगों को उसने अपनी आपबीती सुनाई। खबर पाकर गंभीरपुर थाने की पुलिस भी मौके पर पहुंच गई और एक लोहार को बुलाकर हाथ-पैर में बंधा सीकड़ व बेड़ियां को कटवाने के बाद उसे बंधन से मुक्त कराया। पीड़ित व्यक्ति ने इस संबंध में अपनी पत्नी रंजना, सास प्रमिला देवी, साला कृपाशंकर के अलावा तीन अन्य अज्ञात के खिलाफ तहरीर दी है।

(प्रतीकात्मक फोटो)

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios