Asianet News Hindi

नक्सलियों से लड़ते हुए यूपी का ये लाल शहीद, दो माह पहले परिवार को दिलाया था यह भरोसा


शहीद विकास कुमार तीन भाइयों में सबसे बड़े थे। पिता का निधन कई साल पहले हो चुका है। खबर है कि आज रात शहीद का पार्थिव शरीर गांव पहुंचेगा। 

The Red Martyr of UP fighting the Naxalites, gave this assurance to the family two months ago asa
Author
Banda, First Published Feb 11, 2020, 3:01 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

बांदा ( Uttar Pradesh) । छत्तीसगढ़ के बीजापुर में एक दिन पहले हुए नक्सलियों से मुठभेड़ में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के दो कमांडो शहीद हो गए। इनमें एक जवान यूपी के बांदा जिले के लामा गांव के निवासी जवान विकास कुमार (30) हैं। उनके शहीद होने की खबर आज परिवार वालों को हुई है। वह दो माह पहले ही गांव आए थे और जल्द आने की बात कहकर ड्यूटी पर गए थे। वहीं, मीडिया में आ रही खबर के मुताबिक इस मुठभेड़ में एक नक्सली भी मारा गया और मौके से हथियार बरामद हुआ है।

इस तरह हुआ था मुठभेड़
परिजनों के मुताबिक रायपुर से करीब 400 किलोमीटर दूर पमेड थाना अंतर्गत इरापल्ली गांव के जंगलों में सुबह करीब साढ़े 10 बजे उस समय मुठभेड़ शुरू हुई जब सुरक्षाबल नक्सल रोधी अभियान चला रहे थे। सीआरपीएफ की विशिष्ट इकाई 204वीं कमांडो बटालियन फॉर रेसोल्यूट एक्शन (कोबरा) के चार जवान मुठभेड़ में घायल हो गए। इनमें से दो जवान उपचार के दौरान दम तोड़ दिए। इनमें कमांडो विकास कुमार (30) भी शामिल थे, जबकि सीआरपीएफ के दो घायल जवान उपचार चल रहा है। 

तीन भाइयों मे बड़े थे शहीद विकास
शहीद विकास तीन भाइयों में सबसे बड़े थे। पिता का निधन कई साल पहले हो चुका है। खबर है कि आज रात शहीद का पार्थिव शरीर गांव पहुंचेगा। 

सीएम ने की ये घोषणा
मुख्यमंत्री ने शहीद विकास के परिजनों को 25 लाख की आर्थिक सहायता व परिवार के एक सदस्य को मृतक आश्रित के तौर पर सरकारी नौकरी देने की घोषणा की है। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios