Asianet News Hindi

जमातियों के कारण यूपी में दिक्कत बढ़ी, यही रहा हाल तो 14 अप्रैल के बाद भी नहीं खुलेगा लॉकडाउन

अपर मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी ने कहा कि तबलीगी जमात से जुड़े लोगों की वजह से ही कई जिलों में संक्रमण फैला है। सबसे ज्यादा संक्रमित आगरा में मिले हैं। उसके बाद मेरठ, सहारनपुर, आजमगढ़, लखनऊ, बाराबंकी, शामली, गाजियाबाद आदि जिले हैं। उन्होंने कहा कि अब जमात से जुड़े जिन लोगों में संक्रमण पाया गया है उनके संपर्क में आए लोगों को ट्रेस किया जा रहा है।
 

Trouble hoarding causes problems in UP, this is why lockdown will not open even after April 14 asa
Author
Lucknow, First Published Apr 6, 2020, 7:25 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

लखनऊ (Uttar Pradesh) । यूपी में लगातार बढ़ रहे कोरोना वायरस संक्रमित मरीजों की संख्या को लेकर सरकार गंभीर है। सरकार लॉकडाउन पीरियड को 14 अप्रैल से आगे बढ़ा सकती है। अपर मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी ने आज इसके संकेत भी दिए हैं। प्रेस कांफ्रेंस में उन्होंने कहा कि जिस तरह से तबलीगी जमात में शामिल लोगों में कोरोना वायरस की पुष्टि हो रही है उससे प्रदेश में मरीजों की संख्या में अचानक इजाफा हुआ है। अगर ऐसा ही रहा तो 14 अप्रैल के बाद लॉकडाउन खोलना संभव नहीं होगा।

आगरा में ज्यादा मिले हैं संक्रमित
अपर मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी ने कहा कि तबलीगी जमात से जुड़े लोगों की वजह से ही कई जिलों में संक्रमण फैला है। सबसे ज्यादा संक्रमित आगरा में मिले हैं। उसके बाद मेरठ, सहारनपुर, आजमगढ़, लखनऊ, बाराबंकी, शामली, गाजियाबाद आदि जिले हैं। उन्होंने कहा कि अब जमात से जुड़े जिन लोगों में संक्रमण पाया गया है उनके संपर्क में आए लोगों को ट्रेस किया जा रहा है।

सीएम ने किया धर्मगुरुओं से बात
अपर मुख्य सचिव ने कहा कि तबलीगी जमात में शामिल लोग आगे आकर खुद का जांच करवाएं। इसके लिए मुख्यमंत्री ने आज सभी जिलों के धर्मगुरुओं से भी बात की। इस बातचीत में सभी ने की सहमती थी कि इंसान की जिंदगी ज्यादा महत्वपूर्ण है। सभी ने अपना इसमें सहयोग देने की बात कही है।

धर्म स्थलों से भी चलाया जाएगा जागरुकता अभियान
अवनीश अवस्थी ने कहा कि अब तो धर्म स्थलों से भी प्रदेश में कोरोना वायरस को लेकर जागरूकता अभियान चलाया जाएगा। इसके साथ ही प्रदेश में कोरोना वायरस के जांच केंद्र की संख्या को भी बढ़ाया जाएगा। इसकी जांच अब दस और मेडिकल कालेज में शुरू हो गई है। हमारा प्रयास है कि अब प्रदेश में कोई भी संदिग्ध जांच से न बच सके। किसी को भी जरा शक हो तो अपनी जांच करा सकता है। सूबे में कई मेडिकल कॉलेज में कोविड-19 केंद्र बनाए गए हैं, कुछ को अपग्रेड भी किया जाएगा। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios