Asianet News HindiAsianet News Hindi

यूपी के कानून मंत्री का बयान: CAA पर हुई हिंसा में सपा कांग्रेस का हाथ, साजिश के तहत दिया गया अंजाम

यूपी में बीते दिनों नागरिकता कानून को लेकर हुई हिंसा पर योगी सरकार के कानून मंत्री बृजेश पाठक का बयान सामने आया है। रविवार को बहराइच में उन्होंने कहा, प्रदेश में हुई हिंसा के पीछे सपा व कांग्रेस का हाथ था।

up law minister brajesh pathak allegations on congress and sp for caa protest KPU
Author
Bahraich, First Published Dec 29, 2019, 5:33 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

बहराइच (Uttar Pradesh). यूपी में बीते दिनों नागरिकता कानून को लेकर हुई हिंसा पर योगी सरकार के कानून मंत्री बृजेश पाठक का बयान सामने आया है। रविवार को बहराइच में उन्होंने कहा, प्रदेश में हुई हिंसा के पीछे सपा व कांग्रेस का हाथ था। इन दलों ने प्रायोजित तरीके से हिंसा कराई। हिंसा में पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया नाम के संगठन का नाम भी सामने आया है। इस संगठन से जुड़े कई लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। 

गांधी-लोहिया ने भी कही थी पाकिस्तान से प्रताड़ित लोगों की मदद की बात
नागरिकता कानून पर लोगों में मौजूद भ्रम को खत्म करते हुए उन्होंने कहा, यह कानून किसी धर्म के लोगों के खिलाफ नहीं है। इससे पड़ोसी देश अफगानिस्तान, पाकिस्तान व बांग्लादेश में अत्याचार सह रहे अल्पसंख्यकों को उनका हक दिलाने के लिए लाया गया है। खुद महात्मा गांधी से लेकर लोहिया जी ने पाकिस्तान से प्रताड़ित होकर हिंदुस्तान में रह रहे लोगों को सुविधा व रोजगार देने की बात कही थी। लेकिन आज उनका अनुसरण करने वाली पार्टियां खुद इस कानून के खिलाफ दुष्प्रचार कर रही हैं। 

जन्म प्रमाण पत्र बनवाने वालों की लगी होड़
हाल ही में नागरिकता संशोधन कानून बनने के बाद पूरे देश में कई स्थानों में इसका विरोध शुरू हो गया था। यूपी में भी कई स्थानो पर प्रदर्शन के साथ हिंसा हुई, जिसमें न सिर्फ 15 से ज्यादा प्रदर्शनकारियों को अपनी जान गंवानी पड़ी, बल्कि करीब 300 पुलिसकर्मी भी घायल हुए। इसके बाद कुछ अराजक तत्वों ने अल्पसंख्यकों में ये भ्रम फैला दिया कि इस कानून से भारत में रह रहे मुस्लिमों को अपने दस्तावेज दिखाने होंगे कि वह यहां कब से रह रहे हैं। जिसके बाद से प्रदेश भर में लोगों में जन्म प्रमाण पत्र बनवाने की होड़ लगी हुई है। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios