Education

20 साल तक दी सैलरी लेकिन नहीं दिया कोई काम, महिला ने कंपनी पर किया केस

Image credits: unsplash

20 साल तक बिना काम किये सैलरी दे रही कंपनी पर केस

फ्रांसीसी महिला लॉरेंस वैन वासेनहोव का अजीबोगरीब मामला समाने आया है जिसमें उसने अपने नियोक्ता पर यह कहते हुए मुकदमा दायर किया है कि उसे 20 साल तक बिना काम किये सैलरी दी गई।

Image credits: unsplash

विकलांग हैं फ्रांसीसी महिला लॉरेंस वैन वासेनहोव

दरअसल फ्रांसीसी महिला लॉरेंस वैन वासेनहोव विकलांग हैं। ऐसे में उनका आरोप है कि उनके फिजिकल कंडिशन के कारण उनकी कंपनी ने उनके साथ काम को लेकर भेदभाव किया है।

Image credits: unsplash

वासेनहोव को फ्रांस टेलीकॉम ने नियुक्त किया था

लॉरेंस वैन वासेनहोव विकलांग हैं। टेलीकॉम दिग्गज ऑरेंज की एंप्लाई हैं। ऑरेंज द्वारा कंपनी का अधिग्रहण करने से पहले, वासेनहोव को 1993 में फ्रांस टेलीकॉम द्वारा नियुक्त किया गया था।

Image credits: social media

फ्रांस टेलीकॉम को महिला की स्थिति की पहले से थी जानकारी

फ्रांस टेलीकॉम को महिला की जानकारी थी, कि उसके शरीर का एक हिस्सा लकवाग्रस्त था और वह मिर्गी से पीड़ित थी, इसलिए कंपनी ने महिला को एक ह्यूमन रिसोर्सेस रोल के लिए चुना था।

Image credits: unsplash

ट्रांसफर के बाद ऑरेंज ने किया एडजस्टमेंट से इनकार

वासेनहोव ने साल 2002 तक एक सेक्रेटरी और ह्यूमन रिसोर्सेस के रूप में काम किया, लेकिन फिर उनका ट्रांसफर किया गया। उन्हें नया ऑफिस नहीं जचा लेकिन ऑरेंज ने एडजस्टमेंट से इनकार कर दिया।

Image credits: Getty

बिना काम के पूरा वेतन दिया

टेलीकॉम दिग्गज ऑरेंज ने महिला के काम, ऑफिस में कोई बदलाव नहीं किया। कुछ भी बदलने के बजाय महिला को बिना काम के पूरा वेतन दिया गया।

Image credits: unsplash

बिना कोई काम किए पूरी सैलरी पाना उसके लिए बदतर स्थिति

द सन की रिपोर्ट के अनुसार, बिना कोई काम किए पूरी सैलरी पाना कई लोगों के लिए सुनहरा अवसर जैसा है, लेकिन महिला की मानें तो उनके लिए यह स्थिति बदतर है।

Image credits: unsplash

मध्यस्थ की नियुक्त हुई लेकिन फिर भी स्थिति नहीं सुधरी

साल 2015 में महिला ने भेदभाव के खिलाफ आवाज उठाते हुए सरकार और उच्च प्राधिकरण से शिकायत की। तब ऑरेंज ने स्थिति को सुलझाने के लिए मध्यस्थ नियुक्त किया लेकिन फिर भी स्थिति नहीं सुधरी।

Image credits: Getty

कंपनी का दाव रेगुलर सिक लीव पर रही वासेनहोवे

वासेनहोवे के वकील का दावा है कि आइसोलेशन से वो डिप्रेशन की शिकार हुई। जबकि ऑरेंज ने कहा उसने अनुकूलित स्थिति में काम वापसी योजना बनाई, जो नहीं हुई, क्योंकि वह रेगुलर सिक लीव पर थी।

Image credits: unsplash