Health

नौतपा में बीमारी रहेगी कोसों दूर, बस इस तरह रखें अपनी हेल्थ का ध्यान

Image credits: Freepik

क्या होता है नौतपा

जब सूर्य रोहिणी नक्षत्र में प्रवेश करता है, तो इससे भीषण गर्मी पड़ती है। शुरुआत के जो 9 दिन होते हैं उसमें भयंकर गर्मी पड़ती है और इसे नौतपा कहते हैं।

Image credits: Freepik

नौतपा में होने वाली बीमारियां

नौतपा में सूर्य अधिक तपता है, लू चलती है जिसके कारण बीमार होने का खतरा सबसे ज्यादा होता है। बदहजमी, बेचैनी, घबराहट, उल्टी-दस्त, बुखार, पेट दर्द आदि की समस्या हो सकती है।

Image credits: Freepik

नौतपा में कैसे रखें सेहत का ध्यान

नौतपा के दौरान आपको ठंडी तासीर वाली चीजें जैसे- तरबूज, खरबूजा, खीरा, ककड़ी, गुलकंद, तोरई, कच्ची प्याज, कैरी जैसी चीजों का सेवन करना चाहिए।

Image credits: Freepik

खाली पेट घर से ना निकलें

गर्मियों में खाना खाने का मन नहीं करता है, लेकिन हमें कभी भी खाली पेट नहीं रहना चाहिए। जब भी आप घर से निकले तो हल्की डाइट लेकर ही निकलें, इससे लू लगने का खतरा कम होता है।

Image credits: Freepik

बॉडी को हाइड्रेट रखें

नौतपा में घर से बाहर जाते समय अपने साथ पानी की बोतल जरूर रखें। बॉडी को हाइड्रेट रखने के लिए आप नारियल पानी, नींबू पानी, छाछ, जलजीरा, आम पन्ना, बेल का शरबत का सेवन भी कर सकते हैं।

Image credits: Freepik

गमछा टोपी से सिर को कवर करें

तेज धूप शरीर के संपर्क में आने से आपको बीमार कर सकती है। ऐसे में आंखों पर सनग्लासेस पहनें, एक गमछा या टोपी का इस्तेमाल करें। फुल बाजू के कपड़े पहने और स्कार्फ से बॉडी कवर करें।

Image credits: Freepik

हाथ पैर में मेहंदी लगाएं

मेहंदी में नेचुरल ठंडक पाई जाती है। ऐसे में प्राचीन काल से ही नौतपा के दौरान महिलाएं अपने हाथ और पैर में मेहंदी या चंदन का लेप लगती है, ऐसा करना से शरीर को ठंडक मिलती है।

Image credits: Freepik

इन चीजों से करें परहेज

नौतपा के दौरान पाचन तंत्र पर बुरा असर पड़ सकता है। ऐसे में आप जल्दी पचने वाले हल्के खाने का सेवन करें। ऑयली और मसालेदार खाने से परहेज करें और मिर्च का सेवन भी कम करें। 

Image credits: Freepik

ज्यादा ठंडा पानी पीने से बचें

बाहर से आने के बाद आपको ठंडा पानी पीना से बचना चाहिए, क्योंकि ऐसा करने से ठंडा गरम हो जाता है और यह आपकी सेहत के लिए हानिकारक हो सकता है। आप मटके का पानी पी सकते हैं।

Image credits: Freepik