Health

डेंगू को कर देगा जड़ से गायब! बरसात में अमृत के समान है ये हरा पत्ता

Image credits: social media

डेंगू का प्रकोप

बारिश के मौसम में जगह-जगह पानी भर जाता है और इसमें पैदा होते हैं डेंगू और मलेरिया वाले मच्छर। इनका सही वक्त पर इलाज नहीं हुआ तो जान भी जा सकती है।

Image credits: Freepik

तेज बुखार प्लेटलेट होने लगता है कम

डेंगू में तेज बुखार आता है और प्लेटलेट काउंट कम हो जाता है। सही वक्त पर प्लेटलेट काउंट नहीं बढ़ता है तो मौत भी हो सकती है। दवा के साथ एक पत्ता भी है जो काउंट को तेजी से बढ़ाता है।

Image credits: Freepik

पपीते का पत्ता है इलाज?

आयुर्वेद में डेंगू बुखार के दौरान पपीते के पत्ता को उबालकर या उसका अर्क पीने की सलाह दी जाती है। ताकि रिकवरी जल्द हो सके। इससे प्लेटलेट काउंट तेजी से बढ़ता है।

Image credits: social media

रिसर्च में हैरान करने वाला फैक्ट

US के नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन की रिपोर्ट के अनुसार कई मेडिकल सिस्टम में पपीता के पत्तों का इस्तेमाल दवाएं बनाने में किया जाता है।

Image credits: Getty

कई तरह के रोग के लिए फायदेमंद

रिसर्च में पपीता के पत्तों को एंटी इंफ्लेमेटरी, एंटी कैंसर, एंटी डायबिटीक, एंटी डेंगू और न्यूरोप्रोटेक्टिव प्रॉपर्टी से भरपूर माना है। हालांकि डॉक्टर की सलाह पर ही इसे लेना चाहिए।

Image credits: pexels

दवा के साथ-साथ पत्ते का सेवन

डेंगू की दवा के साथ-साथ सप्लीमेंट के तौर पर पपीते के पत्ते का अर्क ले सकते हैं। लेकिन ज्यादा मात्रा में सेवन हानिकारक हो सकता है। डॉक्टर की सलाह पर ही इसका सेवन करें।

Image credits: social media

कैसे पपीते के पत्ते का करें सेवन?

पपीते के पत्तों को धोकर साफ करें, डंठल को काटें, पत्तों को बारीक काटें और इसे उबले। ठंडा होने के बाद इसे अच्छी तरहपीस कर गाढ़ा जूस बना लें। इसका स्वाद कड़वा होता है।

Image credits: freepik