World news

ईरानी राष्ट्रपति से भी ज्यादा ताकतवर ये शख्स, Iran में चलता है दबदबा

Image credits: freepik

ईरानी राष्टपति की मौत

हेलिकॉप्टर क्रैश में ईरान के राष्ट्रपति इब्राहिम रईसी (Ebrahim Raisi) की मौत हो गई है। उनके साथ हेलिकॉप्टर में विदेश मंत्री होसैन अमीराब्दुल्लाहियन समेत 9 लोग थे।

Image credits: freepik@ wirestock

ईरान में सबसे शक्तिशाली कौन

ईरान में सबसे ताकतवर शख्स अयातुल्ला अली खामेनेई (Ali Khamenei) हैं, जो देश के सर्वोच्च नेता हैं। वो 1989 से इस पद पर बने हैं।

Image credits: Getty

ईरान के राष्ट्रपति कितने पावरफुल

ईरानी प्रेसीडेंट इब्राहिम रईसी सबसे ऊंचे निर्वाचित शख्सियत थे। ईरान में सर्वोच्च नेता के बाद राष्ट्रपति का दूसरा नंबर आता है। उन्हें जनता सीधे तौर पर चुनती हैं।

Image credits: Getty

ईरान के सुप्रीम लीडर कौन-कौन

ईरान का सबसे टॉप सुप्रीम लीडर हैं। 1979 में इस्लामिक गणराज्य बनने के बाद से अभी तक सिर्फ दो लोग ही बैठे हैं। पहला अयातुल्ला रुहोल्लाह खुमैनी और दूसरा अयातुल्ला अली खामेनेई।

Image credits: freepik

ईरान के सुप्रीम लीडर की कितनी ताकत

ईरानी संविधान के मुताबिक, सर्वोच्च नेता ईरान की घरेलू-विदेशी नीतियों की दिशा तय करेगा। सर्वोच्च नेता ही सशस्त्र बलों का कमांडर-इन-चीफ भी होता है। युद्ध-शांति के फैसले वही लेता है।

Image credits: Twitter

राष्ट्रपति को बर्खास्त कर सकते हैं

ईरान के सर्वोच्च नेता के पास बाकी पदों पर रहते हुए लोगों को बर्खास्त करने की ताकत होती है। ईरान संसद की गतिविधियों की भी देखरेख करते हैं, 12 सदस्यों में से 6 की नियुक्ति कर सकता है

Image credits: Twitter

ईरानी राष्ट्रपति कैसे बनते हैं

राष्ट्रपति ईरान के सर्वोच्च नेता के अंदर ही काम करता है। ईरानी राष्ट्रपति को जनता वोट के जरिए 4 साल के लिए चुनती है। कोई राष्ट्रपति लगातार केवल दो बार पद पर रह सकता है।

Image credits: Twitter

ईरानी राष्ट्रपति के पास क्या जिम्मेदारियां

ईरानी राष्ट्रपति राज्य योजना और बजट के साथ देश के प्रशासनिक और सिविल सेवा मामलों के जिम्मेदार है। राज्य स्तर के मेडल और अवार्ड भी प्रेसीडेंट ही देता है।

Image credits: Twitter

राष्ट्रपति के न रहने पर कौन उठाता है जिम्मेदारी

राष्ट्रपति की मौत, बर्खास्तगी, त्यागपत्र या बीमारी में उप-राष्ट्रपति ही जिम्मेदारियां संभालता है। नए राष्ट्रपति को इसके लिए सुप्रीम लीडर की मंजूरी लेनी पड़ती है।

Image credits: Freepik