World news

क्या है G7, कौन से देश शामिल, मोदी क्यों लेंगे शिखर सम्मेलन में हिस्सा

Image credits: Freepik

भारत आउटरीच देश के रूप में आमंत्रित

G7 शिखर सम्मेलन इटली में 14 जून से शुरू होने वाला है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस सम्मेलन में शामिल होंगे। इटली ने भारत को आउटरीच देश के रूप में भाग लेने के लिए निमंत्रण दिया है।

Image credits: Adobe Stock

क्या है G-7?

G7 दुनिया की सबसे विकसित अर्थव्यवस्थाओं का एक अनौपचारिक समूह है। इसकी स्थापना विश्व के आर्थिक और मौद्रिक मुद्दों पर चर्चा करने और उन पर कार्रवाई करने के लिए की गई थी।

Image credits: Adobe Stock

G-7 में कौन से देश शामिल हैं?

कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, जापान, यूके, अमेरिका और यूरोपियन यूनियन G-7 से सदस्य हैं। इसके शिखर सम्मेलन में अन्य देशों को भी आमंत्रित किया जाता है।

Image credits: Adobe Stock

मोदी क्यों होंगे शिखर सम्मेलन में शामिल?

G7 का शिखर सम्मेलन वैश्विक मुद्दों पर चर्चा करने और फैसले लेने के लिए अहम प्लेटफॉर्म है। नरेंद्र मोदी इसके शिखर सम्मेलन में शामिल होंगे ताकि भारत और ग्लोबल साउथ की आवाज उठा सकें।

Image credits: Adobe Stock

पहले रूस भी था इस समूह का हिस्सा

पहले रूस भी समूह का हिस्सा था। तब इसे G8 के नाम से जाना जाता था। रूस को 2014 में समूह से अनिश्चित काल के लिए निकाला गया। रूस ने क्रीमिया पर कब्जा कर लिया था। इसके बाद यह फैसला हुआ।

Image credits: Adobe Stock

G7 क्या करता है?

G7 का शिखर सम्मेलन हर साल होता है। समूह के सदस्य वैश्विक मुद्दों पर चर्चा करते हैं, फैसला करते हैं कि आगे क्या करना है। अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा और विश्व अर्थव्यवस्था चर्चा होती है।

Image credits: Adobe Stock

क्या है जी7 शिखर सम्मेलन का एजेंडा

इस साल के जी7 शिखर सम्मेलन का एजेंडा रूस-यूक्रेन युद्ध और इजरायल-हमास संघर्ष है। सम्मेलन इटली के अपुलिया क्षेत्र में स्थित आलीशान बोर्गो एग्नाजिया रिसॉर्ट में 13 से 15 जून तक होगा।

Image credits: Adobe Stock