Asianet News Hindi

इस मुस्लिम देश में बन रहा विशाल मंदिर, दिवाली 2022 तक श्रद्धालु कर सकेंगे दर्शन

मीडिया में आई खबरों के मुताबिक, दुबई में एक नए हिंदू मंदिर की, जिसकी नींव पिछले साल अगस्त में रखी गई थी, अगले साल दिवाली तक तैयार हो जाएगा। इस मंदिर में 11 देवी-देवताओं की मूर्ति स्‍थापित की जाएगी। जिसका निर्माण 25000 वर्ग फुट में होगा।
 

Hindu temple in Dubai will be open by Diwali 2022 dva
Author
Dubai - United Arab Emirates, First Published Jan 25, 2021, 3:40 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

हटके डेस्क : दुबई (Dubai) में बढ़ती हिन्दू आबादी को देखते हुए यहां भव्य मंदिर (Hindu temple) बनने जा रहा है, जिसकी नींव अगस्त 2019 में प्रधानंत्री नरेंद्र मोदी ने रखी थी। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक ये मंदिर श्रद्धालुओं के लिए 2022 तक खोल दिया जाएगा। बात दें कि यूएई में करीब 30 लाख भारतीय रहते हैं। ऐसे में उनकी आस्था को देखते हुए यहां मंदिर बनाने के प्रस्ताव रखा गया था। साल 2015 में प्रधानमंत्री मोदी जब अबू धाबी गए थे, उस समय मंदिर के लिए जमीन देने का वादा किया गया था। इस मंदिर का निर्माण दुबई शहर के जेबेल अली इलाके गुरु नानक सिंह दरबार के पास हो रहा है, जो यहां का सबसे पुराना सिंधी गुरुद्वारा है। इसका निर्माण 1950 में हुआ था।

25 हजार वर्ग फुट में बन रहा विशाल मंदिर
रविवार को गल्‍फ न्‍यूज से संपर्क करने पर मंदिर के ट्रस्टियों में से एक राजू श्रॉफ ने बताया कि यह मंदिर यूएई और दुबई के नेताओं के खुले विचारों को दिखाता है। इस मंदिर में 11 देवी-देवताओं की मूर्ति स्‍थापित की जाएगी। जिसका निर्माण 25000 वर्ग फुट में होगा। बता दें कि भारत की पारंपरिक मंदिर वास्‍तुकला के अनुसार इस मंदिर के निर्माण में इस्‍पात या इससे बनी सामग्री का इस्‍तेमाल नहीं किया जाएगा। मंदिर के नींव को मजबूती देने के लिए फ्लाई ऐश का इस्‍तेमाल किया जाएगा। वैसे तो ये मंदिर 75000 स्क्वॉयर फीट तक फैला है। जिसमें दो बेसमेंट होंगे। इसके अलावा 4000 स्क्वॉयर फीट का बैंक्विट हॉल भी होगा जहां पर 775 लोग एक साथ इकट्ठा हो सकते हैं, साथ ही 1000 स्क्वॉयर फीट का मल्टिपर्पज हॉल होगा, जहां पर तकरीबन 100 लोग इकट्ठे हो सकते हैं।

दिवाली 2022 पर खुलेंगे मंदिर के पट
कहा जा रहा है कि इस मंदिर को साल 2022 तक तैयार कर लिया जाएगा। इसके बाद दिवाली 2022 तक इसे श्रद्धालुओं के लिए खोल दिया जाएगा। इस मंदिर के बनने से दोनों देशों के बीच सांस्कृतिक का आदान-प्रदान होगा और द्विक्षीय रिश्ते भी मजबूत होंगे।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios