Asianet News HindiAsianet News Hindi

अफगानिस्तान की मस्जिद में विस्फोट, मारे गए लोगों को दफनाया गया

मस्जिद में हुए बम धमाकों में मारे गए 66 लोग, दिल दहलाने वाला था मंजर। संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस के कार्यालय के प्रवक्ता ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने हमले की कड़ी निंदा की और कहा है कि हमले के जिम्मेदार लोगों को जवाबदेह ठहराया जाना चाहिए।

blast in afganistan in a mosque
Author
Kabul, First Published Oct 19, 2019, 7:49 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

काबुल:  पूर्वी अफगानिस्तान की एक मस्जिद में जुमे की नमाज के दौरान हुए बम विस्फोट में मारे गए 66 लोगों को दफना दिया गया है। अंत्येष्टि में सैकड़ों ग्रामीण शामिल हुए। नांगरहार प्रांत के गवर्नर के प्रवक्ता अताउल्ला खोग्यानी ने कहा कि जोडारी गांव स्थित मस्जिद में जुमे की नमाज के दौरान हुए बम विस्फोट में 36 लोग घायल हुए हैं। हांलाकि, यह स्पष्ट नहीं हुआ है कि मस्जिद पर आत्मघाती हमला हुआ या किसी अन्य प्रकार का हमला।

 

दिल दहला देने वाला था नजारा

हादसे में मृतकों की संख्या 66 है। 10 घायलों को इलाज के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है। हस्कीमीना जिले के आसपास के ग्रामीणों ने कहा कि मस्जिद में बम विस्फोट के समय सौ से अधिक नमाजी थे। एक ग्रामीण ने बताया कि जब वह अन्य स्थानीय लोगों के साथ विस्फोट स्थल पर पहुंचा तो उन्हें ‘‘दिल दहला देने वाला दृश्य’’ दिखा। हमले की अभी किसी संगठन ने जिम्मेदारी नहीं ली है लेकिन तालिबान और इस्लामिक स्टेट समूह दोनों ही पूर्वी अफगानिस्तान, खासकर नांगरहार प्रांत में सक्रिय हैं।

 

UN ने की कड़ी निंदा

वहीं, तालिबान के प्रवक्ता ज़बीउल्लाह मुजाहिद ने एक बयान जारी करके नांगरहार में हमले की निंदा की और इसे एक गंभीर अपराध बताया। संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस के कार्यालय के प्रवक्ता ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने हमले की कड़ी निंदा की और कहा है कि हमले के जिम्मेदार लोगों को जवाबदेह ठहराया जाना चाहिए। यह हिंसा ऐसे समय हुई है, जब संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि अफगानिस्तान में युद्ध में रिकार्ड संख्या में अफगान नागरिक मारे जा रहे हैं।

(यह खबर समाचार एजेंसी भाषा की है, एशियानेट हिंदी टीम ने सिर्फ हेडलाइन में बदलाव किया है।)

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios