नई दिल्ली. भारतीय संविधान के मुताबिक जम्मू-कश्मीर और लद्दाख भारत के अभिन्न अंग हैं और हमेशा रहेंगे। यह बात केंद्र सरकार ने ट्विटर को लिखे उस पत्र में कही है, जिसमें ट्विटर सीईओ जैक डौरसी को भारत की संप्रभुता और भारतीयों की भावनाओं का सम्मान करने को कहा गया है। सूत्रों के मुताबिक, पत्र में भारत ने ट्विटर को चेतावनी देते हुए कहा कि यह हरकत बर्दाश्त के बाहर है। भारतीय कानून का उल्लंघन और देश की संप्रभुता और अखंडता से खिलवाड़ नहीं किया जाना चाहिए। आईटी सचिव अजय साव्हने ने कहा कि यह दिखाता है कि ट्विटर कैसी मानसिकता का परिचय दे रहा है।

भारत - चीन विवाद के बीच ट्विटर को चेतावनी 

भारत ने ट्विटर को ऐसे समय में चेतावनी दी है, जब भारत और चीन के बीच में कई महीनों से सीमा विवाद की स्थिति बनी हुई है। दरअसल, ट्विटर इंडिया (Twitter India) ने 18 अक्टूबर को एक शख्स की वीडियो कॉलिंग के दौरान राज्य की एक लोकेशन को चीन (China) के हिस्‍से के रूप में दिखा दिया था। इसके बाद सोशल मीडिया पर ट्विटर का विरोध होने लगा था। हालांकि, ट्विटर इंडिया ने अपनी सफाई में कहा था कि समस्या हल कर दी गई है। 

लद्दाख की राजधानी लेह स्थित वॉर मेमोरियल पर आयोजित कार्यक्रम को कुछ पत्रकारों की ओर से लाइव किए जाने के बाद ट्विटर ने यह गलती की थी। इस हरकत के बाद से ही इंटरनेट पर लोगों में गुस्‍सा को लेकर देखने को मिला। 

ट्विटर ने दी सफाई

ट्विटर इंडिया के प्रवक्ता ने कहा था, 'हम रविवार को हुई इस तकनीकी समस्‍या से अवगत हैं। हम इसको समझते हैं और इसकी संवेदनशीलता का सम्‍मान करते हैं। हमारी टीम ने इसकी जांच की और जियोटैग की इस समस्‍या को अब हल कर लिया गया है। हालांकि माफी नहीं मांगी है।

ट्विटर अधिकारियों की गिरफ्तारी की उठी थी मांग

देश के लिए शहीद होने वालों जवानों की याद में बने हॉल ऑफ फेम मेमोरियल से लेखकर और राष्ट्रीय सुरक्षा विश्लेषक नितिन गोखले ने ट्विटर पर लाइव ब्रॉडकास्ट की शुरुआत की थी। वीडियो में जो लोकेशन टैग दिखाया गया वह था, 'जम्मू-कश्मीर, पीपल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना।' गोखले और अन्य ट्विटर यूजर्स ने तुरंत इस गलती को ट्विटर और ट्विटर इंडिया के आधिकारिक हैंडल्स पर शिकायत की। हालांकि, किसी भी अकाउंट से कोई उत्तर नहीं दिया गया। इस मामले में कुछ लोगों ने तो ट्विटर के अधिकारियों को गिरफ्तार करने की मांग भी की थी।

OR फाउंडेशन के कंचन गुप्ता ने उठाया था मुद्दा

ट्विटर की इस हरकत के बाद इस मुद्दे को ऑब्जर्वर रिसर्च फाउंडेशन (ओआरएफ) के कंचन गुप्ता ने उठाया। कंचन गुप्ता ने ट्वीट में लिखा, 'ट्विटर ने अब भूगोल बदलने का फैसला कर लिया है। इसने जम्मू-कश्मीर को चीन का हिस्सा घोषित कर दिया है। यह भारतीय कानूनों का उल्लंघन नहीं है तो क्या है? क्या अमेरिकी कंपनी भारतीय कानून से ऊपर है?'