Asianet News HindiAsianet News Hindi

बैंकॉक से दुनिया को न्यौता: PM मोदी ने कहा- भारत सबसे बढ़िया अर्थव्यवस्था, गड़बड़ी की गुंजाइश नहीं

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रविवार को यहां एक कार्यक्रम में निवशकों को संबोधित करते हुए कहा कि भारत में निवेश के लिए अभी सबसे अच्छा समय है। मोदी तीन दिवसीय यात्रा पर थाईलैंड में हैं। मोदी ने निवेशकों से कहा, ‘‘ भारत बदलाव के दौर से गुजर रहा है। देश ने नियमित और नौकरशाही वाली शैली में काम करना बंद कर दिया है।’’ कारोबार के लिहाज से भारत में अब कई अवसर और सुविधाएं हैं। प्रधानमंत्री ने निवेशकों को भारत में निवेश के लिए प्रोत्साहित करते हुए कहा कि भारत में निवेश के लिए यह सबसे बेहतर समय है।

Invitation to the world for business: India is the best economy, no scope for disturbances; PM Modi
Author
Bangkok, First Published Nov 3, 2019, 10:54 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

बैंकॉक. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रविवार को यहां एक कार्यक्रम में निवशकों को संबोधित करते हुए कहा कि भारत में निवेश के लिए अभी सबसे अच्छा समय है। मोदी तीन दिवसीय यात्रा पर थाईलैंड में हैं। मोदी ने निवेशकों से कहा, ‘‘ भारत बदलाव के दौर से गुजर रहा है। देश ने नियमित और नौकरशाही वाली शैली में काम करना बंद कर दिया है।’’ कारोबार के लिहाज से भारत में अब कई अवसर और सुविधाएं हैं। प्रधानमंत्री ने निवेशकों को भारत में निवेश के लिए प्रोत्साहित करते हुए कहा कि भारत में निवेश के लिए यह सबसे बेहतर समय है।

उन्होंने कहा, ‘‘निवेश के लिए भारत अब दुनिया की सबसे आकर्षक अर्थव्यवस्थाओं में से एक है।’’ उन्होंने कहा कि भारत में व्यापार करना अब पहले से कहीं अधिक सुगम हो गया है। भारत में करदाताओं के महत्व को रेखांकित करते हुए उनके योगदान की सराहना की।

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘आज के भारत में परिश्रमी करदाताओं के योगदान को सराहा जाता है। एक क्षेत्र जहां हमने महत्वपूर्ण काम किया है वह है कराधान।’’ मोदी ने कहा, ‘‘ हमने कराधान के क्षेत्र में महत्वपूर्ण काम किया है। भारत में सबसे अच्छी लोक अनुकूल कर व्यवस्था है।’’ उन्होंने कर व्यवस्था में किसी गड़बड़ी को रोकने और पारदर्शिता लाने के लिये सरकार द्वारा उठाए गए विभिन्न कदमों का जिक्र किया।

उन्होंने कहा, ‘‘हम अब ‘फेसलेस’ कर आकलन शुरू कर रहे हैं, जिससे किसी तरह के उत्पीड़न या गड़बड़ी की गुंजाइश नहीं होगी।’’ ‘फेसलेस’ कर आकलन में जांच के दायरे में आए करदाता और कर (असेसमेंट) अधिकारियों का आमना-सामना नहीं होता।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios