नई दिल्ली. कोरोना और आर्थिक संकट से जूझ रहा पाकिस्तान भारत में बन रही ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और एस्ट्राजेनेका की कोरोना वैक्सीन कोवीशील्ड के भरोसे है। यहां इमरान सरकार ने शनिवार को कोवीशील्ड को पाकिस्तान में इमरजेंसी यूज के लिए मंजूरी दी। इससे पहले पाकिस्तान में चीन की कंपनी साइनोफार्म की वैक्सीन को भी मंजूरी मिल चुकी है। इसके 10 लाख डोज का ऑर्डर भी दिया जा चुका है। वहीं, भारत के सीरम इंस्टीट्यूट को पड़ोसी देशों से भी ऑर्डर मिल रहे हैं। 

पाकिस्तान में जून से लगेगी आम लोगों को वैक्सीन
इमरान खान के स्पेशल असिस्टेंट फैसल सुल्तान ने बताया, पाकिस्तान में फरवरी तक 12 लाख डोज पहुंच जाएंगे। हालांकि, अभी वैक्सीन की कीमत का खुलासा नहीं किया गया है। पाकिस्तान में पहले चरण के लिए फ्रंटलाइन वर्कर्स का रजिस्ट्रेशन शुरू कर दिया गया है। इमरान सरकार ने आम लोगों के लिए कीमत अलग रखने का फैसला किया है। यहां आम लोगों के लिए जून में वैक्सीनेशन शुरू किया जाएगा। 
 
किन देशों से मिला कोवीशील्ड को ऑर्डर  

नेपाल:  नेपाल ने 12 मिलियन वैक्सीन के डोज मांगे है। इसके लिए नेपाल की सरकार भारत से जल्द वैक्सीन सप्लाई पर डील भी कर सकती है।
भूटान : 10 लाख डोज की आपूर्ति करने के लिए कहा है। 
म्यांमारः म्यांमार ने सीरम के साथ डील की है। म्यांमार ने चीन से भी वैक्सीन के लिए डील की है। 
बांग्लादेशः  बांग्लादेश ने कोवीशील्ड के 30 मिलियन डोज मांगे हैं। बांग्लादेश में इसे अप्रूवल भी मिल चुका है। 
श्रीलंकाः   श्रीलंका ने भारत से वैक्सीन मांगी है। वहीं, विदेश मंत्री जयशंकर ने अपनी श्रीलंका यात्रा के दौरान राष्ट्रपति को भरोसा भी दिलाया है।
मालदीव: मालदीव भारत से वैक्सीन लेने के लिए संपर्क में है। 
अफगानिस्तानः अफगानिस्तान ने भी वैक्सीन के लिए भारत से उम्मीद जताई है। 

इन देशों ने भी मांगी मदद
इन देशों के अलावा ब्राजील (2 मिलयन डोज), दक्षिण अफ्रीका ( 1.5 मिलियन वैक्सीन), जापान (120 मिलियन डोज), दक्षिण कोरिया (20 मिलियन डोज), ऑस्ट्रेलिया (53.8 मिलियन डोज), फिलीपींस, इंडोनेशिया, वियतनाम, थाइलैंड भी ऑक्सफोर्ड की कोवीशील्ड के लिए ऑर्डर दे चुके हैं।