Asianet News HindiAsianet News Hindi

पाकिस्तान के बलूचिस्तान प्रांत में हिंदू व्यापारी की हत्या, कर्ज की वसूली करने गया था व्यापारी

बलूचिस्तान में एक हिंदू व्यापारी की अज्ञात हमलावरों ने हत्या कर दी। हाल के वर्षों में, पाकिस्तान में धार्मिक अल्पसंख्यकों के पूजा स्थलों पर हमलों में वृद्धि हुई है। पाकिस्तान अपने देश के अल्पसंख्यकों के हितों की रक्षा करने में बार-बार नाकाम हुआ है। 

Pakistan Hindu Trader killed By Unknown Baluchistan
Author
Baluchistán, First Published Jan 2, 2022, 4:26 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

बलूचिस्तान। बलूचिस्तान प्रांत के लस्बीला शहर में एक हिंदू व्यापारी रमेश लाल नंद लाल की अज्ञात लोगों ने हत्या कर दी। पाकिस्तानी (Pakistan Media) स्थानीय मीडिया के मुताबिक रमेश लाल नंद लाल किसी से अपना कर्ज वसूलने गए थे। इस दौरान उनकी हत्या कर दी गई। रमेश लाल नंद लाल पर हमला पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों और उनके पूजा स्थलों पर हमले का एक और उदाहरण है। हाल के वर्षों में, पाकिस्तान में धार्मिक अल्पसंख्यकों के पूजा स्थलों पर हमलों में वृद्धि हुई है। पाकिस्तान अपने देश के अल्पसंख्यकों के हितों की रक्षा करने में बार-बार नाकाम हुआ है। इससे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी उसकी किरकिरी हो रही है।  

जून में भी वसूली न मिलने पर हुई थी घटना
पिछले साल जून महीने में बलूचिस्तान के खुजदार जिले के वाध बाजार में हफ्ता वसूली न मिलने के बाद हमलावरों ने हवा में कई राउंड फायरिंग की थी। इससे पहले हमलावरों ने एक हिंदू व्यापारी अशोक कुमार की हत्या कर दी थी। हमलावरों ने बाजार में और राष्ट्रीय राजमार्ग के साइनबोर्ड पर पर्चे चिपकाए थे, जिनमें दुकानदार अगर स्थानीय महिलाओं को दुकान में आने की अनुमति देंगे तो उन्हें गंभीर परिणाम भुगतने होंगे। हिंदू व्यापारी की हत्या के बाद स्थानीय लोगों ने जमकर विरोध प्रदर्शन किया था। 

अगस्त में तोड़ा था हिंदू मंदिर 
अगस्त 2021 में पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में मुस्लिमों ने हिंदू मंदिर तोड़ दिया था। इस गणेश मंदिर को 4 अगस्त को तोड़ दिया गया था। भीड़ ने आरोप लगाया था कि एक स्थानीय मदरसे में कथित तौर पर पेशाब करने के लिए गिरफ्तार किए गए 8 वर्षीय हिंदू लड़के को अदालत द्वारा रिहा करने के विरोध में मंदिर पर हमला किया था। पाकिस्तान के चीफ जस्टिस ने इस मामले की स्वत: संज्ञान लिया था और सुनवाई की थी। सुप्रीम कोर्ट ने मंदिर की सुरक्षा में नाकामी को लेकर अधिकारियों को फटकार लगाई थी। इसके बाद इस मंदिर का पुनर्निर्माण करवाकर इसे हिंदुओं को सौंप दिया गया था। इस मामले में 150 लोगों की गिरफ्तारी भी हुई थी।  

यह भी पढ़ें
महंगाई से हांफ रहा पाकिस्तान, खाद्य पदार्थ 21 महीनों के उच्च स्तर पर, दिसंबर में 12.3 फीसदी तक की वृद्धि

पाक सरकार के लिए गले की फांस बना तालिबान, डूरंड रेखा पर बाड़बंदी करने से रोका

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios