Asianet News HindiAsianet News Hindi

पिछले साल इस देश में 71 हजार ईवी कार भी नहीं बेच सका वोक्सवैगन, बताया यह कारण

कंपनी ने मंगलवार को कहा कि वोक्सवैगन एजी (Volkswagen AG) ने पिछले साल चीन में 70,625 आईडी इलेक्ट्रिक वाहन (Electric Vehicle)  बेचे। जबकि टारगेट 80,000 से 100,000 कारों को बेचने का रखा था।

Volkswagen could not even sell 71 thousand EV cars in this country last year SSA
Author
New Delhi, First Published Jan 11, 2022, 10:01 AM IST

ऑटो डेस्‍क। जहां एक ओर टोयोटा (Toyota) और टेस्‍ला (Tesla) की गाड़‍ियों ने दुनियाभर के लोगों के पर राज किया। वहीं जर्मन कंपनी वोक्‍सवैगन (Volkswagen) अपनी कार सेल टारगेट से पूरी तरह से चूक गई। कंपनी ने मंगलवार को कहा कि वोक्सवैगन एजी (Volkswagen AG) ने पिछले साल चीन में 70,625 आईडी इलेक्ट्रिक वाहन (Electric Vehicle)  बेचे। जबकि टारगेट 80,000 से 100,000 कारों को बेचने का रखा था। जर्मन ऑटोमेकर के चीन प्रमुख स्टीफ़न वोलेनस्टीन ने अपने बयान में कहा कि वर्ष 2021 एक समूह के रूप में काफी कठिन वर्ष था।

कंपनी से बयान
वॉलेंस्टीन ने कहा कि वैश्विक रूप से चिप की कमी सहित आपूर्ति श्रृंखला की बाधाओं ने उत्पादन को प्रभावित किया। जिसकी वजह से वोक्सवैगन अपने आईडी सेल टारगेट को पूरा करने में पूरी तरह से विफल रही। आईडी रेंज, जिसे वोक्सवैगन SAIC मोटर और FAW समूह के साथ अपने चीनी संयुक्त उद्यमों में बनाता है, वोक्सवैगन की इलेक्ट्रिक वाहन महत्वाकांक्षाओं की रीढ़ है।

यह भी पढ़ें:- मा‍रुति, महिंद्रा या होंडा नहीं हुंडई है भारत में लोगों की सबसे फेवरेट कार, दुनिया में टोयोटा का जलवा

इनका रहा चीन में दबदबा
पिछले साल चीन के शीर्ष 10 इलेक्ट्रिक कार ब्रांडों में से एकमात्र विदेशी नाम टेस्ला था। कंसल्टेंसी ऑटोमोबिलिटी के अनुसार, इस सूची में BYD, Wuling, साथ ही Nio और Xpeng सहित चीनी वाहन निर्माताओं का दबदबा देखने को मिला। आपको बता दें क‍ि पिछले साल चिप की शॉर्टेज की वजह से दुनिया की सभी कंपनियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा है। इन सब के बावजूद टोयोटा और टेस्‍ला की गा‍ड़‍ियों की सेल में काफी अच्‍छा इजाफा देखने को मिला है।

यह भी पढ़ें:- ये हैं दुनिया की टॉप 20 सेफेस्‍ट एयरलाइंस, अमरीका के पांच नाम शामिल

 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios