Asianet News HindiAsianet News Hindi

Chhath geet: रितेश पांडे के इस छठ स्पेशल गाने को सुन दोगुना हो जाएगा त्योहार का क्रेज, बार बार देख रहे लोग

वीडियो डेस्क। छठ का पर्व हो तो भोजपुरी गानों का मजा ना हो तो त्योहार की रौनक फीकी ही रहती है। इस त्योहार का मजा दोगुना करने के लिए रितेश पांडे (Ritesh pandey) ने अपना गाना रिलीज किया है। जो लोगों को खूब पसंद आ रहा है। इस गाने का टाइटल है 'पान के पत्ता बाटे न पता' (Paan Ke Patta) जिसे यूट्यूब चैनल वर्ल्डवाइड रिकॉर्ड भोजपुरी (Bhojpuri song) पर रिलीज किया गया है।

Chhath 2021, viral festival song of Ritesh Pandey, this will double your excitement
Author
Bhopal, First Published Nov 2, 2021, 12:00 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp


वीडियो डेस्क। छठ का पर्व हो तो भोजपुरी गानों का मजा ना हो तो त्योहार की रौनक फीकी ही रहती है। इस त्योहार का मजा दोगुना करने के लिए रितेश पांडे (Ritesh pandey) ने अपना गाना रिलीज किया है। जो लोगों को खूब पसंद आ रहा है। इस गाने का टाइटल है 'पान के पत्ता बाटे न पता' (Paan Ke Patta) जिसे यूट्यूब चैनल वर्ल्डवाइड रिकॉर्ड भोजपुरी (Bhojpuri song) पर रिलीज किया गया है। रिलीज होते ही ये गाना सोशल मीडिया पर छाया हुआ है। पहले ये वीडियो देखिए 

ये गाने को खूब पसंद किया जा रहा है। रिलीज होते ही इस गाने को रिकॉर्ड व्यूज मिले हैं। इसे चैनल पर छठ गीत 2021, रितेश पांडे का नया छठ गीत (Chhath Geet 2021) के टाइटल  से अपलोड किया गया। रितेश के साथ इस गाने को सिंगर अंतरा सिंह (Antra singh) ने अपनी आवाज से सजाया है। तरुण पांडे ने लिरिक्स लिखे हैं। म्यूजिक की बात करें तो डीपी यादव ने दिया है। वहीं कोरियोग्राफी आकाश राज ने की है। 

इस वीडियो में रितेश पांडे ने छठ पर्व के त्योहार को दिखाया है। रितेश इस वीडियो में एक्ट्रेस के साथ पीले कुर्ते में नजर आ रहे हैं। ये गाना 31 अक्टूबर को रिलीज किया गया है। गाने में छठ पर्व (Chhat pooja) की तैयारियों से लेकर महत्व और व्रत की जटिलता को बताया है। एक्ट्रेस के साथ रितेश पांडे की जोड़ी को लोग खूब पसंद कर रहे हैं। इस गाने को 3 लाख से ज्यादा व्यूज मिल चुके हैं। हजारों लोगों ने इसे लाइक किया है। लोग जमकर इस गाने पर कंमेंट कर रहे हैं। आपको बता दें कि छठ पर्व बिहार का सबसे फेमस त्योहार है। 3 दिन के इस पर्व की तैयारियां महीने पहले से ही शुरू हो जाती हैं। ये ऐसा पर्व है जो ढलते सूरज के साथ शुरू होता है और उगते सूरज पर आकर पूरा होता है। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios