Asianet News Hindi

फडणवीस के आने के साथ ही और गर्म होगा सुशांत-कंगना-उद्धव सरकार का मुद्दा, लालू फैमिली को घेरेंगे नीतीश

उद्धव सरकार के खिलाफ माहौल बना है उसे बीजेपी राज्य में भी भुनाने की कोशिश करेगी।  एनडीए की स्ट्रेटजी से यह साफ है कि कांग्रेस-वामपंथी पार्टियों समेत दूसरे विपक्षी दलों को घेरने का काम बीजेपी का होगा जबकि नीतीश लालू फैमिली के बहाने आरजेडी पर हमले करेंगे। 

after Devendra Fadnavis issue of Sushant Kangana Uddhav government will rise in bihar Nitish hit Lalu family
Author
Patna, First Published Sep 10, 2020, 12:16 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

पटना। चुनाव आयोग ने अभी बिहार में 243 विधानसभा सीटों के लिए शेड्यूल का ऐलान तो नहीं किया है मगर बीजेपी की तैयारियों से दिखने लगा है कि पार्टी ने राज्य के चुनाव की सारी तैयारियां बूथ स्तर तक लगभग पूरी कर ली हैं। एक तरह से आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चुनाव के लिए बीजेपी के तूफानी दौरे का शुभारंभ करने जा रहे हैं। आज मोदी की वर्चुअल रैली के बाद महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री और बिहार चुनाव के प्रभारी देवेन्द्र फडणवीस कमान संभालेंगे। जबकि 12 सितंबर को पार्टी प्रेसिडेंट जेपी नड्डा भी स्ट्रेटजी को धार देने पहुंचेंगे। 

प्रभारी बनाए जाने के बाद 11 सितंबर को फडनवीस का पहला बिहार दौरा होगा। वह सुबह ही पटना पहुंचेंगे। पार्टी ऑफिस में मीटिंग और मीडिया सेंटर का उद्घाटन भी करेंगे। मीडिया सेंटर पटना के एक होटल में बनाया गया है। चुनाव के दौरान पटना में पार्टी के बड़े नेताओं की गतिविधियां यहीं से मॉनिटर किए जाने की उम्मीद है। देवेंद्र, शाम को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से भी मुलाक़ात कर एनडीए की कॉमन स्ट्रेटजी पर बात करेंगे। वैसे नेताओं के मूवमेंट की अभी आधिकारिक घोषणा नहीं हुई है। 

(रिया चक्रवर्ती और सुशांत सिंह राजपूत)

सुशांत-कंगना-उद्धव बीजेपी के हिस्से, लालू फैमिली को घेरेंगे नीतीश 
फडणवीस के आने का मतलब साफ है कि एनडीए की ओर से बीजेपी सुशांत डेथ केस और उद्धव के बहाने "बिहार बनाम महाराष्ट्र" का मुद्दा आक्रामक तरीके से खड़ा करने जा रही है। पार्टी के काला और संस्कृति मोर्चे की फेस मास्क प्रचार सामाग्री भी इसका सबूत हैं। यह भी पहले ही साफ हो चुका है कि फडणवीस को आखिरी मौके पर बिहार चुनाव में लगाना बीजेपी की इसी रणनीति का हिस्सा है। कंगना के ऑफिस में तोड़फोड़ के बाद जिस तरह से उद्धव सरकार के खिलाफ माहौल बना है उसे बीजेपी राज्य में भी भुनाने की कोशिश करेगी।

एनडीए की स्ट्रेटजी से यह साफ है कि कांग्रेस-वामपंथी पार्टियों समेत दूसरे विपक्षी दलों को घेरने का काम बीजेपी का होगा जबकि नीतीश लालू फैमिली के बहाने आरजेडी पर हमले करेंगे। अपनी पहली वर्चुअल रैली में उन्होंने इसे साफ भी कर दिया था। 

बीजेपी के बड़े कैंडिडेट इलाकों में सक्रिय 
बीजेपी ने पिछले हफ्ते ही चुनाव के लिए 200 से ज्यादा नेताओं की अलग-अलग कमेटियां बना ली हैं। सूत्रों की मानें तो पार्टी ने उम्मीदवारों के नाम भी लगभग फाइनल कर लिया है और चुनाव शेड्यूल की घोषणा के साथ ही बड़े नेताओं से बैठक के बाद इसे अनाउंस कर दिया जाएगा। कई महत्वपूर्ण उम्मीदवारों को पहले से ही संकेत दे दिया गया है और वो अपने निर्वाचन क्षेत्र में सक्रिय भी हो चुके हैं। पूरा प्रचार डिजिटल होने जा रहा है। पार्टी के आईटी सेल ने इस पर काफी पहले काम भी शुरू कर दिया है। पार्टी ने खासतौर से चुनाव के लिए इस बार एलईडी रथ बनवाए हैं। 

(चुनाव के लिए बीजेपी का एलईडी रथ)

नड्डा रवाना करेंगे एलईडी रथ 
बिहार दौरे पर आने के बाद जेपी नड्डा इसे हरी झंडी दिखाकर निर्वाचन क्षेत्रों एन रवाना करेंगे। कुछ हफ्ते पहले अमित शाह की वर्चुअल रैली से बीजेपी ने विरोधियों को बता दिया था कि कोरोना काल में चुनाव के लिए उसकी तैयारियां फूलप्रूफ हैं। हालांकि अभी पार्टी का घोषणापत्र तैयार नहीं हो पाया है। मगर इसे बनाने वाली टीम का ऐलान पहले ही हो गया है। माना जा रहा है कि फडणवीस और  नड्डा के आने के बाद इसे अंतिम रूप दे दिया जाएगा। इस बात की संभावना भी है कि बीजेपी एनडीए के अलावा पार्टी का भी एक घोषणापत्र बनाए।   

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios