पटना (Bihar) । बिहार में आज शाम नई सरकार के मुख्यमंत्री और अन्य मंत्रियों का शपथ ग्रहण समारोह होगा। नीतीश कुमार सातवीं बार मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे।  शपथ ग्रहण समारोह राजभवन में शाम 4.30 बजे आयोजित किया जाएगा। इससे पहले नीतीश कुमार गांधी मैदान में शपथ लेते रहे हैं। लेकिन इस बार कोरोना संक्रमण को देखते हुए शपथ ग्रहण समारोह में सीमित लोगों की मौजूदगी रहेगी। इस दौरान केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा की मौजूद रहेंगे। तारकिशोर प्रसाद के नाम पर मुहर लग गई। अतिपिछड़ा नोनिया समाज की रेणु दूसरी डिप्‍टी सीएम हो सकती हैं। खबर है कि स्‍पीकर पद के लिए बीजेपी अड़ी हुई है। दोपहर में दोनों नेताओं की मौजूदगी में मंत्रियों के नाम पर अंतिम मुहर लगेगी। दूसरी ओर सुशील मोदी ने अपने ट्टिटर की प्रोफाइल को अपडेट कर दिया है। उन्होंने डिप्टी सीएम पद को हटा दिया गया है। माना जा रहा है कि उन्हें दिवंगत रामविलास पासवान की जगह राज्यसभा भेजकर भाजपा केंद्र में मंत्री बनाने जा रही है। 

कार्यकर्ता का पद कोई छीन नहीं सकता-सुशील मोदी
डिप्टी सीएम सुशील मोदी ने कहा है कि भाजपा एवं संघ परिवार ने मुझे 40 वर्षों के राजनीतिक जीवन में इतना दिया की शायद किसी दूसरे को नहीं मिला होगा। आगे भी जो जिम्मेवारी मिलेगी उसका निर्वहन करूंगा। कार्यकर्ता का पद तो कोई छीन नहीं सकता।

तारकिशोर प्रसाद बने बीजेपी विधानमंडल दल के नेता
रविवार को सबसे पहले बीजेपी के नवनिर्वाचित विधायकों व विधान पार्षदों की बैठक पूर्वाह्न 10 बजे के बाद से पटना में हुई। इसमें रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) भी शामिल हुए। बैठक में तार किशोर प्रसाद बीजेपी विधानमंडल दल के नेता चुने गए। जबकि, बेतिया से बीजेपी विधायक रेणु देवी उपनेता चुनीं गईं। शपथ लेने वालों में दूसरे नंबर पर तार किशोर का नाम है।

ये नेता फिर से बनाए जा सकते हैं मंत्री
संभावना है कि भाजपा के विनोद नारायण झा और संजय झा पुन: राज्य मंत्रिमंडल का हिस्सा बन सकते हैं। ऊर्जा मंत्री बिजेंद्र प्रसाद यादव व रुपौली से जीतीं गन्ना मंत्री बीमा भारती को भी जगह मिलनी तय मानी जा रही है। महेश्वर हजारी व नंदकिशोर यादव भी पुन: मंत्री होंगे यह भी तय है। खाद्य आपूर्ति मंत्री मदन सहनी भी जीतकर आ गए हैं। कोसी से नरेंद्र नारायण यादव भी जीत गए हैं। श्रवण कुमार को नए मंत्रिमंडल में जगह मिलेगी यह तय है।

इन मंत्रियों की जगह नए चेहरे की तलाश
जदयू कोटे से मंत्री रहे कृष्णनंदन प्रसाद वर्मा, जयकुमार सिंह, खुर्शीद उर्फ फिरोज, रामसेवक सिंह, लक्ष्मेश्वर राय, बृजकिशोर बिंद, संतोष निराला और शैलेश कुमार चुनाव हार गए हैं। श्याम रजक अब पार्टी में हैं ही नहीं।  जबकि, मंत्री रहे कपिलदेव कामत का निधन हो गया है। भाजपा कोटे के मंत्री सुरेश शर्मा चुनाव हार गए हैं। विनोद सिंह की मृत्यु हो गई है। ऐसे में इनकी जगह मंत्रिमंडल में नए चेहरे दिखेंगे।

घटक दल को केंद्र का ऑफर दे सकती है भाजपा
जदयू केंद्र की NDA सरकार का हिस्सा तो है, लेकिन उसके मंत्री नहीं हैं। संभावना है कि NDA की आज होने वाली बैठक में अगर कहीं मामला फंसा तो भाजपा घटक दल को केंद्र में सहभागिता का ऑफर दे सकती है। 2019 के आम चुनाव के बाद केंद्र में एक मंत्री पद का ऑफर नीतीश कुमार ने ठुकरा दिया था। बिहार में भाजपा के 17 और जदयू के 16 सांसद हैं, जिसके कारण नीतीश कम-से-कम तीन केंद्रीय मंत्री का पद चाह रहे हैं। नीतीश 6 सांसदों वाली लोजपा के विधानसभा चुनाव में दिखाए रवैए से खफा हैं, जिसके कारण वह लोजपा को लेकर भी भाजपा के वरिष्ठ नेताओं के समक्ष शर्तें रख सकते हैं।

भाजपा 40 सीटों वाले नीतीश कुमार को सीएम बना रही- आरजेडी
वहीं,आरजेडी नेता मनोज झा ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा है कि कुछ दिन इंतजार कीजिए, 40 सीट लाकर के जनता द्वारा खारिज कर देने के बाद अगर कोई व्यक्ति विशेष मुख्यमंत्री बनने का ख्वाब देख रहा है तो ये ख्वाब बिहार को नहीं पच रहा। उन्होंने कहा है कि कितनी बड़ी विडंबना है कि बीजेपी 74 सीट लाती है। लेकिन, सीएम का चेहरा नहीं है उनके पास, मिल भी नहीं रहा है, खोजना भी नहीं चाह रहे हैं, बड़ा दवाब है! तो 40 सीट वाले को सीएम पद का उम्मीदवार चुनेंगे। 4 सीट हम और वीआईपी की है। इस विडंबना का अनफोल्डिंग आगे कैसे होगा, हमें इंतजार है।