पटना (Bihar) । मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के घर में भी कोरोना पहुंच गया है। सरकारी आवास में रहने वाली नीतीश कुमार की भतीजी संक्रमित पाई गई है, जिसे पटना एम्स में भर्ती किया गया। इसके बाद पूरे मुख्यमंत्री आवास को सैनिटाइज कराया गया है। घर के सभी सदस्यों को होम क्वारंटाइन करके टेस्ट किया जा रहा है। हालांकि, मुख्यमंत्री हर रोज की तरह काम करते रहेंगे। नीतीश कुमार ने 4 जुलाई को कोरोना टेस्ट कराया था, उनकी रिपोर्ट निगेटिव आई थी। वहीं, नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने नीतिश सरकार पर निशाना साधा है। 

नीतीश कुमार की रिपोर्ट आई निगेटिव 
विधान परिषद के नवनिर्वाचित सदस्यों के शपथ ग्रहण कार्यक्रम में अवधेश नारायण सिंह के साथ मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री और विधानसभा अध्यक्ष भी शामिल हुए थे। शनिवार सुबह सभापति के कोरोना पॉजिटिव होने की खबर के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने खुद पहल करके अपनी और संपर्क में रहने वाले अधिकारियों, कर्मियों की जांच कराई। देर रात इन सबकी रिपोर्ट निगेटिव आई थी। उपमुख्यमंत्री और विधानसभा अध्यक्ष की भी कोरोना जांच की गई थी। रविवार को मोदी और चौधरी की रिपोर्ट निगेटिव आई थी।

101 लोगों की हो चुकी है कोरोना से मौत
बिहार में कोरोना के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। पिछले तीन दिनों से लगातार रिकॉर्ड पॉजिटिव मरीज मिल रहे हैं। आज मरीजों की संख्या 12140 है। कोरोना से मरने वालों की संख्या भी 101 हो गई है। अभी तक कुल 9014 संक्रमित स्वस्थ हो चुके हैं।

अगस्त-सितंबर तक स्थिति हो सकती है विस्फोटक
तेजस्वी यादव ने अपने ट्वीट में लिखा है कि सरकार को कहीं कोई चिंता नहीं। ना जांच की, ना इलाज की। पूरा मंत्रिमंडल, प्रशासन और सरकार चुनावी तैयारियों में व्यस्त है। सरकार आंकड़े छिपा रही है। अगर सरकार नहीं संभली तो अगस्त-सितंबर तक स्थिति और विस्फोटक हो सकती है।

एमएलसी गुलाम गौस और उनकी पत्नी भी संक्रमित
जदयू के एमएलसी गुलाम गौस और उनकी पत्नी भी कोरोना पॉजिटिव हो गई हैं। इससे पहले 4 जुलाई को विधान परिषद के कार्यकारी सभापति अवधेश नारायण सिंह की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई थी। इसके बाद गुलाम गौस और उनकी पत्नी का सैंपल लिया गया था। कार्यकारी सभापति ने हाल ही में एक जुलाई को 9 एमएलसी को शपथ दिलाई थी। जिन एमएलसी को शपथ दिलाई गई थी, उनमें ज्यादातर का सैंपल लिया गया था। अभी सभी की रिपोर्ट नहीं आई है।