Asianet News HindiAsianet News Hindi

गंगा नदी में बहे 10 लोग, परिजनों की चीख से इलाके में पसरा मातम, जानें कैसे हुआ पटना में भीषण हादसा

बिहार के पटना में दो नावों की टकरे के बाद करीब 50 लोग गंगा नदी में बह गए। मौके पर पहुंची रेस्क्यू टीम ने 40 लोगों को सुरक्षित निकाल लिया लेकिन 10 लोगों का अभी तक कोई पता नहीं चला है। हादसा रविवार को हुआ। 

patna news maner boat sinks 10 people were missing know accident pwt
Author
First Published Sep 5, 2022, 1:29 PM IST

पटना. बिहार में एक बड़ा हादसा सामने आया है। गंगा नदी में दो नावों के आपस में टकराने से उसपर सवार करीब 50 लोग गंगा नदी में गिर गए। कई लोग सुरक्षित निकल कर नदी के किनारे आ गए जबकि 10 लोग अब भी लापता हैं। इनमें कई महिलाएं और बच्चे भी शामिल हैं।  प्रशासन लापता लोगों की तलाश करने के लिए रेस्क्यू चला रही है। एसडीआरएफ की टीम नदी में उतर गई है। आशंका जताई जा रही है कि नदी के तेज बहाव में 10 से अधिक लोग बह गए हैं। घटना के बाद वहां चीख-पुकार मच गई। आस-पास के लोग भी नदी में गिरे लोगों को बचाने में जुट गए। यह हादसा रविवार की देर शाम शाहपुर थाना क्षेत्र के शेरपुर घाट पर हुआ। 

नदी के तेज बहाव के कारण नाव आपस में टकराई
बताया जा रहा है कि शाहपुर थाना क्षेत्र के दाउद पुर में रहने वाले करीब 50 लोग दो नावों पर सवार होकर चारा लेकर वापस लौट रहे थे। शेरपुर घाट के पास नदी के तेज वहाव में दोनों नाव आपस में टकरा गई। जिस कारण नाव नदी में पलट गई। उसपर सवार सभी लोग भी नदी में गिर गए। करीब 40 लोग सुरक्षित बाहर निकल आए जबकि करीब 10 लोग नदी के तेज वहाव में डूब गए।

घटना स्थल पर लोगों की भारी भीड़
रविवार की देर शाम हुई इस घटना के बाद पुलिस के अलावा स्थानीय लोग भी मौके पर जुटे। देर शाम से रेस्क्यू का काम शुरु कर दिया गया। लेकिन लापता लोगों का शव मिला। जिसके बाद सोमवार को दोबारा रेस्क्यू टीम नदी में उतरी और लापता लोगों की तलाश कर रही है। लापता लोगों के परिजन भी घटना स्थल पर मौजूद हैं। परिवार के लोग सदमे में हैं। लापता लोगों में एक का भी शव अब तक नहीं मिला है। दाउदपुर निवासी रामाधार राम, भोला कुमारी, कंचन देवी, कुमकुम देवी, विनोद राय समेत करीब 10 लोग लापता हैं। 

घाट पर होता है नावों का परिचालन
गंगा नदी के शेरपुर घाट पर अक्सर नावों का परिचालन होता है। नाव के सहारे लोग नदी के उसपार जाते हैं। लोगों को नावों पर ले जाने के लिए नाविकों के पास सुरक्षा के कोई इंतजाम नहीं रहता है। नाव पर भी क्षमता से अधिक लोगों को बैठाया जाता है। इस घटना में लोग प्रशासन की लापरवाही भी मान रहे हैं। लोगों का कहना है कि प्रशासन कभी जांच ही नहीं करता जिसके चलते नाविक लोगों की सुरक्षा के साथ खिलवाड़ करते हैं।

इसे भी पढ़ें- JDU अध्यक्ष ने कहा- 2024 में बीजेपी को 150 सीटों में समेट देंगे, नीतीश ने टोकते हुए किया बड़ा दावा

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios