मुंबई. कोरोना वायरस और लॉकडाउन के चलते बॉलीवुड इंडस्ट्री की सूरत ही बदल दी है। 19 मार्च से शूटिंग और सिनेमा हॉल बंद हैं। नतीजा ये है कि हिंदी सिनेमा के इतिहास में पहली बार बॉक्सऑफिस कलेक्शन जीरो हो गया। यदि अलग-अलग प्लेटफॉर्म पर भी नजर डाले तो इस साल जून तक सिर्फ 50 फिल्में ही रिलीज हो सकी है। इतना ही नहीं इस दौरान इंडस्ट्री ने कई बड़े स्टार्स भी खो दिए। इनमें भी सबसे ज्यादा हैरान करने वाली घटना सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या रही है। एक टैलेंटेड सितारे की आत्महत्या ने बॉलीवुड में मूवी माफिया और भाई-भतीजावाद को उजागर कर दिया। हालांकि, अब लॉकडाउन में ढील मिल गई है और धीरे-धीरे चीजें पटरी पर आ रही है। 


6 महीनों में सिर्फ 50 फिल्में 
कोरोना महामारी के कारण मार्च से ही फिल्मों की शूटिंग और पोस्ट प्रोडक्शन का काम बंद है। 13 मार्च को अंग्रेजी मीडियम की रिलीज के बाद से जून 2020 तक कोई भी फिल्म थिएटर में रिलीज नहीं हुई है। टोटल लॉकडाउन से पहले थिएटर्स में 35 फिल्में ही रिलीज हुई थीं। ऐसा पहली बार हुआ कि बड़े स्टार्स की कोई फिल्म सिनेमाघरों में रिलीज होने की जगह ओटीटी प्लेटफॉर्म पर रिलीज हुई। यह अमिताभ बच्चन-आयुष्मान खुराना की गुलाबो सिताबो थी, जो 12 जून को  रिलीज हुई थी। इसी कड़ी में अगला नाम गुंजन सक्सेना, शकुंतला देवी, लक्ष्मी बॉम्ब जैसी फिल्मों का भी है। 


हुआ भारी नुकसान
2020 में रिलीज हुई 50 फिल्मों में से केवल 2 फिल्में ही बॉक्स ऑफिस कलेक्शन में 100 करोड़ का आंकड़ा पार कर सकीं। तान्हाजी ने कमाई के मामले में रिकॉर्ड बनाया। 10 जनवरी को रिलीज तान्हाजी की कुल कमाई 367.65 करोड़ रही। 100 करोड़ का आंकड़ा पार करने वाली दूसरी फिल्म टाइगर श्रॉफ की बागी 3 रही, जिसने 137.05 करोड़ का बिजनेस किया। स्ट्रीट डांसर 3डी केवल 97 करोड़ ही कमा सकी। वहीं, दीपिका पादुकोण की फिल्म छपाक 10 जनवरी को रिलीज हुई थी। इसके पहले दीपिका जेएनयू में धरने पर बैठे छात्रों के बीच पहुंच गईं। उन्होंने वहां कोई बयान तो नहीं दिया लेकिन वहां जाना उनकी मौन सहमति माना गया। इसका सीधा असर फिल्म के कलेक्शन पर पड़ा। उनकी फिल्म महज 55.44 करोड़ रुपए की कमा पाई। 


बॉक्सऑफिस कलेक्शन जीरो
यह पहला मौका है जब बॉक्सऑफिस कलेक्शन जीरो हुआ है। ट्रेड एनालिस्ट तरण आदर्श का कहना है कि इंडस्ट्री बहुत बुरा दौर से गुजर रही है। न्यूजीलैंड में थिएटर्स शुरू हुए हैं, अमेरिका में जुलाई से थिएटर खुलेंगे। तब वहां हमारी फिल्में रिलीज होंगी। उम्मीद है यहां भी जल्द ही सब ठीक होगा। शुरुआत के सिर्फ तीन महीने ही फिल्में थिएटर तक पहुंची। पिछले साल जून तक फिल्मों का कलेक्शन 17 सौ करोड़ के आस-पास था। इस साल तीन महीनों से कोई रिलीज नहीं हुई, मार्च तक करीब 600 करोड़ की कमाई ही हुई।