Asianet News Hindi

10 दिन की बच्ची के दिल में था छेद, मां-बाप के पास नहीं थे इलाज के पैसे; सोनू सूद ने मुंबई बुलाकर करवाया ऑपरेशन

कोरोना महामारी के दौर में गरीब और जरूरतमंद लोगों की मदद करने वाले सोनू सूद (Sonu Sood) अब राजस्थान में 10 दिन की एक बच्ची के लिए फरिश्ता बनकर सामने आए हैं। जालोर की रहने वाली इस बच्ची के दिल में छेद है। बच्ची के घरवालों के पास इतनी पूंजी नहीं थी कि ऑपरेशन का खर्चा उठा सके। ऐसे में सोशल मीडिया पर बच्ची के लिए मदद मांगी गई। मामला जब सोनू सूद तक पहुंचा तो उन्होंने बच्ची के ऑपरेशन की जवाबदारी ली। इसके बाद मुंबई में बच्ची का ऑपरेशन हुआ और अब वो पूरी तरह ठीक है।

Sonu Sood got the treated of 10 day old girl kpg
Author
Mumbai, First Published Jun 22, 2021, 6:58 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

मुंबई। कोरोना महामारी के दौर में गरीब और जरूरतमंद लोगों की मदद करने वाले सोनू सूद (Sonu Sood) अब राजस्थान में 10 दिन की एक बच्ची के लिए फरिश्ता बनकर सामने आए हैं। जालोर की रहने वाली इस बच्ची के दिल में छेद है। बच्ची के घरवालों के पास इतनी पूंजी नहीं थी कि ऑपरेशन का खर्चा उठा सके। ऐसे में सोशल मीडिया पर बच्ची के लिए मदद मांगी गई। मामला जब सोनू सूद तक पहुंचा तो उन्होंने बच्ची के ऑपरेशन की जवाबदारी ली। इसके बाद मुंबई में बच्ची का ऑपरेशन हुआ और अब वो पूरी तरह ठीक है। सोनू सूद की मदद पर बच्ची के पड़ोसी दिलीप सोलंकी ने एक्टर का आभार जताया है। इस पर सोनू सूद ने उन्हें जवाब देते हुए पूछा- दोस्त पार्टी कब दोगे?

बच्ची का आरती उतारकर किया गया स्वागत : 
ऑपरेशन के बाद सोमवार को जब बच्ची अपने घर जालोर पहुंची तो यहां आरती उतार कर उसका स्वागत किया गया। बच्ची का नाम भी सोनू सूद के नाम पर सोनू रखा गया है। बच्ची के पड़ोस में रहने वाले दिलीप सोलंकी ने ट्वीट करते हुए लिखा- सर आपकी मदद से सोनू के दिल का ऑपरेशन हुआ और उसे एक नया जीवन मिला है। हितेश जी जैन बच्ची को जालोर घर तक लेकर पहुंच गए हैं। इस मदद के लिए भगाराम माली का परिवार जीवन भर आपका आभारी रहेगा...धन्यवाद। 

सोनू सूद ने पूछा-दोस्त अब पार्टी कब दोगे?
दिलीप सोलंकी के इस ट्वीट पर सोनू सूद ने जवाब देते हुए पूछा- आज की सबसे खूबसूरत तस्वीर! मुझे पार्टी कब दोगे दोस्त? बता दें कि जन्म से ही सोनू के दिल में छेद था। बच्ची के पड़ोसी ने ट्वीट कर सोनू सूद से मदद मांगी तो उन्होंने ऑपरेशन करवाने का जिम्मा लिया। 10 जून को पिता भगाराम माली के साथ बच्ची को एंबुलेंस से मुंबई ले जाया गया था। जहां पर मुंबई के एक अस्पताल में 14 जून को सर्जरी की गई। इसके बाद 6 दिन तक डॉक्टरों की निगरानी में रहने के बाद 20 जून को उसे अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios