नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट के फटकार के बाद एक ही दिन में कई टेलिकॉम कंपनियों ने एजीआर बकाए का भुगतान किया। एयरटेल ने वादे के मुताबिक, आज 10 हजार करोड़ जमा किया है, जबकि वोडाफोन आइडिया ने 2500 करोड़ रुपये और टाटा समूह ने 2190 करोड़ रुपये जमा कराए हैं। आधिकारिक सूत्रों ने यह जानकारी दी है। सुप्रीम कोर्ट ने टेलिकॉम कंपनियों के खिलाफ एजीआर बकाए को लेकर कड़ा रुख अपनाया है। कंपनियों को 17 मार्च से पहले पूरा बकाया चुकाना है।

सुप्रीम कोर्ट ने के आदेश पर डिपार्टमेंट ऑफ टेलिकम्युनिकेशन्स (DoT) की तरफ से साफ-साफ कहा गया कि अगर टेलिकॉम कंपनियां बकाए का भुगतान नहीं करती हैं तो उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। ऐसी परिस्थिति में कंपनियों के बैंक डिपॉजिट्स सील की जा सकती हैं। अगली कार्रवाई के रूप में लाइसेंस कैंसिल कर दिए जाएंगे।

एयरटेल ने 10 हजार करोड़ का भुगतान किया

आधिकारिक सूत्रों के अनुसार वोडाफोन आइडिया ने 2,500 करोड़ रुपये और टाटा समूह ने 2,190 करोड़ रुपये जमा कराए हैं। सुप्रीम कोर्ट की फटकार के बाद सरकार ने टेलिकॉम कंपनियों पर एजीआर के बकाए की वसूली को लेकर के खिलाफ कड़ा रुख अपनाया है। इस सख्ती के बीच भारती एयरटेल ने सोमवार को बकाए में से दूरसंचार विभाग को 10,000 करोड़ रुपये का भुगतान किया। कंपनी ने कहा कि वह बाद में शेष राशि का भुगतान करेगी।

1.47 लाख करोड़ रुपये बकाए

टेलिकॉम कंपनियों को सरकार को बकाए के तौर पर 1.47 लाख करोड़ रुपये जमा करने हैं। सरकार को उम्मीद है कि इसमें से 1.13 लाख करोड़ रुपये वसूले जा सकते हैं, क्योंकि शेष राशि जिन कंपनियों पर बकाया है, वे कंपनियां कारोबार पहले ही समेट चुकी हैं। रिलायंस कम्युनिकेशंस और एयरसेल इस समय दिवाला प्रक्रिया से गुजर रही हैं। रिलायंस जियो कुल बकाए का भुगतान कर चुकी है।