Asianet News Hindi

आनंद महिंद्रा ने ऑटो चलाने को मजबूर पूर्व नेशनल बॉक्सर आबिद खान को दी मदद, खुलवाना चाहते बॉक्सिंग एकेडमी

देश के जाने-माने उद्योगपति और महिंद्रा ग्रुप के चेयरमैन आनंद महिंद्रा (Anand Mahindra) सोशल मीडिया पर एक्टिव रहने के साथ जरूरतमंद लोगों की मदद करने में भी आगे रहते हैं। अभी उन्होंने बॉक्सिंग के पूर्व नेशनल प्लेयर आबिद खान (Abid khan) की मदद की है, जो गरीबी की वजह से ऑटो चलाने पर मजबूर हो गए।
 

Anand Mahindra helps former national boxing player Abid khan MJA
Author
Mumbai, First Published Apr 18, 2021, 5:52 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

बिजनेस डेस्क। देश के जाने-माने उद्योगपति और महिंद्रा ग्रुप के चेयरमैन आनंद महिंद्रा (Anand Mahindra) सोशल मीडिया पर एक्टिव रहने के साथ जरूरतमंद लोगों की मदद करने में भी आगे रहते हैं। अभी उन्होंने बॉक्सिंग के पूर्व नेशनल प्लेयर आबिद खान (Abid khan) की मदद की है, जो गरीबी की वजह से ऑटो चलाने पर मजबूर हो गए। बता दें कि आबिद खान एक प्रशिक्षित कोच भी हैं। उन्हें कहीं कोई जॉब नहीं मिल सकी। इसके बाद उन्होंने ऑटो चलाना शुरू कर दिया और इसकी आमदनी से परिवार का भरन-पोषण करने लगे। 

कैसे आनंद महिंद्रा को मिली जानकारी
इसी बीच, स्पोर्ट्स गांव (Sports Gaon) यू-ट्यूब चैनल चलाने वाले जर्नलिस्ट सौरभ दुग्गल ने आबिद खान की कहानी पर आधारित एर वीडियो बनाया और उसे ट्विटर पर पोस्ट कर दिया। आनंद महिंद्रा ट्विटर पर काफी एक्टिव रहते हैं। उन्होंने इस वीडियो को रिट्वीट किया और इसके लिए सौरभ दुग्गल को धन्यवाद दिया। 

क्या लिखा आनंद महिंद्रा ने
आनंद महिेंद्रा ने सौरभ दुग्गल के वीडियो की रिट्वीट करते हुए लिखा - "आबिद की स्टोरी बताने के लिए धन्यवाद। मैं इस बात के लिए उनकी सराहना कर रहा हूं कि वे किसी से मदद नहीं मांग रहे। मैं चैरिटी करने की जगह उनकी प्रतिभा का इस्तेमाल करने के लिए निवेश करना पसंद करूंगा। कृपया मुझे बताएं कि मैं कैसे उनकी स्टार्टअप बॉक्सिंग एकेडमी में निवेश कर सकता हूं और उसे सपोर्ट कर सकता हूं।" 

आबिद खान ने क्या कहा
वीडियो में आबिद खान यह कहते दिख रहे हैं कि गरीबी सबसे बड़ा अभिशाप है। इससे भी बड़ा अभिशाप यह है कि वे स्पोर्ट्स लवर हैं, लेकिन इसमें समय की बर्बादी के सिवा और कुछ भी नही है। आबिद खान कहते हैं कि उन्होंने कई अचीवमेंट हासिल किए, डिप्लोमा तक किया, लेकिन कोई जॉब नहीं मिली। इसकी वजह यह है कि बॉक्सिंग में गरीब और मिडल क्लास के लोग आते हैं। वहीं क्रिकेट, टेनिस और बैडमिंटन में पैसे वाले लोग आते हैं।

पहले भी लोगों की मदद कर चुके हैं महिंद्रा
यह पहला मौका नहीं है जब आनंद महिंद्रा किसी जरूरतमंद और प्रतिभाशाली व्यक्ति की मदद के लिए आगे आए हैं। पहले भी कई बार वे ऐसा कर चुके हैं। वे अक्सर सोशल मीडिया पर फोटो और वीडियो शेयर करते रहते हैं। वे इसके जरिए लोगों के सामने चैलेंज भी रखते हैं और जरूरतमंद लोगों की मदद करने का कोई मौका नहीं चूकते।

  
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios