Asianet News HindiAsianet News Hindi

बैंक के सेविंग अकाउंट्स में ज्यादा ब्याज पाने के लिए करना होगा यह काम, जानें पूरा प्रोसेस

सेविंग अकाउंट में भी आप अच्छा ब्याज पा सकते हैं। खास कर कुछ बैंक यह सुविधा दे रही है। अभी एफडी पर ही बढ़िया ब्याज मिलता है। चलिए आपको बताते हैं कि सेविंग अकाउंट में भी आप कैसे ब्याज पा सकते हैं। 

Get more interest rates on savings account know details MAA
Author
New Delhi, First Published Aug 13, 2022, 10:17 AM IST

बिजनेस डेस्क। आम तौर पर बैंक सेविंग्स अकाउंट पर एफडी (Fixed Deposit) की तुलना में कम ब्याज मिलता है। लेकिन बैंक कुछ ऐसी खास सुविधा देते हैं, जिसके जरिए सेविंग्स अकाउंट में ज्यादा ब्याज हासिल किया जा सकता है। इससे आपको अपनी सेविंग्स पर ज्यादा मुनाफा होगा। लोग फिक्स्ड डिपॉजिट की जगह सेविंग्स अकाउंट में पैसा इसलिए रखते हैं, ताकि जब भी उन्हें नकदी की जरूरत पड़े, तो वे निकाल सकें। फिक्स्ड डिपॉजिट में यह संभव नहीं है। जानें कैसे सेविंग्स अकाउंट में जमा राशि पर ज्यादा ब्याज हासिल कर सकते हैं।

इस सुविधा को जानें
आजकल किसी भी बैंक के सेविंग्स अकाउंट में  'Sweep-out' और 'Sweep-in' की सुविधा मिलती है। इस सुविधा के जरिए आप आसानी से अपने सेविंग्स अकाउंट में जमा राशि पर ज्यादा ब्याज हासिल कर सकते हैं। 

कैसे मिलेगा ज्यादा ब्याज
बैंक सेविंग्स अकाउंट में यह सुविधा देते हैं, जिसमें जरूरत से ज्यादा रकम को ऑटोमैटिक तरीके से फिक्स्ड डिपॉजिट में डाला जा सकता है। अगर आपको पैसों की जरूरत है और बैंक के पास पूंजी की कमी है तो यह फिक्स्ड डिपॉजिट अपने आप डिजॉल्व हो जाता है।

ज्यादा होती है कमाई
जब सेविंग्स अकाउंट में जमा पैसा फिक्स्ड डिपॉजिट में चला जाता है तो इस पर ज्यादा ब्याज मिलता है। लिंक्ड एफडी में यह सुनिश्चित होता है कि आपके जमा अमाउंट पर ज्यादा ब्याज दर मिले। यह दर आम सेविंग्स अकाउंट की तुलना में ज्यादा होती है। इससे कमाई बढ़ जाती है।

क्या है इसकी खासियत
इस सुविधा से जुड़ी खास बात यह है कि आपको अपने अकाउंट में सरप्लस मनी को बार-बार ट्रैक नहीं करना पड़ेगा। जब आप बैंक को सेविंग्स अकाउंट को टर्म डिपॉजिट में बदलने का इंस्ट्रक्शन देंगे तो यह प्रॉसेस अपने आप पूरी हो जाएगी।

आपको तय करनी होगी सरप्लस रकम
सबसे पहले आपको बैंक को यह जानकारी देनी होगी कि आप अपने सेविंग्स अकाउंट पर यह सुविधा लेना चाहते हैं। इसके बाद कितनी सरप्लस रकम इस सुविधा के लिए आप इस्तेमाल करना चाहते हैं, यह आपको ही तय करना होगा और बैंक को इसके बारे में बताना होगा। आम तौर पर बैंकों में इसकी सीमा 10 हजार रुपए से लेकर 1 लाख रुपए तक होती है। 

इस एफडी की मेच्योरिटी के नियम
जब आपके बैंक अकाउंट में आपने जो रकम की लिमिट तय कर दी है, उससे ज्यादा पैसा होगा तो बैंक अपने आप उस अतिरिक्त रकम को एफडी में डाल देगा। इस एफडी की मेच्योरिटी की अवधि 1 साल से लेकर 10 साल तक की हो सकती है। जब यह एफडी मेच्योर हो जाती है तो अपने आप रिन्यू भी हो जाती है। इस सुविधा को महिलाओं औप बच्चों के स्पेशल अकाउंट से भी जोड़ा जा सकता है। 

यह भी पढ़ें- ग्रामीण इलाकों में भी लोग पोस्ट ऑफिस की बचत योजनाओं में कर सकते हैं निवेश, सरकार ने आसान कर दिया है नियम

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios