Asianet News HindiAsianet News Hindi

Loan Guarantor: लोन गारंटर बनने से पहले जान लें ये नियम, वरना पड़ सकते हैं लेने के देने

बैंक या फिर कोई भी फाइनेंशियल कंपनी बिना गारंटर (Guarantor) के लोन नहीं देती है। वैसे, गारंटर बनना भी किसी जोखिम से कम नहीं है, क्योंकि अगर लोन लेने वाला शख्स उसे नहीं चुका पाता है तो उसकी जिम्मेदारी गारंटी देने वाले की होती है। गारंटर बनने से पहले जान लें ये नियम वरना पड़ सकते हैं मुसीबत में।

Know these rules before becoming a loan guarantor, otherwise you may get into trouble KPG
Author
First Published Aug 28, 2022, 7:47 PM IST

मुंबई। बैंक या फिर कोई भी फाइनेंशियल कंपनी बिना गारंटर (Guarantor) के लोन नहीं देती है। वैसे, गारंटर बनना भी किसी जोखिम से कम नहीं है, क्योंकि अगर लोन लेने वाला शख्स उसे नहीं चुका पाता है तो उसकी जिम्मेदारी गारंटी देने वाले की होती है। गारंटर बनने के लिए लोन लेने वाले शख्स के साथ ही आपको भी कई डॉक्यूमेंट्स पर साइन करने पड़ते हैं। अगर किन्हीं हालातों में लोन लेने वाला उसे नहीं चुका पाता है तो बैंक आपके घर भी नोटिस भेज देगा। ऐसे में किसी भी तरह की लोन गारंटी देने से पहले कुछ नियमों को जानना बेहद जरूरी है, वरना लेने के देने पड़ सकते हैं। 

कौन होता है गारंटर?
गारंटर वो होता है, जो एक तरह से किसी और के कर्ज का भुगतान करने की जिम्मेदारी ले रहा होता है। गारंटर होने का मतलब सिर्फ ये नहीं है कि आप सामने वाले की लोन लेने में मदद कर रहे हैं बल्कि उसके द्वारा लोन न चुका पाने की स्थिति में बैंक आपको नोटिस भेजकर कर्ज चुकाने के लिए भी कह सकता है। हालांकि, गारंटर के लिए हर एक बैंक के अपने अलग-अलग नियम हैं। 

गारंटर को पड़ सकते हैं लेने के देने :
नियम कहते हैं कि किसी को लोन की गांरटी देने वाला शख्स लोने लेने वाले के बराबर ही कर्ज का भागीदार होता है। अगर लोन लेने वाला डिफॉल्ट करता है तो बैंक सबसे पहले डिफॉल्टर को नोटिस भेजता है। वहां से कोई जवाब न मिलने पर गारंटर को भी नोटिस भेजा जाता है। बैंक कोशिश करता है कि लोन लेने वाले से ही कर्ज की सारी राशि वसूली जाए, लेकिन वो लोन चुका पाने में असमर्थ होता है तो ऐसी परिस्थिति में गारंटर को भी जिम्मेदार माना जाता है। 

गारंटर को आ सकती है लोन लेने में दिक्कत : 
लोन गारंटर बनने के दौरान हमारा क्रेडिट स्कोर अहम होता है। नियमों के मुताबिक आपके क्रेडिट की जांच की जाती है। जैसे आपने बैंक से लोन लिया है, तो उसकी ईएमआई का स्टेटस क्या है। अगर क्रेडिट कार्ड इस्तेमाल कर रहे हैं, तो बिल का भुगतान वक्त पर कर रहे हैं या नहीं। अगर लोन लेने वाला व्यक्ति उसे नहीं चुका पाता है, तो आपका भी क्रेडिट स्कोर खराब हो जाएगा। फिर जब कभी आप लोन लेने जाएंगे तो आपको भी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है।

क्यों जरूरी है गारंटर?
बैंक हर तरह के लोन पर गारंटर नहीं मांगता है। लेकिन कई बार उन्हें लोन लेने वाले की ओर से पर्याप्त दस्तावेज उपलब्ध नहीं कराए जाते हैं। ऐसे में बैंक को ये शंका रहती है कि सामने वाला कर्ज चुका पाएगा या नहीं। इसी आधार पर बैंक लोन लेने वाले से गारंटर लाने को कहता है। इसकी अलावा कोई बड़ा लोन ले रहा है तब भी गारंटर की जरूरत पड़ती है। 

ये भी देखें : 

21 रुपए में महीनेभर की वैलेडिटी, जानें किस कंपनी ने निकाला ये बेहतरीन ऑफर

अब हाईवे पर नहीं होंगे टोल प्लाजा, गाड़ी की नंबर प्लेट पढ़ेगा कैमरा और ऑटोमैटिक कट जाएगा पैसा

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios