बिजनेस डेस्क। रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन और डायरेक्टर मुकेश अंबानी ने पिछले हफ्ते कंपनी के लक्ष्य से पहले ही कर्जमुक्त होने का ऐलान किया था। कंपनी ने मार्च 2021 में पूर्ण रूप से कर्जमुक्त होने का लक्ष्य रखा था, मगर जियो प्लेटफॉर्म्स में बड़े निवेशों और राइट्स इश्यू के जरिए कंपनी ने तय वक्त से पहले ही लक्ष्य हासिल कर लिया। अब अगले महीने कंपनी की सालाना आम बैठक (एजीएम) होने जा रही है। 
 
एजीएम 15 जुलाई को होगी। हालांकि कोरोना की वजह से इस बार वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग या दूसरे ऑडियो-वीडियो मीडियम से एजीएम होगी। ये कंपनी का 43वां एजीएम है। फिलहाल मार्केट कैप के मामले में रिलायंस इंडस्ट्रीज इस वक्त देश की सबसे बड़ी कंपनी है। 

फंड मिलने के साथ ही बढ़ती गई कीमत 
कोरोना महामारी और लॉकडाउन के बीच रिलायंस के बिजनेस में जबरदस्त उछाल देखने को मिला। पिछले कुछ महीनों में रिलायंस के शेयरों में शानदार तेजी बनी रही। कर्जमुक्त होने के प्रक्रिया में जैसे-जैसे निवेश के रूप में कंपनी के पास फंड आते गए, शेयरों के दाम बढ़ते गए। मंगलवार को दोपहर तक रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के एक शेयर का भाव 1726 रुपये पर था। सोमवार को इसने 1804 रुपये का स्तर छू लिया था। ये अब तक का सबसे ऊंचा रेट है। 

दुनिया की बड़ी एनर्जी कंपनियों में रिलायंस 
इस वक्त रिलायंस इंडस्ट्री भारत में 150 अरब डॉलर वैल्यूशन वाली पहली है। कंपनी दुनिया में सबसे ज्यादा वैल्यूएशन वाली एनर्जी कंपनियों में शामिल है।