Asianet News HindiAsianet News Hindi

बचत योजनाओं पर अब मिलेगा इतना ब्याज, हर तिमाही बदलता है इंटरेस्ट रेट, देखें कितना फायदा कितना नुकसान

सरकार ने  तिमाही आधार ब्याज दरों का ऐलान कर दियाहै। पब्लिक प्रोविडेंट फंड (पीपीएफ) पर 7.1 प्रतिशत सालाना की ब्याज दर है, इसमें भी परिवर्तन नहीं किया जायेगा। राष्ट्रीय बचत प्रमाणपत्र (एनएससी) पर 6.8 प्रतिशत की ब्याज मिलती है। सरकार ने सुकन्या स्मृद्धि योजना, पांच साल की वरिष्ठ नागिरक बचत योजना की ब्याज दरों के संबंध में भी निर्देश दे दिए हैं, देखें अब आपकी बचत पर कितना ब्याज मिलेगा.. 

Now you will get so much interest on your savings   Interest rate changes every quarter   see how much profit how much loss
Author
Bhopal, First Published Sep 30, 2021, 10:17 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

बिजनेस डेस्क । केंद्र सरकार ने  तिमाही आधार पर ब्याज दरों में बदलाव नहीं करने का फैसला किया है। पब्लिक प्रोविडेंट फंड (पीपीएफ) और सुकन्या समृद्धि योजना समेत अन्य छोटी बचत योजनाओं के इंटरेस्ट रेट में कोई बदलाव नहीं किया गया है। ऐसा छठवीं बार हुआ है जब जब ब्याज दरों में बदलाव नहीं किया गया है। सरकार के फैसले के बाद अक्टूबर-दिसंबर तिमाही के लिए ब्याज दरें यथावत रहेंगी।  सरकार के इस फैसले के बाद थोड़ी खुशी थोड़ा गम का माहौल है, दरअसल जो व्यक्ति इसमें बढ़त की उम्मीद लगाए थे, उन्हें निराशा हुई है। वहीं ब्याज दरों में कमी ना करके सरकार ने लोगों को राहत दी है। 

विभिन्न बचतों पर ब्याज की दर
बैंक में बचत खाता में जमा राशि पर  4 प्रतिशत की दर से सालाना ब्याज दिया जाता है इसमें कोई फेरबदल नहीं किया गया है। ।
सुकन्या स्मृद्धि योजना पर 7.6 प्रतिशत सालाना की दर से ब्याज मिलता है। ये भी ज्यों का त्यों रखा गया है।  पांच साल की वरिष्ठ नागिरक बचत योजना पर 7.4 प्रतिशत ब्याज दिया जाता है, इसमें कोई परिवर्तन नही किया गया है। एक साल की सावधि जमा योजना पर ब्याज दर 5.5 प्रतिशत पर बनी रहेगी। 

पब्लिक प्रोविडेंट फंड की ब्याज दर में कोई बदलाव नहीं
वहीं पब्लिक प्रोविडेंट फंड (पीपीएफ) पर 7.1 प्रतिशत सालाना की ब्याज दर है, इसमें भी परिवर्तन नहीं किया जायेगा। राष्ट्रीय बचत प्रमाणपत्र (एनएससी) पर 6.8 प्रतिशत की ब्याज मिलती है।

अक्टूबर से दिसंबर अवधि में ब्याज दरों के लिए दिए निर्देश

केंद्र सरकार की ओर से तिमाही आधार पर इंटरेस्ट रेट में बदलाव किया जाता है। इस तिमाही का आज यानि 30 सितंबर को अंतिम दिन था । केंद्र सरकारन ने स्पष्ट कर दिया है कि आगामी तिमाही यानी अक्टूबर से दिसंबर तक के लिए ब्याज दरें यथावत रहेंगी। 


 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios