बिजनेस डेस्क। पंजाब नेशनल बैंक ले 11 हजार करोड़ रुपए की धोखाधड़ी कर देश छोड़ कर भाग चुके हीरा व्यापारी नीरव मोदी (Nirav Modi) को भारत में जल्द प्रत्यावर्तित करने के लिए भारत के विदेश मंत्रालय ने यूके की अथॉरिटीज से आग्रह किया है। बता दें कि लंदन की वेस्टमिंस्टर मैजिस्ट्रेट की कोर्ट ने नीरव मोदी को भारत प्रत्यावर्तित किए जाने का फैसला सुना दिया है। भारत सरकार चाहती है कि इस भगोड़े को जल्द से जल्द भारत लाया जाए और उस पर कानूनी कार्रवाई की जाए। 

स्कैम और मनी लॉन्ड्रिंग का है आरोप
हीरा व्यापारी नीरव मोदी पर कई स्कैम और मनी लॉन्ड्रिंग का आरोप है। पंजाब नेशनल बैंक से 11 हजार करोड़ रुपए की धोखाधड़ी के अलावा उस पर दूसरे मामले भी चल रहे हैं। प्रवर्तन निदेशालय उसके खिलाफ 14 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा के घोटाले की जांच कर रहा है। उसकी अब तक 2348 करोड़ की संपत्ति भी जब्त की जा चुकी है।

क्या कहा विदेश मंत्रालय ने
विदेश मंत्रालय के स्पोक्सपर्सन अनुराग श्रीवास्तव (Anurag Srivastava) ने कहा कि वेस्टमिंस्टर मैजिस्ट्रेट की कोर्ट ने यूके के होम सेक्रेटरी को नीरव मोदी को जल्द भारत प्रत्यावर्तित करने के लिए निर्देश दिया है। उन्होंने कहा कि विदेश मंत्रालय नीरव मोदी के जल्द प्रत्यावर्तन के लिए यूके अथॉरिटीज के लगातार संपर्क में है।

2018 से चल रही प्रत्यावर्तन की प्रक्रिया
सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय के कहने पर नीरव मोदी के प्रत्यावर्तन की प्रक्रिया अगस्त 2018 से ही चल रही है। उसका मामला यूके की अदालत में चलता रहा। नीरव मोदी को 20 मार्च, 2019 को गिरफ्तार किया गया और वेस्टमिंस्टर मैजिस्ट्रेट की अदालत के सीनियर डिस्ट्रिक्ट जज के सामने पेश किया गया था।