वाशिंगटन: अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कोरोना वायरस के कारण चुनौतियों से जूझ रही अमेरिकी अर्थव्यवस्था को संभालने के लिये गठित कॉरपोरेट जगत के अग्रणी लोगों के एक समूह में भारतीय मूल के छह शख्सियतों को शामिल किया है। 

ट्रंप सरकार के इस  ग्रुप में गूगल के सुंदर पिचई और माइक्रोसॉफ्ट के सत्य नडेला को भी शामिल किया गया है। ट्रंप ने विभिन्न उद्योगों और वर्गों के 200 से अधिक शीर्ष अमेरिकी दिग्गजों को लेकर करीब ढेड़ दर्जन विभिन्न समूहों का गठन किया है। ये समूह राष्ट्रपति को अमेरिकी अर्थव्यवस्था को फिर से पटरी पर लाने के संबंध में सुझाव देंगे। 

कोरोना से बुरी तरह प्रभावित अमेरिकी अर्थव्यवस्था 

अमेरिकी अर्थव्यवस्था कोरोना वायरस महामारी के चलते बुरी तरह प्रभावित हुई है। ट्रंप ने मंगलवार को कोरोना वायरस महामारी के बारे में व्हाइट हाउस में अपने दैनिक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘ये ऐसे नाम हैं, जिनके बारे में मुझे लगता है कि वे सबसे अच्छे और सबसे स्मार्ट और सबसे उत्कृष्ट हैं। वे हमें कुछ विचार देने जा रहे हैं।’’ 

तकनीकी समूह में पिचई और नडेला के अलावा आईबीएम के अरविंद कृष्ण तथा माइक्रोन के संजय मेहरोत्रा शामिल हैं। इसके अलावा पेरनोड रिकार्ड की भारतीय-अमेरिकी एन मुखर्जी को विनिर्माण समूह में स्थान दिया गया है। मास्टरकार्ड से अजय बंगा को फाइनेंशियल सर्विसेज समूह में शामिल किया गया है।

ये भी हैं टीम में शामिल 

एक अन्य ग्रुप में ऐपल के टिम कुक, ओरैकल के लैरी एलिसन और फेसबुक के मार्क जुकरबर्ग शामिल हैं। वहीं मैन्युफैक्चरिंग ग्रुप में कैटरपिल के जिम उम्पलेबी III, टेस्ला के एलन मस्क, फिएट क्रिसलर के माइक मैनले, फोर्ड के बिल फोर्ड और जेनरल के मैरी बारा शामिल हैं।

अमेरिका में मरने वालों की संख्‍या 26 हजार पहुंची

बता दें कि कोरोना वायरस से सबसे ज्‍यादा प्रभावित अमेरिका में मरने वालों की संख्‍या 26 हजार पहुंच गई है। वहीं अमेरिका में संक्रमित लोगों की संख्‍या भी 6,13,886 पहुंच गई है।